दैनिक भास्कर हिंदी: Coronavirus: स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- अगले साल की शुरुआत में आ जाएगी कोरोना की वैक्सीन, फ्रंटलाइन वर्करों को सबसे पहले दी जाएगी

September 13th, 2020

हाईलाइट

  • कोरोनावायरस की वैक्सीन कब आएगी ये एक बड़ा सवाल बना हुआ है
  • दुनिया के कई देशों में विभिन्न वैक्सीन पर काम चल रहा है
  • डॉ. हर्षवर्धन ने कहा अगले साल की शुरुआत में कोरोनावारस की वैक्सीन आ जाएगी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कोरोनावायरस की वैक्सीन कब आएगी ये एक बड़ा सवाल बना हुआ है। दुनिया के कई देशों में विभिन्न वैक्सीन पर काम चल रहा है। इन सभी के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने रविवार को कहा कि अगले साल (2021) की शुरुआत में कोरोनावारस की वैक्सीन आ जाएगी। केंद्रीय मंत्री ने यह जानकारी सोशल मीडिया के कार्यक्रम 'संडे संवाद' के दौरान दी। केंद्रीय मंत्री ने एक घंटे तक सोशल मीडिया पर कोरोना वायरस से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की और लोगों के कई सवालों के जवाब दिए।

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, 'देश में कई वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। अभी हम इस बात का अनुमान नहीं लगा सकते हैं कि कौन सी वैक्सीन सबसे ज्यादा प्रभावी होगी, लेकिन 2021 की पहली तिमाही तक हम निश्चित तौर पर इसके परिणाम जान जाएंगे।' वहीं, मंत्री ने कहा कि वैक्सीन को लेकर एक्सपर्ट्स का ग्रुप का गठन किया गया है, जो पूरी प्रक्रिया की देखरेख कर रहा है। हालांकि, जैसे ही परीक्षण के रिजल्ट्स का आकलन किया जाता है, उसी समय कंपनियों को बड़े पैमाने पर उत्पादन शुरू करने के लिए कह दिया जाएगा, ताकि समय की बर्बादी न हो।

डॉ. हर्षवर्धन ने यह भी कहा कि सरकार वरिष्ठ नागरिकों और उच्च जोखिम जगहों पर काम करने वाले लोगों को कोविड-19 टीकाकरण के आपातकालीन प्राधिकरण पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा, यह सहमति बनने के बाद किया जाएगा। कोविड-19 के लिए वैक्सीन प्रशासन पर राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह इस पर एक विस्तृत रणनीति तैयार कर रहा है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को कैसे टीका लगाया जाए। स्वास्थ्य मंत्री ने आश्वासन दिया कि कोविड वैक्सीन के ट्रायल के दौरान पूरी सावधानी बरती जा रही है।

उन्होंने कहा, वैक्सीन सुरक्षा, लागत, इक्विटी, कोल्ड-चेन जरूरतों, उत्पादन समय-सीमा जैसे मुद्दों पर भी गहनता से चर्चा की जा रही है। केंद्रीय मंत्री ने आश्वासन दिया कि टीका पहले उन लोगों के लिए उपलब्ध कराया जाएगा, जिनको सबसे ज्यादा इसकी जरूरत है, चाहे वो इसके लिए भुगतान कर पाएं या नहीं। उन्होंने ये भी कहा कि इसका पहला डोज लेने में उनको खुशी होगी, ताकि किसी को ये न लगे कि इस पर विश्वास नहीं किया जा सकता। स्वास्थ्य मंत्री ने देश में चल रहे वैक्सीन ट्रायल और इसके विकास पर भी जानकारी दी।

खबरें और भी हैं...