किसान आंदोलन से जुड़ी बड़ी खबर: MSP पर झुकी सरकार! किसानों से चर्चा को तैयार, संयुक्त किसान मोर्चा से मांगे गए पांच नाम

November 30th, 2021

हाईलाइट

  • अगले महीने खत्म होगा किसान आंदोलन
  • एमएसपी कानून को लेकर किसान अड़े

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। मोदी सरकार ने जहां तीन कृषि कानून को वापस ले लिया है तो वहीं एमएसपी की मांग पर किसान अड़ गए हैं। आपको बता दें कि सरकरा अब किसानों को लेकर नरम पड़ गई है तथा एमएसपी पर बात करने के लिए पांच प्रतिनिधियों के नाम मांगे हैं। खबरें आ रही है कि एसकेएम की ओर से ये नाम दो दिन के अंदर भेज दिए जाएंगे। बता दें कि किसान आंदोलन एक साल से जारी है और किसान अपनी विभिन्न मांगो को लेकर धरना दे रहे हैं। 

संसद में विधेयक हुआ पारित

तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का विधेयक संसद में पारित हो गया है। बता दें कि एक साल से चल रहे आंदोलन में अब किसानों के बीच आंदोलन खत्म करने को लेकर अलग-अलग बयान सामने आने लगी है। इस बीच किसान नेता राकेश टिकैत ने दावा किया है कि अगले महीने किसान आंदोलन खत्म हो जाएगा।

अगले माह के अंत तक खत्म होगा आंदोलन

बता दें कि किसान नेता राकेश टिकैत से जब एबीपी न्यूज की ओर से पूछा गया कि ठंड बढ़ रही है, कब तक आंदोलन जारी रहेगा? इस पर राकेश टिकैत ने कहा, अगले महीने के अंत तक ये आंदोलन खत्म हो जाएगा। क्योंकि पीएम ने किसानों की आमदनी दोगुनी करने को लेकर जुबान दी हुई है।  अगर 1 जनवरी तक MSP पर कानून नहीं बनता है तो ये मुद्दा भी किसानों के आंदोलन में मांग का हिस्सा बन जाएगा। हालांकि सरकार ऐसा बिल्कुल नहीं होने देगी। इसलिए अगले महीने तक ये आंदोलन खत्म हो जाएगा। 

सिंघु बॉर्डर पर होगी आपात बैठक

आपको बता दें कि 1 दिसंबर को सिंघु बॉर्डर पर आपात बैठक होगी। खबरों के मुताबिक किसानों का एक खेमा आंदोलन खत्म करने को लेकर अगुवाई कर रहा है तो कुछ नेता अपनी अन्य मांगों पर आंदोलन जारी रखना चाहते हैं। भारतीय किसान यूनियन `कादियान` के अध्यक्ष हरमीत सिंह `कादियान` के मुताबिक एक दिसंबर को होने वाली बैठक के अलावा एसकेएम ने 4 दिसंबर को अपनी अगली बैठक बुलाई है। गौरतलब है कि तीन कृषि कानून वापसी के बाद किसान खुश है कि उनकी जीत हुआ है। तथा आंदोलन जारी रखने को लेकर हम बैठक में तय करेंगे।