दैनिक भास्कर हिंदी: बयान पर बवाल: इधर सामने आई इंदिरा और करीम लाला की तस्वीर, उधर राउत का यू टर्न

January 16th, 2020

हाईलाइट

  • इंदिरा गांधी-करीम लाला की तस्वीर आई
  • करीम लाला के पोते ने किया बड़ा खुलासा
  • संजय राउत ने अपना बयान वापस लिया

डिजिटल डेस्क, मुंबई। शिवसेना नेता संजय राउत के पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला की मुलाकात वाले बयान पर उठा सियासी बवाल थमता नजर नहीं आ रहा है। कांग्रेस की आपत्ति के बाद संजय ने भले ही अपने बयान को वापस ले लिया, लेकिन अब पूर्व पीएम इंदिरा गांधी और करीम लाला की एक तस्वीर सामने आई है। जो सोशल मीडिया पर भी काफी वायरल हो रही है। वहीं इस मामले को लेकर करीम लाला के पोते ने बड़ा खुलासा किया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने कहा कि करीम लाला के दफ्तर में इंदिरा गांधी की उनके साथ मुलाकात की तस्वीरें हैं। यही नहीं, करीम लाला के साथ एनसीपी चीफ शरद पवार और पूर्व शिवसेना चीफ बाल ठाकरे की तस्वीरें भी मौजूद हैं। दिनभर के इस घटनाक्रम के बाद अब भाजपा भी मैदान में कूद गई है।

वायरल तस्वीर 1973 की है जब कवि हृदयनाथ चटोपाध्याय को भारत सरकार ने पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था। इसमें पूर्व पीएम इंदिरा गांधी, अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला और कवि हृदयनाथ चटोपाध्याय साथ दिख रहे हैं। 

संजय का बयान 
बता दें कि शिवसेना सांसद संजय राउत ने बुधवार को दावा किया था कि इंदिरा गांधी मुंबई में अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला से मिलने आती थीं। संजय राउत के इस बयान के बाद सियासी बवाल मच गया। एक दौर था जब दाऊद इब्राहिम, छोटा शकील, शरद शेट्टी मुंबई पुलिस के कमिश्नर तय किया करते थे। इसी के साथ उनका काम सरकार में मंत्रियों का नाम भी तय करना था।

करीम लाला के पोते ने बताया शरद पवार और बाल ठाकरे भी मिलने आते थे
संजय राउत के दावे के बाद करीम लाला का पोते जेहनजेब खान ने भी इसकी पुष्टि की कि पूर्व पीएम इंदिरा गांधी करीम लाला से मिला करती थीं। जेहनजेब ने बताया कि करीम लाला के ऑफिस में उनके दादा और पूर्व इंदिरा गांधी की तस्वीरें भी हैं। जेहनजेब ने बताया कि सिर्फ इंदिरा ही नहीं उनके दादा करीम लाला से वर्तमान में एनसीपी प्रमुख शरद पवार और पूर्व शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे भी मिलने आते थे। इनकी तस्वीरें भी यहां मौजूद हैं।

फडणवीस ने कांग्रेस पर साधा निशाना
संजय के बयान के बाद भारतीय जनता पार्टी को कांग्रेस पर निशाना साधने का मौका मिला गया। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि संजय राउत ने बहुत बड़ा खुलासा किया है। फडणवीस ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए सवाल किया कि, 'क्या कांग्रेस उस समय अंडरवर्ल्ड के भरोसे चुनाव जीतती थी, क्या कांग्रेस को अंडरवर्ल्ड से फाइनेंस मिलता था। संजय राउत ने खुलासा किया है कि उस समय 1960 से 1980 तक मुंबई के कमिश्नर की नियुक्ति अंडरवर्ल्ड करता था क्या यह सच है?'

 

 

कांग्रेस की आपत्ति
राउत के बयान पर कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा ने आपत्ति जताई और कहा​ कि, इंदिरा गांधी एक देशभक्त थीं। संजय राउत अपना बयान वापस लें।'

संजय ने वापस लिया बयान 
अपने बयान पर विवाद बढ़ता देख संजय राउत ने कहा कि कांग्रेस के जो हमारे मित्र हैं, उनको आहत होने की जरूरत नहीं है। अगर किसी को लगता है कि मेरी उस बात से इंदिरा जी की प्रतिमा को ठेस पहुंची है या किसी की भावनाओं को ठेस पहुंची है तो मैं अपना बयान वापस लेता हूं। 

 

 

 

 

खबरें और भी हैं...