comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

वंदे भारत एक्सप्रेस: आठ घंटे में तय होगा दिल्ली से कटरा का सफर, शाह ने दिखाई हरी झंडी


हाईलाइट

  • गृहमंत्री अमित शाह ने वंदे भारत एक्सप्रेस का किया शुभारंभ
  • गृहमंत्री अमित शाह ने ट्रेन को दिखाई हरी झंडी
  • 8 घंटे में तय होगा नई दिल्ली से कटरा तक का सफर

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। नई दिल्ली से वैष्णो देवी कटरा तक का सफर तय करने वाले रेल यात्रियों को मोदी सरकार ने बड़ी सौगात दी है।गृहमंत्री अमित शाह ने आज (गुरुवार) हरी झंडी दिखाकर नई दिल्ली स्टेशन पर वंदे भारत एक्सप्रेस का शुभारंभ किया। इस मौके पर रेल मंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद थे। देश की सबसे तेज रफ्तार से चलने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस (22439 व 22440) महज 8 घंटे में दिल्ली से कटरा तक का सफर तय करेगी। पहले ये सफर तय करने में 12 घंटे का समय लगता था। अब वैष्णो देवी जाने वाले यात्रियों की 4 घंटे बच जाएंगे। बता दें कि भले इसका शुभारंभ आज हुआ है, लेकिन नियमित रूप से ये सेवा 5 अक्टूबर से मंगलवार को छोड़कर प्रतिदिन चलेगी। इसके लिए बुकिंग भी शुरू हो चुकी है।

वंदे भारत एक्सप्रेस लान्च करने के बाद गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि रेल मंत्री पीयूष गोयल के नेतृत्व में काम कर रहे पूरे रेल विभाग के सभी लोगों को हृदय से बहुत-बहुत बधाई देना चाहता हूं कि आपने जम्मू-कश्मीर को आज नवरात्रि के शुभ अवसर पर एक बहुत बड़ा तोहफा देने का काम किया है। उन्होंने आगे कहा कि 2014 में जबसे नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने, तबसे सभी यात्रा स्थानों तक सभी यात्री सुगमता और सरलता से पहुंच सके, इसके लिए सरकार ने बहुत से कदम उठाए हैं। 

अमित शाह ने कहा कि आज हाईस्पीड वंदे भारत रेलगाड़ी माता वैष्णो देवी के दरबार में जाएगी। इससे एक नई शुरुआत वैष्णो देवी जाने वाले यात्रियों की सुविधा के लिए होने जा रही है। 17 फरवरी को वंदे भारत एक्सप्रेस दिल्ली से वाराणसी के लिए शुरू की गई। प्रधानमंत्री मोदी ने रेल विभाग के सामने एक कल्पना रखी की धीरे-धीरे हाईस्पीड ट्रेन का भारत में एक जाल बिछाया जाए।

जाने वंदे भारत एक्सप्रेस से जुड़ी खास बातें

  • जम्मू से दिल्ली तक का ट्रेन का एसी चेयर का न्यूनतम किराया 1365 और अधिकतम 3014 रुपये होगा। 
  • ट्रेन में सीसीटीवी, वाई-फाई, बॉयोवैक्यूम टॉयलेट, जीपीएस सिस्टम, आरामदायक चेयर की सुविधा है। 
  • ट्रेन की शीशे को खास तरीके से बनाया गया है। इस पत्थर का असर नहीं होगा। 
  • ट्रेन रफ्तार 130 किलोमीटर प्रतिघंटे से लेकर 180 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी।
  • बता दें कि पहली वंदे भारत ट्रेन जब ट्रैक पर उतरी थी तो पत्थरबाजों ने कई बार इसे निशाना बनाया। अब पत्थर फेंके जाने का असर इस पर नहीं पड़ेगा और यात्री भी बिना डर के यात्रा कर सकेंगे।
  • ट्रैक पर फेंसिंग नहीं होने के कारण तेज रफ्तार से चलने वाली ट्रेनों से जानवर अक्सर मारे जाते हैं। इससे ट्रेन को भी क्षति पहुंचती है। इसे ध्यान में रखकर ट्रेन को इस तरह तैयार किया गया है कि जानवर ट्रेन के भीतर नहीं फंसे। जानवर जैसे ही ट्रेन से टकराएगा तो सेफ गार्ड उसे ट्रैक से अलग फेंक देगा। 
  • पहली वंदे भारत में पेंट्री की सुविधा नहीं होने से खाना परोसने में परेशानी हो रही थी। दिल्ली-कटड़ा के बीच चलने वाली दूसरी वंदे भारत ट्रेन में अलग से पेंट्री के लिए जगह की व्यवस्था की गई है। 
  • विमान की तर्ज पर खाने को गर्म करने की व्यवस्था होगी। आइसक्रीम रखने की भी अलग से व्यवस्था है।
  • ट्रेन का स्टाफ डिजाइनर ड्रेस में दिखेगा। मशहूर फैशन डिजाइनर रितु बेरी के डिजाइन किए सूट में स्टाफ यात्रियों के टिकट चेक करेगा और उनका स्वागत करेगा। 
  • इस ट्रेन के ड्राइवर को विमान की तरह ही कैप्टन कहा जाएगा। खाना परोसने वाले परिचारक भी एक जैसी ड्रेस में दिखेंगे।
  • वंदे भारत एक्सप्रेस में ऑटोमेटिक दरवाजा मुख्य गेट पर तो होगा ही, कोच के अंदर भी सेंसरयुक्त गेट होगा। 
  • यात्री जैसे ही दरवाजे के समीप पहुंचेंगे, यह स्वत: खुल जाएगा। 
  • रीडिंग ग्लास भी सिर्फ छू लेने मात्र से जलेगा और बुझ जाएगा।
  •  नई वंदे भारत में आरामदायक सीटों की व्यवस्था की गई है। 
  • यह सीट 180 डिग्री पर घूम भी सकती है। इसका फायदा यह होगा कि चार लोग एक साथ यात्रा कर रहे तो सीट घुमाकर आमने-सामने बैठ सकेंगे। 
  • इस ट्रेन में यात्रियों को सभी आधुनिक सुविधाएं मिलेंगी। 
  • ट्रेन के 16 कोच में 14 चेयर कार और 2 एग्जीक्यूटिव क्लास चेयर कार कोच होंगे। चेयर कार कोच में 78 कुर्सियां हैं। एग्जीक्यूटिव क्लास में 52 यात्री सफर करेंगे।
  • सुबह 6 बजे चल दोपहर 2 बजे पहुंचेगी कटरा
  • ट्रेन नई दिल्ली स्टेशन से सुबह 6 बजे चलेगी।
  • अंबाला स्टेशन पर यह 8:10 बजे पहुंचेगी। इसके बाद 9:19 बजे लुधियाना, 12:38 बजे जम्मू और दोपहर दो बजे कटड़ा स्टेशन पर पहुंचेगी।
  • वापसी दिशा में कटड़ा से ट्रेन तीन बजे चलेगी। शाम 4:13 बजे यह जम्मू, 7:32 बजे लुधियाना, रात 8:48 बजे अंबाला कैंट पहुंचेगी।
  • नई दिल्ली स्टेशन पर ट्रेन रात के 11 बजे पहुंच जाएगी। ट्रेन हर स्टेशन पर महज दो मिनट के लिए ही रुकेगी।
कमेंट करें
qLEXb
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।