comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

जन्मदिन विशेष: ऐसा था भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जीवन

जन्मदिन विशेष: ऐसा था भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जीवन

हाईलाइट

  • 2 अक्टूबर 1869 को हुआ था गांधी जी का जन्म
  • वकालत की पढ़ाई के लिए विदेश गए थे गांधी जी
  • अहमदाबाद में की थी सत्याग्रह आश्रम की स्थापना

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। उन्हें बापू के नाम से भी जाना जाता है। महात्मा गांधी के पिता का नाम करमचंद गांधी था, जो पोरबंदर में कठियावाड़ रियासत के दीवान थे। उनकी माता का नाम पुतलीबाई था। महात्मा गांधी की शुरुआती पढ़ाई-लिखाई स्थानीय स्कूलों में हुई। वो पोरबंदर के प्राथमिक स्कूल में उसके बाद राजकोट स्थित अल्बर्ट हाई स्कूल में पढ़े। 

गांधी जी वकालत की पढ़ाई के लिए गए थे विदेश
1883 में जब गांधी जी सिर्फ 13 वर्ष के थे तब उनकी शादी कस्तूरबा माखनजी से कर दी गई थी। शादी के बाद 1888 में गांधी जी वकालत की पढ़ाई करने के लिए ब्रिटेन गए। जून 1891 में वो वकालत की पढ़ाई पूरी करने के बाद वापस अपने देश आ गए थे। 1893 में गांधी जी गुजराती व्यापारी शेख अब्दुल्ला के वकील के तौर पर काम करने के लिए दक्षिण अफ्रीका चले गए। गांधी जी रस्किन बॉण्ड और लियो टॉलस्टाय की शिक्षा से बहुत ज्यादा प्रभावित थे। वो जैन दार्शनिक राज चंद्र से भी प्रेरित थे। गांधी ने दक्षिण अफ्रीका में टॉलस्टाय फार्म की भी स्थापना की थी। लंदन प्रवास के दौरान उन्होंने हिंदू, ईसाई और इस्लाम धर्मों का अध्ययन किया था। उन्होंने विभिन्न धर्मों के प्रमुख बुद्धजीवियों के साथ धर्म संबंधी विषयों पर काफी चर्चा की थी। 

अहमदाबाद में सत्याग्रह आश्रम की स्थापना 
गांधी जी ने दक्षिण अफ्रीका में प्रवासी भारतीयों के अधिकारों और ब्रिटिश शासकों की रंगभेद की नीति के खिलाफ सफल आंदोलन किए। 1915 में जब वो भारत वापस आए तो उनकी आगवानी के लिए मुंबई के कई प्रमुख कांग्रेसी नेता उनके स्वागत के लिए पहुंचे। इन नेताओं में गोपाल कृष्ण गोखले भी शामिल थे, जिन्हें गांधी जी अपना राजनीतिक गुरू मानते थे। महात्मा गांधी की भारत वापसी के पीछे गोखले की अहम भूमिका थी। भारत आने के बाद गांधी ने मई में गुजरात के अहमदाबाद में सत्याग्रह आश्रम की स्थापना की। 

इस सफलता से प्रेरणा लेकर महात्‍मा गांधी ने भारतीय स्‍वतंत्रता के लिए किए जाने वाले अन्‍य अभियानों में सत्‍याग्रह और अहिंसा के विरोध जारी रखी, जैसे कि 'असहयोग आंदोलन', ' अवज्ञा आंदोलन', 'दांडी यात्रा' तथा 'भारत छोड़ो आंदोलन'। गांधी जी के इन सारे प्रयासों से भारत को 15 अगस्‍त 1947 को स्‍वतंत्रता मिल गई।

महात्मा गांधी का सामाजिक जीवन 
महात्मा गांधी सादा जीवन जीवन उच्च विचार को मानने वाले व्यक्ति थे। उनके इसी स्वभाव की वजह से उन्हें लोग महात्मा करकर पुकारते थे। गांधीजी प्रजातंत्र के बहुत बड़े समर्थक थे और अपना हथियार सत्य और अहिंसा को कहा करते थे। इन्हीं दो हथियारों के बल पर उन्होंने भारत को अंग्रेजों से आजाद कराया था। गांधीजी ऐसे व्यक्तितिव के धनी थे कि उनसे जो भी मिलता था वो पहली ही बार में बहुत प्रभावित हो जाता था। गांधी जी ने समाज में फैली छुआछूत की की भावना को दूर करने के लिए बहुत प्रयास किए। उन्होंने पिछड़ी जातियों को ईश्वर के नाम पर हरि-जन नाम दिया और जीवनभर उनके उत्थान के लिए प्रयासरत रहे। 

नाथूराम गोडसे ने की थी महात्मा गांधी की हत्या 
जीवनभर सत्य और अहिंसा के पथ पर चलने की बात कहते हुए 1948 में दुनिया को अलविदा कह गए। 30 जनवरी 1948 को नाथूराम गोडसे ने गोली मारकर महात्मा गांधी की हत्या कर दी। उन्हें तीन गोलियां मारी गईं थीं जिसके बाद उनके मुख से अंतिम शब्द निकले थे 'हे राम'। 

कमेंट करें
5VAnU
कमेंट पढ़े
Shubhansh September 27th, 2019 21:46 IST

Very nice Very nice

NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।