comScore

दिल्ली के बिजनेस हाउस पर आयकर विभाग ने मारा छापा, 1000 करोड़ की टैक्स चोरी पकड़ी

दिल्ली के बिजनेस हाउस पर आयकर विभाग ने मारा छापा, 1000 करोड़ की टैक्स चोरी पकड़ी

हाईलाइट

  • आयकर विभाग ने यह कार्रवाई वीवीआईपी हेलिकॉप्टर से जुड़े हवाला सौदे को लेकर की थी
  • कार्रवाई से बड़ी मात्रा में कर चोरी, हवाला लेनदेन और मनी लॉन्ड्रिंग का खुलासा हुआ है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। आयकर विभाग ने बुधवार को ​दिल्ली के बिजनेस हाउस पर छापा मारा। इस दौरान आयकर विभाग को 1000 से अधिक की कर चोरी का पता चला है। आयकर विभाग ने यह कार्रवाई वीवीआईपी हेलिकॉप्टर से जुड़े हवाला सौदे को लेकर की थी। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने बताया कि बिजनेस हाउस विभिन्न ई-गवर्नेंस प्रोजेक्ट और वित्तीय सेवाओं से जुड़ा था। हालांकि अधिकारियों ने बिजनेस हाउस का नाम नहीं बताया।

सीबीडीटी ने कहा- जिस व्यापारिक समूह पर छापे मारे गए, वह कई ई-गवर्नेंस प्रोजेक्टों से जुड़ा है और वित्तीय सेवाएं भी प्रदान करता है।वहीं आयकर अधिकारियों ने पुष्टि की है कि बिजनेस हाउस अलंकित ग्रुप है, जिसके देश के कई शहरों और दुबई में भी दफ्तर हैं। अधिकारियों ने बताया कि छापे और जब्ती की कार्रवाई से बड़ी मात्रा में कर चोरी, हवाला लेनदेन और मनी लॉन्ड्रिंग का खुलासा हुआ है।अलंकित ग्रुप दिल्ली और कोलकाता में मुखौटा कंपनियों के जरिए अवैध धन का लेनदेन करता था।

राजीव वीवीआईपी हेलिकॉप्टर घोटाले में भी आरोपी

जांच से यह भी पता चला है कि दुबई के ऑपरेटर राजीव सक्सेना की मुखौटा कंपनियों के जरिए दुबई में बड़ी मात्रा में कमीशन भी प्राप्त हुआ। राजीव सक्सेना वीवीआईपी हेलिकॉप्टर घोटाले में भी आरोपी है। इस कमीशन के एक हिस्से को अलंकित ग्रुप के जरिए भारत में वापस भेजा गया।

सक्सेना को दुबई से भारत लाया गया था

सक्सेना को 3,600 करोड़ रुपए के वीवीआईपी हेलिकॉप्टर घोटाले में मनी लॉन्ड्रिंग और भ्रष्टाचार के मामले में दुबई से भारत लाया गया था। विभाग को सक्सेना द्वारा बड़ी राशि की कर चोरी किए जाने की आशंका है। प्राथमिक स्तर की जांच के मुताबिक, हवाला कारोबार और अवैध तरीकों से धन लाने में चोरी किए गए टैक्स की राशि 1,000 करोड़ रु. से ज्यादा हो सकती है।

कमेंट करें
itoWk