दैनिक भास्कर हिंदी: J&K: सीजफायर उल्लंघन में 5 नागरिक घायल, जवाबी कार्रवाई में पाक की 7 चौकियां तबाह

April 3rd, 2019

हाईलाइट

  • J&K: पाकिस्तान की गोलाबारी में पांच नागरिक घायल।
  • जवाबी कार्रवाई में भारत ने पाक की 7 चौकियां तबाह की।
  • भारतीय सेना ने पाक सेना के तीन सैनिकों को भी मार गिराया।

डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में एलओसी पर पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। पाकिस्तान की तरफ से कई दिनों से सीजफायर का उल्लंघन किया जा रहा है। पाकिस्तान की गोलाबारी में करीब पांच नागरिक घायल हुए हैं। वहीं भारत ने भी सीजफायर उल्लंघन पर पाक को मुंहतोड़ जवाब दिया है। भारतीय सेना ने जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान की सात चौकियां तबाह कर दी है। मंगलवार को भारतीय सेना ने पाक के तीन सैनिकों को भी मार गिराया था।

दरअसल पाकिस्तान लगातार लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) से सटे रिहायशी इलाकों को निशाना बना रहा हैं। मंगलवार को पुंछ के शाहपुर सेक्टर और राजौरी के नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तान ने भारी मोर्टार दागे और गोलीबारी की गई। इससे कई गांवों में घरों को नुकसान पहुंचा है। फायरिंग से पुंछ के शाहपुर में पांच नागरिक भी घायल हुए है। इससे पहले सोमवार को पाक की फायरिंग में एक बच्ची सहित दो नागरिकों की जान चली गई थी।

पाकिस्तानी सेना ने की पुष्टि
पाकिस्तान की तरफ से लगातार सीजफायर उल्लंघन के बाद भारतीय सेना ने भी पाक को मुंहतोड़ जवाब दिया है। भारतीय सेना की कार्रवाई से पाकिस्तान की करीब 7 चौकियां तबाह हो गई हैं। पाकिस्तान के तीन सैनिक भी मारे गए हैं। खुद पाकिस्तान की सेना ने भारतीय सेना की कार्रवाई की पुष्टि की है। सीजफायर उल्लंघन का जवाब देने के लिए सेना तोप और ATGM मिसाइल का इस्तेमाल कर रही है। पाकिस्तान के रखचिकरी, रावलकोट, नकियाल, शाहपुर-कांडी, कोटली और भिंबर इलाकों में भारी नुकसान हुआ है।

तनाव को देखते हुए लोगों को घरों में रहने की सलाह
जानकारी के मुताबिक, पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी सेना की ओर से सोमवार को की गई गोलाबारी में बीएसएफ के एक इंस्पेक्टर शहीद हो गए थे। पांच साल की एक बच्ची सहित दो नागरिकों की जान चली गई थी। इस गोलाबारी में 24 लोगों के घायल होने की भी खबर थी। फिलहाल पुंछ और राजौरी में सीमा से लगे स्कूलों को बंद कर दिया गया है। इसके अलावा नियंत्रण रेखा पर जारी तनाव और पाकिस्तान की गोलाबारी के मद्देनजर लोगों को घरों में रहने की सलाह दी गई है।