comScore

अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त, RAF ने संभाला मोर्चा


हाईलाइट

  • अयोध्या में चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाबल तैनात
  • ड्रोन कैमरे से की जा रही निगरानी

डिजिटल डेस्क, अयोध्या। अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट 17 नवंबर तक अपना फैसला सुना सकता है। फैसले से पहले राज्य के एडीजी अभियोजन आशुतोष पांडे ने अयोध्या पहुंचकर कमान संभाली। सुरक्षा को लेकर पांडे ने पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक भी की। अयोध्या में सुरक्षा के लिए पुलिस, पीएसी और आरएएफ को चप्पे-चप्पे पर तैनात कर दिया है। एटीएस भी अपनी नजर बनाई हुई है। ड्रोन कैमरे से शहर की निगरानी की जा रही है। 

अयोध्या के एसएसपी आशीष तिवारी ने कहा कि अयोध्या के सभी एंट्री पॉइंट पर बैरियर लगाकर लगातार चेकिंग की जा रही है। भारी संख्या में पीएसी के जवान अयोध्या पहुंच गए हैं। रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, होटल, धर्मशाला सभी पर पुलिस का पहरा है। तिवारी ने कहा, जिला प्रशासन कोशिश कर रहा है कि अस्पताल और स्कूल खुले रहें। अयोध्या का वातावरण पूरी तरह से सामान्य रहे। 
 
सिर्फ घोषण बाकी 
रामजन्म भूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य डॉ. रामविलास वेदांती ने कहा कि राममंदिर पर निर्णय हो चुका है, और सिर्फ घोषणा होनी बाकी है। वेदांती जालौन के देवनपुरवा में पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राम मंदिर पर निर्णय तो जज कर चुके हैं सिर्फ घोषणा होनी बाकी है। उन्होंने बताया कि अयोध्या मामले में जितने भी जन्मस्थान के साक्ष्य हैं, वे सभी रामलला से जुड़े हुए हैं। राम लला के नाम से सरयू नदी, रामघाट, राम वार्ड, राम थाना है। ये सभी हमारे धार्मिक ग्रंथों में वर्णित हैं। वेदांती ने कहा कि जिस जगह राम का जन्म हुआ है वही भव्य मन्दिर बनेगा। मंदिर के 84 कोशी परिक्रमा के अंदर कोई भी मस्जिद का निर्माण नहीं होगा। उन्होंने बताया कि जितना विरोध मुसलमानों ने नहीं किया, उससे ज्यादा कांग्रेस ने किया, और कांग्रेस ने हिन्दू-मुस्लिम को लड़ाने का काम किया।

तीन तलाक पर दंगा नहीं हुआ तो अयोध्या पर भी नहीं होगा 
आरएसएस के वरिष्ठ नेता इंद्रेश कुमार ने कहा कि अयोध्या में चार-पांच सौ साल पुराना फसाद अब निपटने में कुछ ही दिन और घंटे बाकी हैं। जो भी फैसला आएगा, वह किसी की न तो जीत होगी और न ही किसी की हार होगी, इसे मजहब से भी जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए। देश में हिंदू-मुस्लिम सहित हर जाति-धर्म के लोग पहले खुद को भारतीय मानते हैं, हर कोई देश में शांति चाहता है। उन्होंने कहा कि जब तीन तलाक पर दंगा नहीं हुआ तो अयोध्या पर भी नहीं होगा। 

कमेंट करें
QergJ