comScore

हाथरस गैंगरेप केस: योगी सरकार का बड़ा एक्शन, SP-DSP और इंस्पेक्टर को किया निलंबित

हाथरस गैंगरेप केस: योगी सरकार का बड़ा एक्शन, SP-DSP और इंस्पेक्टर को किया निलंबित

हाईलाइट

  • हाथरस कांड में योगी सरकार ने की बड़ी कार्रवाई
  • हाथरस के SP, DSP और इंस्पेक्टर को किया गया सस्पेंड
  • थाने के सभी पुलिसकर्मियों का नारको पॉलीग्राफ टेस्ट कराया जाएगा

डिजिटल डेस्क, लखनउ। हाथरस गैंगरेप मामले में योगी सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है। इसमें हाथरस के एसपी, डीएसपी और इंस्पेक्टर पर गाज गिरी है। तीनों को सस्पेंड कर दिया गया है। सभी का नारको पॉलीग्राफ टेस्ट भी कराया जाएगा। इसमें पीड़िता का परिवार भी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्राथमिक जांच रिपोर्ट के आधार पर मौजूदा एसपी, डीएसपी, इंस्पेक्टर और कुछ अन्य के खिलाफ सस्पेंशन की कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्राथमिक जांच रिपोर्ट के आधार पर मौजूदा एसपी, डीएसपी, इंस्पेक्टर व कुछ अन्य के खिलाफ सस्पेंशन की कार्रवाई करने के निर्देश दिए। निलंबित होने वाले अधिकारियों के नाम एसपी विक्रांत वीर, सीओ राम शब्द, इंस्पेक्टर दिनेश कुमार वर्मा, एसआई जगवीर सिंह हैं। हालांकि इस बात की पहले से ही आशंका जताई जा रही थी कि डीएम प्रवीण कुमार और एसपी विक्रांत वीर पर कार्रवाई हो सकती है और हुआ भी ऐसा ही। इस आदेश के बाद एसपी विक्रांत वीर की जगह एसपी शामली विनीत जयसवाल को हाथरस का नया एसपी नियुक्त किया गया है।

बता दें कि इससे पहले खबर आई थी कि हाथरस के जिलाधिकारी पर भी कार्रवाई हो सकती है। लेकिन फिलहाल उनका नाम लिस्ट में नहीं है। जिस तरीके से हाथरस प्रशासन ने इस पूरे मामले को हैंडल किया है, उससे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बेहद नाराज हैं।

उत्तर प्रदेश में हाथरस के साथ ही बलरामपुर तथा आजमगढ़ की घटनाओं को लेकर भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को बड़ा बयान दिया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसको लेकर ट्वीट करके कहा, उत्तर प्रदेश में माताओं-बहनों के सम्मान-स्वाभिमान को क्षति पहुंचाने का विचार मात्र रखने वालों का समूल नाश सुनिश्चित है। इन्हें ऐसा दंड मिलेगा, जो भविष्य में उदाहरण प्रस्तुत करेगा। यह हमारा संकल्प है-वचन है।

ज्ञात हो कि हाथरस कांड बीते तीन दिन से सुर्खियों में है। पीड़िता की मौत के बाद लखनऊ से लेकर दिल्ली तक सियासत गरमा गई है। जिस तरह से सभी विपक्षी दल एकजुट होकर योगी सरकार पर निशाना साध रहे हैं। उसके बाद सरकार पर इस मामले में कार्रवाई का दबाव बढ़ता जा रहा है। भरोसेमंद सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री खुद पूरे मामले पर नजर रखे हुए हैं। घटना के बाद स्थिति संभालने में नाकाम रहने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई को लेकर शीर्ष स्तर पर मंथन चल रहा है।

हाईकोर्ट ने भी इसी को लेकर नाराजगी जताई है। शासन का कोई भी अधिकारी यह बताने को तैयार नहीं है कि रात में अंतिम संस्कार किसके निर्देश पर किया गया। सोशल मीडिया पर वायरल हुए हाथरस डीएम प्रवीण कुमार के एक वीडियो को भी सरकार ने काफी गंभीरता से लिया है।

कमेंट करें
KPS2C
कमेंट पढ़े
SIKENDRA RAJAK October 03rd, 2020 14:08 IST

हाथरस की घटना मे d ś p की सही सबक शिखाय

राज October 03rd, 2020 09:09 IST

दोषियों को फाँसी दो और डीएम पर कार्यवाही करो या फिर मठ में जाने की तैयारी कर लो योगी सरकार।

NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020 : लवलीना के जोरदार पंचो ने जगाई मेडल की उम्मीद

Tokyo Olympics 2020 : लवलीना के जोरदार पंचो ने जगाई मेडल की उम्मीद

डिजिटल डेस्क, टोक्यो। वेल्टवेट कैटेगरी में भारत की बॉक्सर लवलीना बोरगोहेन ने टोक्यो ओलंपिक में शानदार शुरुआत की है। उन्होंने राउंड ऑफ 16 (64-69 किग्रा वर्ग) में जर्मनी की एपेट्ज नेदिन को 3-2 शिकस्त दी। इस मैच को जीतने के साथ ही उन्होंने अंतिम आठ में जगह बना ली है। अब वह मेडल से बस एक जीत दूर हैं। अगर लवलीना अगला मुकाबला जीत जाती हैं तो भारत के लिए एक और पदक पक्का हो जाएगा। 

