बांधवगढ़: एएसआई को मप्र में मिले मंदिर, बौद्ध गुफाएं, मुगल काल के सिक्के

September 29th, 2022

हाईलाइट

  • एएसआई को मप्र में मिले मंदिर, बौद्ध गुफाएं, मुगल काल के सिक्के

डिजिटल डेस्क, भोपाल। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को बांधवगढ़ वन आरक्षित क्षेत्र में खोज के दौरान प्राचीन गुफाएं, बौद्ध संरचनाओं के अवशेष, मंदिर, मथुरा और कोशाम्बी जैसे शहरों के नाम वाले भित्ति शिलालेख और मुगल काल के सिक्के मध्य प्रदेश के रीवा जिले में मिले हैं।20 मई से 27 जून तक अन्वेषण के दौरान, जबलपुर सर्कल के अधीक्षण पुरातत्वविद् शिवकांत बाजपेयी के नेतृत्व में एक एएसआई टीम ने 26 मंदिरों या मंदिरों के अवशेष, 26 गुफाओं, दो मठों, दो मन्नत स्तूपों के साथ-साथ 24 शिलालेखों के साथ 46 मूर्तियों और लगभग 20 संरचनाएं जल की प्राप्त हुई हैं।एएसआई को जौनपुर सल्तनत के शर्की वंश के सिक्के भी मिले हैं।

एएसआई के दावे के अनुसार, खोज कार्यो के नए दौर के दौरान खोजे गए मंदिरों के छब्बीस मंदिर या अवशेष कलचुरी काल के हैं। 9वीं से 11वीं शताब्दी, जबकि 26 गुफाएं दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व से 5वीं शताब्दी ईसा पूर्व की अवधि की हैं। लगभग 170 वर्ग किमी के मुख्य वन क्षेत्र की खोज, जो लगभग एक महीने तक जनता के लिए सुलभ नहीं थी, इस क्षेत्र के हिंदू शासकों से पहले की बौद्ध संरचनाओं के अवशेषों की खोज की।

विशेष रूप से, इस अन्वेषण परियोजना को 85 वर्षो के अंतराल के बाद फिर से शुरू किया गया है। इससे पहले बांधवगढ़ वन क्षेत्र में खोज 1938 में की गई थी। अन्वेषण परियोजना को आगे भी किया जाएगा और एएसआई टीम बांधवगढ़ के वन आरक्षित क्षेत्र में 100 और गुफाओं की पहचान करने की उम्मीद कर रही है। बाजपेयी के मुताबिक बांधवगढ़ के ताला रेंज में पहले चरण की खोज का काम किया गया था। विशेष रूप से, ताला रीवा जिले के अंतर्गत बाहरी सर्कल में स्थित एक शहर है। अन्वेषण के अगले चरण में एएसआई टीम खितौली से मगधी रेंज तक बांधवगढ़ जंगल के शेष क्षेत्र को कवर करेगी।

 

(आईएएनएस)।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.