comScore

प्रज्ञा समेत 3 नेताओं के बयान पर शाह की सफाई, 'उनके निजी बयान, बीजेपी का संबंध नहीं'


हाईलाइट

  • साध्वी प्रज्ञा सिंह के बयान को अमित शाह ने बताया निजी बयान
  • साध्वी के बयान से भाजपा को कोई संबंध नहीं-अमित शाह
  • साध्वी प्रज्ञा सिंह ने नाथूराम गोडसे को कहा था देशभक्त

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। भोपाल लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रही भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा सिंह का नाथूराम गोडसे को देशभक्त करार देना बीजेपी के गले की फांस बन गया है। यही वजह है कि जैसे ही प्रज्ञा ने विवादित बयान दिया, बीजेपी ने तुरंत उससे किनारा कर लिया और सार्वजनिक माफी मांगने के आदेश दिए। हालांकि उसके बाद भी अनंत हेगड़े और अन्य नेताओं ने गोडसे के पक्ष में बयान दिए, जिसके बाद राजनीतिक नुकसान की आशंका के बीच पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को खुद सफाई देनी पड़ी है। अमित शाह ने इन बयानों को प्रज्ञा और हेगड़े के निजी विचार बताया है। साथ ही एक्शन लेने की बात कही है।

अमित शाह ने अपने ट्विटर अकाउंट से तीन ट्वीट किए हैं। शाह ने लिखा, विगत 2 दिनों में श्री अनंतकुमार हेगड़े साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर और श्री नलीन कटील के जो बयान आये हैं वो उनके निजी बयान हैं, उन बयानों से भारतीय जनता पार्टी का कोई संबंध नहीं है। 

शाह ने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा, इन लोगों ने अपने बयान वापिस लिए हैं और माफी भी मांगी है। फिर भी सार्वजनिक जीवन तथा भारतीय जनता पार्टी की गरिमा और विचारधारा के विपरीत इन बयानों को पार्टी ने गंभीरता से लेकर तीनों बयानों को अनुशासन समिति को भेजने का निर्णय किया है। वहीं शाह ने अपने तीसरे ट्वीट में खिला, अनुशासन समिति तीनों नेताओं से जवाब मांगकर उसकी एक रिपोर्ट 10 दिन के अंदर पार्टी को दे। इस तरह की सूचना दी गई है। 

वहीं मोदी सरकार में केन्द्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने ट्वीट करते हुए कहा, मेरा अकाउंट कल हैक हो गया था। गांधी जी की हत्या को जायज ठहराने का कोई सवाल ही नहीं है। गांधी जी की हत्या का कोई सहानुभूति या औचित्य नहीं हो सकता। गांधी जी के राष्ट्र के लिए जो योगदान दिया हम सभी उसका पूरा सम्मान करते हैं।

बता दें साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को लेकर की अपनी टिप्पणी पर माफी मांग ली है। साध्वी के बयान से बीजेपी ने किनारा कर लिया था जिसके बाद साध्वी ने बयान जारी कर कहा, यह मेरी निजी राय थी। मेरा इरादा किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं था। अगर मैंने किसी को दुख पहुंचाया है तो मैं माफी मांगती हूं। गांधी जी ने देश के लिए जो किया है उसे भुलाया नहीं जा सकता।उन्होंने पार्टी लाइन को अपनी लाइन बताया। साध्वी ने कहा, अपने संगठन बीजेपी में निष्ठा रखती हूं, उसकी कार्यकर्ता हूं और पार्टी की लाइन मेरी लाइन है।

कमेंट करें
5G0Qe