दैनिक भास्कर हिंदी: Farmers protest: कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन के 4 महीने, किसानों ने 26 मार्च को बुलाया भारत बंद

March 10th, 2021

हाईलाइट

  • किसान आंदोलन के 4 महीने पूरे होने पर यूनियनों का ऐलान
  • 26 मार्च को करेंगे भारत बंद
  • 15 मार्च को पेट्रोल-डीजल के दामों में वृद्धि और रेलवे के निजीकरण के खिलाफ प्रदर्शन

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। किसान यूनियनों ने 26 मार्च को 'भारत बंद' का आह्वान किया है। केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ उनका आंदोलन के 4 महीने पूरे होने पर भारत बंद बुलाया गया है। बता दें कि किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच में 10 से ज्यादा दौर की वार्ताएं हो चुकी हैं, लेकिन कोई ठोस हल नहीं निकल सका है। सरकार कानूनों को कुछ सालों के लिए होल्ड रखने और उसमें कई तरह के संशोधन को तैयार है, लेकिन किसान संगठन कानूनों को रद्द करने और एमएसपी पर कानून बनाए जाने पर अड़े हुए हैं।

प्रदर्शनकारी किसानों का आगामी कार्यक्रम
किसान नेता बूटा सिंह बुर्जगिल ने कहा, हम 26 मार्च को अपने आंदोलन के चार महीने पूरे होने के मौके पर पूर्ण रूप से भारत बंद का पालन करेंगे। शांतिपूर्ण बंद सुबह से शाम तक प्रभावी रहेगा। उन्होंने अपने आगामी कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए ये भी कहा कि किसान और व्यापार संघ मिलकर 15 मार्च को पेट्रोल-डीजल के दामों में वृद्धि और रेलवे के निजीकरण के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे। किसान 19 मार्च को 'मंडी बचाओ-खेती बचाओ' दिवस मनाएंगे। किसान यूनियनों ने 23 मार्च भगत सिंह, राजगुरू और सुखदेव का शहीदी दिवस मनाने का भी फैसला लिया है। किसान नेताओं ने 28 मार्च को होलिका दहन के दौरान नए कृषि कानूनों की प्रतियां जलाने का भी निर्णय लिया है।

खबरें और भी हैं...