comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

गांधी ने स्वतंत्रता आंदोलन के लिए धन जुटाने छिंदवाड़ा में नीलाम की थी प्लेट

January 06th, 2020 12:30 IST
 गांधी ने स्वतंत्रता आंदोलन के लिए धन जुटाने छिंदवाड़ा में नीलाम की थी प्लेट

हाईलाइट

  • गांधी ने स्वतंत्रता आंदोलन के लिए धन जुटाने छिंदवाड़ा में नीलाम की थी प्लेट

छिंदवाड़ा, 6 जनवरी (आईएएनएस)। आजादी की लड़ाई के दौरान महात्मा गांधी दो बार मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले में आए थे। उन्होंने यहां संघर्ष के लिए धनराशि जुटाने के क्रम में अपनी चांदी की प्लेट नीलामी की थी। नीलामी में इस प्लेट की कीमत 11 रुपये आंकी गई थी, लेकिन गोविंदराम त्रिवेदी ने इसे 501 रुपये में लिया था।

महात्मा गांधी दिसंबर 1920 में कांग्रेस के नागपुर अधिवेशन में हिस्सा लिया था। उसके बाद वह छह जनवरी, 1921 को अपराह्न् लगभग तीन बजे छिंदवाड़ा पहुंचे थे। उनके साथ क्रांतिकारी अली बंधु थे। शाम साढ़े सात बजे गांधी जी ने चिटनवीसगंज में विशाल जनसभा को संबोधित किया था। उपलब्ध दस्तावेज के अनुसार गांधी जी के पहली बार छिंदवाड़ा आगमन की आज सोमवार को 99वीं वर्षगांठ है।

महात्मा गांधी दूसरी बार वर्ष 1933 में छिंदवाड़ा आए थे।

गोविंदराम त्रिवेदी के पोते नितिन त्रिवेदी बताते हैं कि उन्होंने अपने पिता देवेंद्र गोविंदराम त्रिवेदी से सुना है कि उनके दादा गोविंदराम त्रिवेदी महात्मा गांधी के आह्वान पर कांग्रेस में शामिल हुए थे। गोविंदराम नामी वकील थे। नितिन ने अपने पिता से सुनी हुई उन बातों को साझा किया, जिनमें वह बताते थे कि किस तरह से गोविंदराम त्रिवेदी ने महात्मा गांधी से एक चांदी की प्लेट 501 रुपये में खरीदी थी।

गांधी जी 1933 में दूसरी बार छिंदवाड़ा आए थे। वह स्वतंत्रता आंदोलन के समर्थन में धन जुटा रहे थे। उन्होंने चांदी की प्लेट नीलाम कर दी। नीलामी की कीमत सबसे कम 11 रुपये आंकी गई थी, लेकिन गोविंदराम त्रिवेदी ने इस महान कार्य के लिए इस प्लेट को 501 रुपये में खरीदा था।

नितिन त्रिवेदी अपने पुराने घर में लकड़ी का झूला दिखाते हैं, जिस पर गांधी जी बैठे थे और उनके दादा से तत्कालीन मुद्दों पर चर्चा की थी। उपलब्ध जानकारी के आधार पर नितिन बताते हैं, महात्मा गांधी ने छोटे, लेकिन महत्वपूर्ण भाषण में तीन मुख्य बातें कही थी। जब राजभक्ति, देशभक्ति के आड़े आए, तो राजभक्ति को छोड़कर देशभक्ति को स्वीकार करना मनुष्य का धर्म हो जाता है। हिन्दुओं और मुसलमानों को मिलकर रहने की जरूरत है। हमें भाई-भाई बनकर रहना है। हमारी मुक्ति चरखे में है।

कई अर्थो में यह भाषण स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। असहयोग आंदोलन के विचार को गांधी जी ने जनता में पहली बार स्पष्ट शब्दों में समझाया था। आम नागरिकों का क्या कर्तव्य है? छात्रों, वकीलों, सरकारी नौकरों को क्या करना है और उनसे क्या अपेक्षाएं हैं, यह समझाया था।

गांधी ने छिंदवाड़ा में कहा था, पंजाब के अन्याय का निराकरण कराना चाहते हो तथा स्वराज की स्थापना करना चाहते हो तो हमारा कर्तव्य क्या है, यह बात हमें नागपुर अधिवेशन में बताई गई है। हम सरकारी उपाधियों से विभूषित लोगों से जो कुछ कहना चाहते थे, सो सब कह चुके हैं। उपाधियों को बरकरार रखने अथवा उनका त्याग करने की जिम्मेदारी कांग्रेस ने उन्हीं पर डाली है। इसी से इस बार के स्वीकृत प्रस्ताव में उनका उल्लेख तक नहीं किया गया है। अब देश का कोई बच्चा भी ऐसा न होगा, जिसे इन उपाधिधारी लोगों से किसी प्रकार का भय अथवा उनकी उपाधियों के प्रति मन में आदरभाव हो।

गांधी जी ने इसी भाषण में वकीलों से वकालत छोड़ने और देश सेवा में सारा समय देने को कहा था। गांधी जी के इस भाषण के बाद छिंदवाड़ा में कई वकीलों ने अपनी वकालत छोड़ दी और विद्यार्थियों ने स्कूल जाना बंद कर दिया। आज छिंदवाड़ा भाषण की 99वीं वर्षगांठ है। गांधी जी की छिंदवाड़ा यात्रा का स्मृति दिवस है।

कमेंट करें
zNfqc
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।