दैनिक भास्कर हिंदी: अमित शाह बोले- कर्नाटक में अगर विधायक बंधक नहीं होते तो वहां हमारी सरकार होती

May 22nd, 2018

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कर्नाटक चुनाव के बाद पहली बार मीडिया से बात की। इस दौरान उन्होंने कहा कि कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़ा दल बनकर उभरी है। कर्नाटक में हमारी पार्टी के वोट शेयर में भारी बढ़ोत्तरी हुई है। इसके लिए उन्होंने जनता का धन्यवाद दिया। वहीं अमित शाह ने कहा कि कर्नाटक में विधायक बंधक नहीं होते तो हमारी सरकार होती।

 

 


अमित शाह की प्रेस कॉन्फ्रेंस की मुख्य बातें:

  • कर्नाटक की जनता ने कांग्रेस के खिलाफ जनादेश दिया। जेडीएस और कांग्रेस का गठबंधन जनादेश के खिलाफ है।
  • कांग्रेस गोवा और मेघालय का बार-बार उदाहरण दे रही है। मैं साफ करना चाहता हूं कि इन दोनों राज्यों में कांग्रेस ने सबसे बड़ा दल होने के नाते सरकार बनाने का दावा ही पेश नहीं किया, मजबूरन राज्यपाल ने दूसरे नंबर के दल (हमें) को बुलाया।
  • हॉर्स ट्रेडिंग का गलत आरोप हम पर लगाया जा रहा है, कांग्रेस ने तो अपना पूरा अस्तबल ही बेच खाया। कांग्रेस बताए कि उन्होंने क्यों अपने विधायकों को 5 स्टार होटल में बंद कर दिया था।
  • कर्नाटक में अगर विधायक बंधक नहीं होते तो वहां हमारी सरकार होती। कांग्रेस-जेडीएस ने उनके विधायकों को बंधक बनाया।
  • कांग्रेस का कर्नाटक चुनाव के बाद संवैधानिक संस्थाओं में यकीन बढ़ गया है। अब कांग्रेस को सुप्रीम कोर्ट, ईवीएम और चुनाव आयोग तीनों अच्छे लगने लगे हैं।
  • कांग्रेस ने हार में भी जीत का नायाब तरीका खोज लिया है। हमने कांग्रेस से 14 राज्य छीन लिए, 9 उपचुनावों में हार बड़ी है या 14 राज्यों में हार बड़ी है।
  • फेक आईडी और फर्जी मतदाताओं की लिस्ट पकड़ी गई और कांग्रेस के विधायक पर चुनाव आयोग को एफआईआर दर्ज करनी पड़ी।
  • आज जब सरकार बनाने के लिए जेडीएस और कांग्रेस एक प्लेटफॉर्म पर आए हैं तो कर्नाटक की जनता जश्न नहीं मना रही है। कांग्रेस किस बात का जश्न मना रही है। कांग्रेस की सीटें 122 थीं, 78 सीटें रह गईं, मिनिस्टर हार गए, मुख्यमंत्री हार गए, इस चीज का जश्न मना रहे हैं कांग्रेसी?  
  • कर्नाटक में सरकार बनाने का पहला हक हमारा था। सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते राज्यपाल ने सरकार बनाने का न्यौता दिया इसमें कोई बुराई मुझे नजर नहीं आती।
  • हमने कांग्रेस के 5 साल के भ्रष्टाचार और उनकी विफलताओं को मुद्दा बनाकर कर्नाटक में चुनाव लड़ा। जहां-जहां बीजेपी मजबूत थी वहां बीजेपी की जीत हुई। उनके मुख्यमंत्री एक सीट से हारे ये बताता है कि ये कांग्रेस विरोधी मैनडेट है।