comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Coronavirus in India: देश में मरीजों की संख्या 9 लाख के पार, बीते 24 घंटे में सामने आए 28,498 नए मामले


हाईलाइट

  • देश में कोरोना के कुल मामले 9 लाख के पार पहुंचे
  • पिछले 24 घंटे में 28 हजार 498 नए मामले सामने आए

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस का कहर अब और तेजी से बढ़ रहा है। यहां संक्रमित मरीजों की संख्या 9 लाख के पार पहुंच गई है। मंगलवार को स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटों के दौरान 28 हजार 498 नए मामले सामने आए हैं और 553 की मौत हुई है। इसी के साथ देश में कोरोना के मरीजों की कुल संख्या 9 लाख 6 हजार 752 हो गई है। इनमें से 23 हजार 727 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 5 लाख 71 हजार 460 मरीज ठीक हुए हैं। 3 लाख 11 हजार 565 ऐक्टिव केस हैं। कोरोना संक्रमितों की संख्या के हिसाब से भारत दुनिया का तीसरा सबसे प्रभावित देश बना हुआ है।

राज्यों में कोरोना के मामले और मौतों का आंकड़ा-

S. No.Name of State / UTActive Cases*Cured/Discharged/Migrated*Deaths**Total Confirmed cases*
1Andaman and Nicobar Islands571090166
2Andhra Pradesh142741646436531103
3Arunachal Pradesh2401452387
4Assam5876108943616806
5Bihar54821231716017959
6Chandigarh1574238588
7Chhattisgarh9963202194217
8Dadra and Nagar Haveli and Daman and Diu2262681495
9Delhi19017913123411113740
10Goa10261540172583
11Gujarat1089729770205542722
12Haryana49841660230821894
13Himachal Pradesh292940111243
14Jammu and Kashmir4545609518710827
15Jharkhand15142351333898
16Karnataka245761624875741581
17Kerala40324257338322
18Ladakh14694611093
19Madhya Pradesh43361320866318207
20Maharashtra10593514450710482260924
21Manipur65697001626
22Meghalaya250662318
23Mizoram821510233
24Nagaland5053400845
25Odisha441292557013737
26Puducherry665785181468
27Punjab238855862048178
28Rajasthan57811863052524936
29Sikkim106860192
30Tamil Nadu48199925672032142798
31Telangana121772367936536221
32Tripura603147522080
33Uttarakhand7032856493608
34Uttar Pradesh129722420395538130
35West Bengal112791921395631448
 Cases being reassigned to states2179  2179
 Total#31156557146023727906752
*(Including foreign Nationals)
**( more than 70% cases due to comorbidities )
#States wise distribution is subject to further verification and reconciliation
#Our figures are being reconciled with ICMR
कमेंट करें
2sO97
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।