comScore

नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ असम में बवाल, परीक्षा रद्द, सड़कों पर उतरे लोग


हाईलाइट

  • नागरिकता संशोधन बिल पर असम में विरोध
  • संगठनों ने बुलाया 12 घंटे का बंद

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। लोकसभा नें नागरिकता संशोधन बिल सोमवार को पास हो गया। बुधवार को राज्यसभा में बिल पेश किया जाएगा। वहीं पूर्वोत्तर राज्य असम में इस बिल को लेकर विरोध शुरू हो गया है। नॉर्थ ईस्ट स्टूडेंट्स ऑर्गनाइजेशन और ऑल असम स्टूडेंट यूनियन ने आज (मंगलवार) सुबह पांच बजे से शाम 5 बजे तक 12 घंटे का बंद बुलाया है। गुवाहाटी, डिब्रूगढ़ और कॉटन यूनीवर्सिटी की परीक्षा रद्द कर दी गई है। 
 

डिब्रूगढ़ में लोगों ने सड़कों पर टायर जलाकर विरोध किया। बिल के विरोध में महिलाएं भी सड़कों पर उतर आई है। प्रदर्शनकारी  रेल पटरी और सड़कों पर बैठकर विरोध कर रहे हैं। 
 

गुवाहाटी में बंद के आह्रान के कारण बाजार पूरी तरह बंद हैं। जिसके कारण आम जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है। 

पूर्वोत्तर राज्य के मूल निवासियों का कहना है कि बाहर से आकर नागरिकता लेने वाले लोगों से उनकी संस्कृति, भाषा और पहचान को खतरा है। स्टूडेंट यूनियन के कार्यकर्ताओं ने रविवार शाम को शिवसागर में सड़कों पर प्रदर्शन किया। वहीं नलबारी नगर में असम गण परिषद के तीन मंत्रियों के खिलाफ विभिन्न स्थानों पर पोस्टर चिपकाए। 

वहीं सोमवार को त्रिपुरा में इंडीजीनस पीपल फ्रंट ऑफ त्रिपुरा सहित कई आदिवासी समूहों ने नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ बंद का आयोजन किया। जिसके चलते त्रिपुरा ट्राइबल एरिया ऑटोनॉमस डिस्ट्रिक्ट काउंसिल (टीटीएएडीसी) के क्षेत्रों में जनजीवन प्रभावित रहा। सड़क और रेल यातायात बुरी तरह प्रभावित हुए और हजारों यात्री बीच रास्ते में फंसे रहे, क्योंकि बंद समर्थक कार्यकर्ताओं ने त्रिपुरा और देश के बाकी हिस्सों के बीच चलने वाले वाहनों और ट्रेनों को आगे जाने से रोक दिया। 

कमेंट करें
2rwNh