comScore

मप्र में हर हरकत पर राजधानी से नजर

November 09th, 2019 18:00 IST
 मप्र में हर हरकत पर राजधानी से नजर

हाईलाइट

  • मप्र में हर हरकत पर राजधानी से नजर

भोपाल, 9 नवंबर (आईएएनएस)। अयोध्या भूमि विवाद मामले पर सर्वोच्च न्यायालय का फैसला आने से पहले और बाद में पूरे मध्य प्रदेश की स्थिति पर राजधानी से नजर रखी जा रही है। इसके लिए पुलिस मुख्यालय में राज्य स्थिति कक्ष (स्टेट सिचुएशन रूम) बनाया गया है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी शनिवार को सुरक्षा इंतजामों की समीक्षा की और एसएसआर का जायजा लिया।

अयोध्या रामजन्मभूमि मामले का फैसला आने से पहले ही राज्य में कानून-व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए पुलिस मुख्यालय और प्रशासन ने तमाम एहतियाती कदम उठा लिए थे। एक तरफ सुरक्षा बलों की तैनाती कर कई जिलों में निषेधाज्ञा लागू कर दी गई तो दूसरी ओर सोशल मीडिया की निगरानी की जा रही है। इतना ही नहीं हर जिले में सीसीटीवी कैमरों के जरिए संवेदनशील स्थानों की पल-पल की गतिविधि को देखा जा रहा है।

एक तरफ जहां जिला स्तर पर निगरानी हो रही है तो दूसरी ओर राजधानी में भी निगरानी तंत्र को मजबूत किया किया। सीसीटीवी कैमरों को राजधानी के एसएसआर से जोड़ा गया और उसकी मॉनीटरिंग की गई। जिला स्तर पर पुलिस अधीक्षक, जिलाधिकारी सक्रिय हैं तो राजधानी में पुलिस महानिदेशक वी. के. सिंह और मुख्य सचिव एस. आर. मोहंती की सक्रियता बनी हुई है।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने स्वयं राजधानी के पुलिस मुख्यालय स्थित राज्य स्थिति कक्ष (स्टेट सिचुएशन रूम) गए, जहां उन्होंने पूरे प्रदेश से आ रही कानून-व्यवस्था संबंधी सूचनाओं को देखा।

इससे पहले कमलनाथ ने पुलिस मुख्यालय पहुंचकर एक उच्चस्तरीय बैठक में मध्यप्रदेश की कानून-व्यवस्था की समीक्षा की। उन्होंने पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे निरंतर सक्रिय और सजग रहकर काम करें।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज अपने पूर्व निर्धारित मंडला दौरे को स्थगित कर दिल्ली से भोपाल लौटकर मंत्रालय पहुंचे। मुख्यमंत्री ने राज्य स्थिति कक्ष में पुलिस और शासन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक भी की। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर हाल में प्रदेश में अमन-चौन कायम रहे। इसके लिए नागरिकों से निरंतर सम्पर्क की स्थिति रखें और उन्हें किसी भी तरह की अफवाहों से सावधान करें।

उन्होंने कहा, प्रदेश के हर नागरिक के साथ सरकार खड़ी हुई है। कानून-व्यवस्था बिगाड़ने और शांति भंग करने का प्रयास करने वाले असामाजिक तत्वों से सख्ती से निपटा जाएगा। इसके लिए सरकार की ओर से पुलिस और प्रशासन के सभी अधिकारियों को निर्देशित किया गया है।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने संवाददाताओं से चर्चा के दौरान राज्य की सुरक्षा-व्यवस्था पर संतोष जताया, साथ ही कहा कि राज्य में पूरी तरह स्थिति शांतिपूर्ण है, चार-पांच जगहों से जरूर कुछ विवादों की बातें समाने आई हैं।

बैठक में मुख्य सचिव एस़ आऱ मोहंती, पुलिस महानिदेशक वी़ क़े सिंह, प्रमुख सचिव(गृह) एस़ एऩ मिश्रा, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (गुप्त वार्ता) एम़ डब्ल्यू़ नकवी एवं संबंधित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

-- आईएएनएस

कमेंट करें
YvJ5E