comScore

अपने ही हेलिकॉप्टर Mi-17 को मार गिराने पर वायु सेना 2 अधिकारियों का करेगी कोर्ट मार्शल


हाईलाइट

  • एयर स्ट्राइक के दूसरे दिन 27 फरवरी को हुए Mi-17 हेलिकॉप्टर क्रैश का मामला
  • Mi-17 हेलिकॉप्टर क्रैश में शहीद हो गए थे छह अधिकारी
  • मामले में वायुसेना के एयर कॉमोडोर रैंक के अधिकारी ने की जांच

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। श्रीनगर के बड़गाम में 27 फरवरी को हुए Mi-17 हेलिकॉप्टर क्रैश मामले में वायुसेना के दो अधिकारियों का कोर्ट-मार्शल किया जाएगा। वहीं 4 अन्य अधिकारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी। जानकारी अनुसार बालाकोट एयर स्ट्राइक के अगले दिन पाकिस्तान ने भारतीय सैन्य प्रतिष्ठानों पर हवाई हमले की नाकाम कोशिश की थी। उस दिन भारतीय वायु सेना ने गलती से अपने ही एक हेलिकॉप्टर को मार गिराया था। इसमें 6 अधिकारी शहीद हो गए थे।

रक्षा सूत्रों के अनुसार जिन दो अधिकारियों का कोर्ट-मार्शल किया जाएगा। उनमें एक ग्रुप कैप्टन और एक विंग कमांडर शामिल हैं। वहीं 2 एयर कमोडोर (सेना के ब्रिगेडियर के समतुल्य) और 2 फ्लाइट लेफ्टिनेन्ट (आर्मी कैप्टन के समतुल्य) शामिल हैं। 

27 फरवरी को जब पाकिस्तानी वायुसेना ने भारतीय सैन्य प्रतिष्ठानों पर हमले की नाकाम कोशिश की, उस वक्त श्रीनगर के नजदीक बड़गाम में MI-17 क्रैश हो गया था। शुरुआत में इसे हादसा माना गया, लेकिन बाद में जांच के बाद पता चला कि हेलिकॉप्टर को श्रीनगर में तैनात अपने ही एयर डिफेंस सिस्टम SPYDER ने हिट किया था। 26 फरवरी को बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद से ही इंडियन एयर डिफेंस सिस्टम हाई अलर्ट पर था। मारे जाने से 10 मिनट पहले ही हेलिकॉप्टर ने उड़ान भरी थी।

एयरफोर्स चीफ ने माना, भारी चूक थी
जानकारी अनुसार हाल ही में वायुसेना प्रमुख राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने माना था कि पाकिस्तान के साथ हवाई संघर्ष के दौरान अपने ही MI-17 V5 हेलिकॉप्टर को मार गिराने की बहुत भारी चूक हुई थी। एयर फोर्स चीफ ने देश को आश्वस्त किया कि ऐसी चूक भविष्य में कभी नहीं होगी। उन्होंने कहा था कि हमारी मिसाइल ने ही (हेलिकॉप्टर को) मार गिराया। इसकी पुष्टि हो चुकी है। प्रशासनिक और अनुशासनिक कार्रवाई की जा रही है। जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं, ताकि भविष्य में इस तरह की घटना दोबारा नहीं हो।

ब्लैक बॉक्स चोरी के कारण जांच में देरी हुई
वायुसेना ने एयर कॉमोडोर रैंक के अधिकारी को इस मामले की जांच सौंपी थी। इस जांच में कुछ देरी भी हुई, क्योंकि बड़गाम में ग्रामीणों ने हेलिकॉप्टर का ब्लैक बॉक्स चुरा लिया था। हादसे के दौरान घटना स्थल पर गए सेना के वाहनों पर पत्थरबाजी भी की थी।

कमेंट करें
WUE7v