comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

हरियाणा: बीजेपी ने जारी की 78 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, योगेश्वर- बबीता को टिकट

हरियाणा: बीजेपी ने जारी की 78 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, योगेश्वर- बबीता को टिकट

हाईलाइट

  • भाजपा ने हरियाणा विधानसभा चुनावों के लिए 78 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की
  • हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर करनाल से चुनाव लड़ेंगे
  • योगेश्वर दत्त बरौदा से, संदीप सिंह पिहोवा से और बबीता फोगट दादरी से चुनाव लड़ेंगी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भाजपा ने सोमवार को हरियाणा विधानसभा चुनावों के लिए 78 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की। हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर करनाल से चुनाव लड़ेंगे। पहलवान योगेश्वर दत्त बरौदा से, पूर्व हॉकी कप्तान संदीप सिंह पिहोवा से और पहलवान बबीता फोगट दादरी से चुनाव लड़ेंगी। हरियाणा में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होने हैं।

भाजपा ने रविवार को अपनी सीईसी बैठक बुलाई थी जिसमें महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों के फाइनल उम्मीदवारों के नामों पर अपनी मुहर लगाई। बैठक की अध्यक्षता भाजपा प्रेसिडेंट और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की। बीजेपी के वर्किंग प्रेसिडेंट जेपी नड्डा भी बैठक में उपस्थित थे। सीईसी की बैठक में इतनी देरी इसलिए हुई क्योंकि प्रधानमंत्री अमेरिका के एक सप्ताह से अधिक के दौरे पर गए थे। वह शनिवार शाम को भारत लौटे हैं।

उम्मीदवारों की सूची के अनुसार, सात मौजूदा विधायकों को टिकट नहीं दिया गया जबकि 38 मौजूदा विधायकों को टिकट दिया गया। बीजेपी ने नौ महिलाओं और दो मुस्लिम उम्मीदवारों को भी टिकट दिया है। इस चुनाव में बीजेपी का मुख्य मुकाबला कांग्रेस और जेजेपी से होना है। रविवार को ही दुष्यंत चौटाला के दल जननायक जनता पार्टी ने राज्य में 10 सीटों पर अपने प्रत्याशियों का ऐलान किया था। इसके अलावा बहुजन समाज पार्टी ने भी रविवार को अपने प्रत्याशियों की घोषणा की थी।

जिन सात मौजूदा विधायकों का टिकट काटा गया है उनमें फरीदाबाद से मंत्री विपुल गोयल, पटौदी विधानसभा से राव इंद्रजीत की बेहद खास विधायक बिमला चौधरी सोहाना विधानसभा से विधायक तेज पाल तंवर, कैबिनेट मंत्री और बादशाहपुर विधानसभा के विधायक  राव नरबीरा का टिकट काट दिया गया है। गुरुग्राम से लगती चार में से तीन विधानसभाओं के मौजूदा विधायकों का भी टिकट काटा गया है।

हरियाणा की 90 सदस्यीय विधानसभा के लिए 21 अक्टूबर को वोट डाले जाएंगे। नामांकन दाखिल करने का अंतिम दिन 4 अक्टूबर है। मतगणना के बाद अंतिम परिणाम 24 अक्टूबर को घोषित किए जाएंगे।

नं.सीटप्रत्याशी
1कालकालतिका शर्मा
2पंचकूलाज्ञान चंद गुप्ता
3अंबाला कैंटअनिल विज
4अंंबाला सिटीअशीम गोयल
5मुलाना (एससी)राजीव बराडा
6सधौरा (एससी)बलवंत सिंह
7जगाधारीकंवरपाल गुर्जर
8यमुनानगरघनश्याम दास अरोड़ा
9रादौर(एससी)करणदेव कम्बोज
10लाडवापवन सैनी
11शाहाबाद(एससी)कृष्णा बेदी
12थानेसरसुभाष सुधा
13पिहोवासंदीप सिंह (पूर्व हॉकी खिलाड़ी)
14गुहला (एससी)रवी तारनवाली
15कलायतकमलेश ढांढा
16कैथललीला राम गुर्जर
17पूंडरीवेदपाल एडवोकेट
18नीलोखेड़ी (एससी)भगवानदास कबीरपंथी
19इंद्रीरामकुमार कश्यप
20करनालमनोहर लाल खट्टर
21घरौंडाहरविंदर कल्याण
22असंधबख्शी सिंह गिल
23पानीपत ग्रामीणमहिपाल ढांढा
24इसराना (एससी)कृष्ण पवार
25समालखाशशिकांत कौशिक
26राईमोहनलाल कौशिक
27सोनीपतकविता जैन
28गोहानातीरथ सिंह राणा
29बरोदायोगेश्वर दत्त (पूर्व ओलिंपियन)
30जुलानापरमेंदर धुल
31सफीदोंबच्चन सिंह आर्य
32जींंदकृष्ण मिड्ढा
33उचाना कलांप्रेम लाला
34नरवाना (एससी)संतोष दानोदा
35टोहानासुभाष बराला
36रतिया (एससी)लक्ष्मण नापा
37कालांवाली (एससी)बलकौर सिंह
38डबवालीआदित्य देवीलाल
39रानियांरामचंद्र कम्बोज
40सिरसाप्रदीप रतूसारिया
41ऐलनाबादपवन बेनीवाल
42उकलाना (एससी)आशा खेदार
43नारनौंदकैप्टन अभिमन्यु
44हांसीविनोद भयाना
45बरवालासुरेंदर पुनिया
46हिसारकमल गुप्ता
47नलवारणवीर गंगवा
48लोहारूजेपी दलाल
49बाढड़ासुुखविंदर मंडी
50दादरीबबीता फोगाट (महिला रेसलर)
51भिवानीघनश्याम शराफ
52बवानी खेड़ा (एससी)बिश्मभर बाल्मीकि
53गढ़ी सांपला किलोईसतीश नंदाल
54रोहतकमनीष ग्रोवर
55कलानौर (एससी)रामअवतार बाल्मीकि
56बहादुरगढ़नरेश कौशिक
57बादलीओमप्रकाश धनकड़
58झज्जर (एससी)राकेश कुमार
59बेरीविक्रम काद्यान
60अटेलीसीताराम यादव
61महेंद्रगढ़रमबिलास शर्मा
62नारनौलओमप्रकाश यादव
63नांगल चौधरीअभय सिंह यादव
64बावलबनवारी लाल
65पटौदी (एससी)सत्यप्रकाश जरावट
66बादशाहपुरमनीष यादव
67सोहनासंजय सिंह
68नूहजाकिर हुसैन
69फिरोजपुर झिरकानसीम अहमद
70पुन्हानानौकशाम चौधरी
71हथीनप्रवीण डागर
72होडल (एससी)जगदीश नायर
73पृथलासोहनपाल चौहक्कर
74फरीदाबाद एनआईटीनागेंद्र भड़ाना
75बड़खलसीमा तिरखा
76बल्लभगढ़मूलचंद शर्मा
77फरीदाबादनरेंद्र गुप्ता
78तिगांवराजेश नागर
कमेंट करें
U3A9R
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।