दैनिक भास्कर हिंदी: एक और मॉब लिंचिंग: चोर समझकर उदयपुर में 2 लोगों को भीड़ ने पीटा

July 24th, 2018

हाईलाइट

  • राजस्थान के उदयपुर में भीड़ के दो लोगों को पीटने का मामला सामने आया है।
  • भीड़ से किसी तरह बचाकर दोनों को ले गई पुलिस।
  • नहीं रुक रहे भीड़ की हिंसा के मामले।
  • भीड़ से किसी तरह बचाकर दोनों को ले गई पुलिस।

डिजिटल डेस्क, जयपुर। संसद से लेकर सड़क तक देशभर में हो रहे हंगामे के बावजूद मॉब लिंचिंग के मामले थमते नहीं दिख रहे हैं। अलवर में भीड़ की कथित पिटाई से हुई रकबर की हत्या का मामला ठंडा भी नहीं हुआ और राजस्थान के उदयपुर में भीड़ के दो लोगों को पीटने का मामला सामने आया है। भीड़ की पिटाई से जख्मी युवकों को किसी तरह पुलिस ने बचा लिया है, लेकिन अगर पुलिस बीच-बचाव न करती तो भीड़ उनकी जान भी ले सकती थी। घटना उदयपुर में अमरपुरा गांव की है। मंगलवार को भीड़ ने खेत में घूम रहे दो लोगों को चोर समझकर बुरी तरह से पीटा।

 

सूचना मिलने पर कुछ देर बाद पहुंची मेनार पुलिस ने गुस्साई भीड़ से किसी तरह दोनों युवकों को बचाया। पुलिस मामले की जांच कर रही है कि आखिर क्यों लोगों ने दोनों को चोर समझ लिया। इसके पहले राजस्थान के अलवर जिले में कथित गौरक्षकों ने गौतस्करी के शक में रकबर नाम के शख्स की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। हालांकि, इस मामले में पुलिस पर भी रकबर से मारपीट करने के आरोप लग रहे हैं।

 

 

 

कोलकाता में चोरी के शक में युवक को मार दिया था पीट-पीटकर
वेस्ट बंगाल के हावड़ा शहर के भगवतीपुरा में चोरी का शक होने पर भीड़ ने पीट-पीटकर एक युवक की हत्या कर दी थी। पुलिस के मुताबिक भीड़ का शिकार बने युवक ने तीन लोगों के साथ मिलकर एक बाइक की चाबी निकाल ली। बाइक संकाराली थाना इलाके में चाय की दुकान के पास खड़ी थी। पास खड़ी एक महिला ने यह सब देखकर शोर मचाना शुरू कर दिया था। महिला की आवाज सुनकर भीड़ इकट्ठा हो गई। लोग युवक और उसके साथियों को पीटने लगे। सभी तीनों से उनका नाम और पता पूछ रहे थे। दो लोग तो भीड़ से बचने में कामयाब हो गए, लेकिन तीसरे को भीड़ ने पीट-पीटकर मार डाला था।

 

 

कर्नाटक में गूगल के इंजीनियर को भीड़ ने बच्चा चोर समझकर मार डाला था
बच्चों को टॉफी बांट रहे गूगल के सॉफ्टवेयर इंजीनियर मोहम्मद आजम अहमद (32) की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। आजम हैदराबाद के मलकपेट के रहने वाले थे। हमले में तीन लोग जख्मी हो गए थे, जिसमें एक कतर का नागरिक था। आजम अपने दोस्त बशीर, सलमान और अकरम के साथ एक दोस्त से मिलने बीदर के मुरकी गए थे।