दैनिक भास्कर हिंदी: दाती महाराज ने लगाया साजिश का आरोप, 32 करोड़ नहीं देने पर फंसाया गया

June 21st, 2018

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दुष्कर्म के आरोपों में फंसे दाती महाराज ने क्राइम ब्रांच में सरेंडर करने के बाद बुधवार को मीडिया के सामने आकर सफाई दी। उन्होंने अपने खिलाफ साजिश का आरोप लगाते हुए कहा कि मेरे आश्रम के ही एक शख्स ने मेरे नाम पर कुछ लोगों से लेन-देन किया। अब वो लोग जबरन पैसे मांग रहे हैं। पैसा नहीं देने पर उन्होंने ही साजिश रच कर मुझे फंसाया है।   

 

आश्रम के दो लोगों पर जबरन पैसे लेने और साजिश का आरोप 

दाती महाराज ने बताया, मेरे आश्रम में रहने वाले अभिषेक अग्रवाल नाम के शख्स पर मैंने बहुत भरोसा किया था। उसने कुछ लोगों के साथ मेरे नाम पर लेन-देन किया। अब वो दो लोग नवीन गुप्ता और सचिन जैन जबरन मुझसे 32 करोड़ रुपये मांग रहे हैं। मुझे इस डील की कोई जानकारी नहीं है। दाती महारात ने दावा किया है कि, बिजनेसमैन सचिन जैन और नवीन भी इसी आश्रम में रहे हैं। सचिन ने अपने बाउंसरों के साथ उनकी कार को गुड़गांव में घेरा था और धमकी भी दी थी। दाती महाराज ने साजिश के पीछे सचिन जैन और नवीन गुप्ता का हाथ बताया है।

 

मई में सचिन ने दी थी धमकी- दाती

उन्होंने सचिन और नवीन पर साजिश रचने का आरोप लगाते हुए कहा ये साजिश पिछले कई महीनों से रची जा रही थी। उन्होंने बताया 5 मई को सचिन ने उन्हें धमकी भी दी थी। दाती महाराज के अनुसार, पैसे की डिमांड पर उन्होंने सचिन से कहा कि, मेरे पास पैसे नहीं हैं, कहां से दूं। 

 

मैं बेटियों का सम्मान करता हूं- दाती

प्रेस कॉफ्रेंस में दाती ने ये भी कहा कि पीड़ित लड़की के पिता और इन दोनों के मोबाइल नंबरों की जांच से साफ हो जाएगा कि सही क्या है? मैं बेटियों का पिता हूं और बेटियों का बेहद सम्मान करता हूं। मैं साजिश का शिकार हुआ हूं। उन लोगों ने दबाव देकर मुझे डराया, लेकिन मैंने सिर्फ ये कहा कि मेरे पास कुछ है नहीं। मैं पिछले 12 साल से बेटियों के लिए स्कूल, कॉलेज बना रहा हूं। अब मेडिकल कॉलेज बनाने की तैयारी कर रहा हूं। 

 

मैंने कोई गुनाह नहीं किया

दाती महाराज ने कहा, मैंने कोई गुनाह नहीं किया है। मैंने उनसे इतना तक कहा कि तुम मेरी सेवा में रहे हो तो अस्पताल लेकर उसे बेच दो। इतना कहने के बाद भी मुझे परेशान किया गया। कभी शनिधाम की पार्किंग मांगी तो कभी उज्जैन की। यहां तक कि आश्वासन स्कूल की भी मांग की। इतने दबाव के कारण मैं परेशान था। उन्होंने कहा, मैं  मानता हूं कि इनका आर्थिक षडयंत्र है, लेकिन नारी का अपमान नहीं कर सकता हूं। उन्होंने पुलिस को आश्वस्त करते हुए कहा, मामले को लेकर जब भी पुलिस उन्हें बुलाएगी, वो पहुंचेगे।