दैनिक भास्कर हिंदी: इफ्तार पार्टी में पाक ने की थी मेहमानों से बदसलूखी, भारत ने जताया कड़ा विरोध

June 3rd, 2019

हाईलाइट

  • इफ्तार पार्टी में मेहमानों के साथ पाक अधिकारियों की बदसलूकी का भारत ने कड़ा विरोध जताया
  • भारत ने पाकिस्तान से इस मामले की तत्काल जांच कराने को कहा है
  • भारत ने पाकिस्तान की जांच के परिणामों को भी साझा करने को कहा है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग की इफ्तार पार्टी में आमंत्रित अतिथियों के साथ पाकिस्तानी अधिकारियों की बदसलूकी के मामले में भारत ने कड़ा विरोध जताया है। शनिवार को हुई इस घटना के बाद भारतीय हाई कमिश्नर अजय बिसारिया ने पाकिस्तान से इस मामले की तत्काल जांच कराने और परिणामों को साझा करने को कहा है।

भारतीय उच्चायोग ने अपने स्टेटमेंट में कहा कि शनिवार को होटल सेरेना में आयोजित इफ्तार पार्टी में आमंत्रित लोगों को बड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ा। पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसियों ने इफ्तार पार्टी में शामिल होने वाले मेहमानों के साथ बदसलूकी की। पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने पार्टी में शामिल होने लाहौर और कराची जैसे स्थानों से आए मेहमानों को पार्टी में शामिल होने से रोकने के लिए डराया-धमकाया। यहां तक ​​कि शारीरिक रूप से भी मेहमानों को रोका गया।

पाकिस्तान के राजनयिक समुदाय के कई मेहमानों को भी पाकिस्तान सुरक्षा बलों के हाथों उत्पीड़न का शिकार होना पड़ा। आयोग ने कहा कि शीर्ष सांसदों, मीडिया कर्मियों, सेवानिवृत्त सैन्य अधिकारियों सहित 300 से अधिक पाकिस्तानी मेहमानों को इस कार्यक्रम में शामिल होने से रोका गया। उच्चायोग ने कहा, 'एक बड़ी पाकिस्तानी सुरक्षा टुकड़ी, जो फोर्क लिफ्ट से लैस थी, को सेरेना होटल के बाहर पाकिस्तानी नागरिकों को आक्रामक तरीके से हटाने के लिए खड़ा किया गया था। फोर्क लिफ्ट की मदद से कई मेहमानों की कार को भी उठाकर वहां से हटा दिया गया। ये डिप्लोमेटिक नॉर्म का पूरी तरह से उल्लंघन है।'

उच्चायोग ने कहा, होटल सेरेना के बाहर सड़क पर खड़ी पाकिस्तानी सुरक्षा टुकड़ी ने भारतीय उच्चायोग के डिप्लोमेटिक स्टाफ को भी धमकाया जो यह पता लगाने की कोशिश कर रहे थे कि मेहमानों के साथ बदसलूकी क्यों की जा रही है। उच्चायोग के कुछ अधिकारियों के साथ पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने धक्का-मुक्की की, अपशब्द कहे और आक्रामक रूप से शारीरिक नुकसान की धमकी दी गई। कुछ अधिकारियों के मोबाइल छीन लिए गए।

पाकिस्तान में भारत के हाई कमिश्नर अजय बिसारिया बिसारिया ने इसे राजनयिक मानदंडों और प्रोटोकॉल का उल्लंघन बताते हुए कहा कि यह सभ्य व्यवहार के सभी मानदंडों के खिलाफ था। उन्होंने कहा, यह हमारे द्विपक्षीय संबंधों के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं है। हमने पाकिस्तानी सरकार से इस मामले की तुरंत जांच करने के लिए कहा है और जांच के रिजल्ट को भारतीय उच्चआयोग के साथ साझा करने को कहा है। हमने पाकिस्तानी सरकार से जोर देकर कहा है कि वह सुनिश्चित करे कि इस तरह के कार्यक्रम बिना किसी भय और हैरेसमेंट के किए जा सके।

एक पत्रकार ने कहा कि उन्होंने सामान्य सुरक्षा से अधिक उपस्थिति देखी लेकिन इनविटेशन कार्ड और आइडेंटिटी प्रूफ रखने वालों को उपस्थित होने की अनुमति दी गई। उन्होंने कहा, 'मेरे इनविटेशन कार्ड की जांच की गई थी। मुझसे पेशे और निवास के बारे में सवाल पूछे गए थे जिसके बाद अंदर जाने की अनुमति दी गई।' एक अन्य पत्रकार ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि उन्होंने सुरक्षा जांच और पूछताछ की आशंका के चलते पार्टी अटेंड नहीं की। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसी रिपोर्टें थीं कि कुछ मेहमानों को गुमनाम कॉलर्स ने इस कार्यक्रम में शामिल नहीं होने के लिए कहा था।