comScore

Health Bulletin: 78 जिलों में 14 दिन से नया केस नहीं, सरकार ने स्टेशनरी और पंखों की दुकान खोलने की अनुमति दी

April 23rd, 2020 17:50 IST
Health Bulletin: 78 जिलों में 14 दिन से नया केस नहीं, सरकार ने स्टेशनरी और पंखों की दुकान खोलने की अनुमति दी

हाईलाइट

  • देशभर में अबतक 21 हजार 393 कोरोना संक्रमित
  • 4,257 लोग हुए अबतक ठीक

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। अब तक 681 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार प्रेस ब्रीफिंग में बताया कि देश में बीते 24 घंटों में कोरोना के 1409 नए मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही कुल संक्रमितों की संख्या 21,393 हो गई है। इनमें से इनमें से 4,258 लोग अब स्वस्थ हो चुके हैं। 16,454 लोग अस्पतालों में कोरोना से जंग लड़ रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि बीते 28 दिन में 4 जिलों में कोरोना के कोई मामले नहीं आए थे, ये संख्या अब बढ़ कर 12 हो गई है, जहां बीते 28 दिनों के भीतर कोई नया मामला सामने नहीं आया है। इस सूची में अब चित्रदुर्ग, बिलासपुल, मणिपुर का एक जिला, आइजोल, पीलीभीत, एसबीएस नगर और साउथ गोवा भी शामिल हैं। 

लव अग्रवाल ने बताया कि साथ ही 23 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 78 ऐसे जिले हैं, जहां बीते 14 दिन से कोरोना का कोई ताजा मामला सामने नहीं आया है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार कुछ घटनाओं को छोड़ कर देश भर में लॉकडाउन के दौरान स्थति सामान्य रही है। इस बीच स्वास्थ्य मंत्री ने आईएमई से चर्चा कर स्वास्थ्यकर्मियों की सुरक्षा का वादा किया है।

किताबों और इलेक्ट्रिक पंखों की दुकान खोलने की अनुमति
गृह मंत्रालय संयुक्त सचिव पुण्य सलिता श्रीवास्तव ने बताया कि वरिष्ठ नागरिकों की बैक साइड अटेंडेंट और देखभाल सेवाओं को प्रतिबंधों से छूट दी गई है। प्रीपेड मोबाइल रिचार्ज सेवाओं, मिल्क प्रोसेसिंग यूनिट, ब्रेड फैक्ट्री, आटा मिलों को छूट दी गई है। उन्होंने आगे बताया कि विद्यार्थियों के लिए शैक्षणिक किताबों की दुकानों और गर्मी के मौसम को देखते हुए इलेक्ट्रिक पंखों की दुकानों को खोलने की अनुमति दी गई है।

जिला स्तर पर अस्पतालों की क्षमता बढ़ाई
पत्रकारों से चर्चा के दौरान एंपावर्ड ग्रूप के पर्यावरण सचिव और चेयरमैन सीके मिश्रा ने बताया कि बीते 30 दिन में हमने टेस्टिंग बढ़ाई है। इसके साथ ही सरकार ने राजधानी में ही नहीं, बल्कि जिला स्तर पर अस्पतालों की क्षमता बढ़ाई है। अब सरकार की कोशिश है कि जिला स्तर पर मौजूद अस्पतालों को दुरुस्त किया जाए और वहां दवाई, ऑक्सीजन जैसी सुविधाओं की कमी न हो। गंभीर मामलों के मरीजों को इसके बाद ऐसे अस्पताल में ले जाने की व्यवस्था की जाएगी, जहां आईसीयू और वेन्टिलेटर सुविधा है। बीते दिनों देश में आइसोलेशन बेड की संख्या और अस्पतालों में बेड संख्या भी बढ़ाई है और इसे और बढ़ाने पर काम जारी है।
 

कमेंट करें
rNbhf