24 साल की लवलीना बोरगोहेन ने असम के एक छोटे से गांव से ओलंपिक तक का सफर तय किया है। लवलीना बोरगोहेन असम के गोलाघाट जिले  के छोटे से गांव बरोमुखिया की रहने वाली हैं। उनके गांव में महज 2 हजार की आबादी है। 

दो बार विश्व चैम्पियनशिप में पदक जीत चुकीं लवलीना असम की पहली बॉक्सर हैं जिन्होंने ओलंपिक के लिए क्वॉलिफाई किया है। लवलीना बोरगोहेन टोक्यो ओलंपिक में 69 किलोग्राम वर्ग में हिस्सा ले रही हैं। 

असम के मुख्यमंत्री ने साइकिल चलाकर शुभकामनाएं दी

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा की अगुवाई में विधानसभा अध्यक्ष बिस्वजीत दैमारी और विपक्ष के नेता देवव्रत सैकिया ने साइकिल चलाकर टोक्यो ओलंपिक में असम की एकमात्र खिलाड़ी लवलीना बोरगोहेन को सफलता हासिल करने के लिए शुभकामनाएं दी।
उनके साथ कई मंत्रियों, विधायकों और वरिष्ठ अधिकारियों ने ‘गो फॉर ग्लोरी - लवलीना’ का आयोजन किया। यह साइकिल रैली ‘लास्ट गेट’ से शुरू हुई और शहर के नेहरू स्टेडियम में संपन्न हुई।


 

NEXT STORY

बच्चों को लेकर पजेसिव हैं पॉप स्टार शकीरा, बताया कैसा चाहती हैं बच्चों का बचपन

बच्चों को लेकर पजेसिव हैं पॉप स्टार शकीरा, बताया कैसा चाहती हैं बच्चों का बचपन

डिजिटल डेस्क, लॉस एंजिल्स। हॉलीवुड की टॉप एंड हॉट सिंगर शकीरा तो याद ही होंगी आपको। अपने गानों से सबका दिल जीतने वाली और फुटबॉल के फीफा वर्ल्ड कप पर छा जाने वाली शकीरा इन दिनों मदरहुड इंजॉय कर रही हैं। अपने बच्चों के बचपन पर भी खुलकर बात कर रही हैं।

Top 10 Shakira Songs (Updated 2017) | Billboard | Billboard

गायिका शकीरा का कहना है कि वह अपने बच्चों को एक सामान्य बचपन देने की कोशिश कर रही हैं और वह अपना खुद का संगीत उनके सामने बजाने से बचती हैं। वाका वाका सिंगर के उनके साथी और फुटबॉल स्टार जेरार्ड पिक के साथ दो बेटे, मिलन(आठ) और साशा (छह) साल के हैं।

Gerard Pique reveals how he wooed Shakira… by asking about the weather! | Goal.com

femalifirst.co.uk की रिपोर्ट के अनुसार, शकीरा ने ईटी कनाडा को बताया, मैं (अपने बच्चों को) अपने गाने नहीं सुनाती हूं। मैं अपने घर में अपना खुद का संगीत बजाने से बचने की कोशिश करती हूं। मैं उन्हें नॉर्मल वातावरण देने की कोशिश करती हूं।

27 of Shakira and Gerard Piqué's Family Photos with Their Kids

44 वर्षीय गायिका का कहना है कि वह इस बात से इनकार नहीं कर सकतीं कि वह एक पब्लिक फिगर हैं। उन्होंने आगे कहा कि, मैं इनकार नहीं कर सकती कि बच्चे कभी ये नहीं जानेंगे कि वो ऐसे माता पिता की संतान हैं जो पब्लिक फिगर हैं। लेकिन हमसे जितना हो सकता है उतना सामान्य स्थिति देने की कोशिश करते हैं और हकीकत में बहुत ही सादे लोगों की तरह जिंदगी जीते हैं।

17 Thoughtful Parenting Quotes From Shakira | HuffPost Life

शकीरा ने हाल ही में बच्चों के अलग होने के बारे में एक अच्छा निबंध लिखा था जिससे उन बच्चों पर रोशनी डाली जा सके जो अपने माता-पिता से अलग हो गए हैं और अमेरिकी सीमा पर हिरासत में हैं।

Shakira, Justin Bieber and Seal outshone by little-known French singer at awards ceremony! - OK! Magazine

उन्होंने लिखा ,कोलंबिया दुनिया के सबसे खूबसूरत और विविध देशों में से एक है, लेकिन असमानता और सामाजिक गतिशीलता की कमी से भरा हुआ है। इसके विपरीत, अमेरिका मुझे एक ऐसी जगह लगती है जिसे हमेशा समान अवसर और असीमित आकांक्षाओं के प्रतिमान के रूप में रखा जाता है, जहां कोई भी सफल हो सकता है।