प्रदर्शन: पदोन्नति में देरी के खिलाफ केंद्रीय सचिवालय सेवा के अधिकारी नॉर्थ ब्लॉक में एकत्र हुए

February 25th, 2022

हाईलाइट

  • अधिकारियों ने कहा कि 1,800 रिक्तियों को तत्काल पदोन्नति के माध्यम से भरने की जरूरत है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। नॉर्थ ब्लॉक में केंद्रीय सचिवालय सेवा (सीएसएस) के अधिकारियों ने कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय के तहत कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग के बाहर जमा होकर प्रदर्शन करने लगे।

अधिकारी छह साल से लम्बित अधिकारियों की पदोन्नति करने की मांग कर रहे हैं। कर्मचारी कह रहे हैं कि सीएसएस में करीब 30 फीसदी पद विभिन्न केंद्रीय मंत्रालयों में मध्य से लेकर वरिष्ठ प्रबंधन रैंक तक के खाली हैं क्योंकि केंद्र सरकार ने पिछले छह साल से सीएसएस के अधिकारियों को पदोन्नत नहीं किया है।

नाम न छापने की शर्त पर एक कर्मचारी ने कहा कि उन्होंने कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) को पदोन्नति आदेश जारी करने के लिए याचिका दी है क्योंकि हाल के वर्षों में कई अधिकारी सेवानिवृत्त हुए हैं जो उन्हें बढ़े हुए वेतन और पेंशन लाभ से वंचित कर रहे हैं। फोरम ने इस मुद्दे को सोशल मीडिया पर उठाने की कोशिश भी की, जिसमें जनवरी में भी ट्विटर पर इस संबंध में मसला उठाया गया था।

केंद्र सरकार के अधिकारियों के एक संघ सीएसएस फोरम के अनुसार, अनुभाग अधिकारी, अवर सचिव, उप सचिव, निदेशक और संयुक्त सचिव रैंक के 6,210 अधिकारी हैं, जबकि इन अधिकारियों के समूहों में कुल 1,839 पद खाली हैं।

उन्होंने आगे कहा कि लंबित अदालती मामलों के बहाने पदोन्नति अटकी हुई है। हालांकि, संकट को कम करने के उद्देश्य से, डीओपीटी ने हाल ही में 2,770 अधिकारियों को पदोन्नत किया, क्योंकि 4,400 अधिकारियों में से 60 प्रतिशत से अधिक तदर्थ पदोन्नति पर काम कर रहे हैं।

सीएसएस अधिकारियों ने यह भी कहा कि 1,800 रिक्तियों को तत्काल पदोन्नति के माध्यम से भरने की जरूरत है।

(आईएएनएस)