दैनिक भास्कर हिंदी: CM देवेंद्र फडणवीस के आश्वासन के बाद अन्ना ने खत्म किया अनशन

February 5th, 2019

हाईलाइट

  • लोकपाल और किसानों की मांग को लेकर अनशन कर रहे समाजसेवी अन्ना हजारे ने अपना अनशन खत्म कर दिया है।
  • महाराष्ट्र के CM देवेंद्र फडणवीस के आश्वासन पर अन्ना ने 6 दिनों बाद अपना अनशन तोड़ा है।
  • अन्ना हजारे 30 जनवरी से अनशन पर बैठे थे।

डिजिटल डेस्क, रालेगण सिद्धि। लोकपाल और किसानों की मांग को लेकर अनशन कर रहे समाजसेवी अन्ना हजारे ने रालेगण सिद्धि में अपना अनशन खत्म कर दिया है। महाराष्ट्र के CM देवेंद्र फडणवीस के आश्वासन पर अन्ना ने 6 दिनों बाद अपना अनशन तोड़ा है। अन्ना हजारे 30 जनवरी से अनशन पर बैठे थे। इस दौरान कृषि मंत्री राधामोहन सिंह और केंद्रीय मंत्री सुभाष भामरे भी मौजूद रहे।

फडणवीस ने कहा कि अन्ना हजारे की मांगों पर सरकार विचार करेगी। इस कानून से भ्रष्टाचार रुकेगा और देश को नया रास्ता मिलेगा। उन्होंने कहा कि 'हमने तय किया है कि 13 फरवरी को लोकपाल सर्च कमेटी की बैठक होगी और सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का पालन किया जाएगा। एक जॉइंट ड्राफटिंग कमेटी का गठन किया गया है, यह एक नया विधेयक तैयार करेगी और हम इसे अगले सत्र में पेश करेंगे।'

 

 

बता दें कि अन्ना ने जब अनशन शुरू किया था तब उन्होंने कहा था कि 'मेरा अनशन किसी पार्टी या किसी व्यक्ति के खिलाफ नहीं है। देश और समाज की भलाई के लिए मैंने बार-बार आंदोलन किया है, ये आंदोलन भी उसमें ही शामिल है।'

अन्ना ने कहा कि इससे पहले सरकार कह चुकी है कि वह लोकपाल कानून पारित कर इसे लागू करेगी। इसके अलावा किसानों को उनकी फसल पर डेढ़ गुना समर्थन मूल्य देगी, लेकिन मोदी सरकार ने कुछ नही किया। अब वे सरकार के झूठे आश्वासनों पर भरोसा नही करेंगे और आखिरी सांस तक वह अब भूख हड़ताल जारी रखेंगे। हजारे ने बताया था कि उनके इस आंदोलन को राष्ट्रीय किसान महापंचायत ने समर्थन दिया है और देशभर के किसान संगठन भी भूख हड़ताल में शामिल है।  

इससे पहले अन्ना हजारे 2011-12 में दिल्ली के रामलीला मैदान पर अनशन कर चुके हैं। तत्कालीन यूपीए सरकार के खिलाफ अन्ना के आंदोलन में कई नामी चेहरे शामिल हुए थे। उस समय आंदोलन में शामिल हुए अरंविद केजरीवाल इस समय दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं, किरण बेदी को पुडुचेरी का राज्यपाल नियुक्त किया जा चुका है।

भाजपा सांसद के बंगले के बाहर युवक ने किया आत्मदाह का प्रयास

इससे पहले अन्ना हजारे के अनशन को गंभीरता से नहीं लेने का आरोप लगाकर अमोल हजारे नामक युवक ने अहमदनगर भाजपा सांसद दिलीप गांधी के बंगले के बाहर मिट्टी का तेल छिड़ककर आत्मदाह करने का प्रयास किया। इस दौरान मौके पर मौजूद डीवाईएसपी संदीप मिटके और उनकी टीम ने तत्काल अमोल हजारे को हिरासत में लिया।