दैनिक भास्कर हिंदी: Ladakh: LAC पर तनाव कम करने को राजी हुए भारत और चीन, दोनों देश सीमा विवाद सुलझाने के लिए 3 चरणों में हटाएंगे सैनिक 

November 12th, 2020

हाईलाइट

  • पहले चरण में टैंकों, बख्तरबंद वाहनों और सैनिकों को सीमा से एक तय दूरी पर वापस लिया जाएगा
  • 30 अगस्त को भारत ने महत्वपूर्ण पहाड़ी ऊंचाइयों पर कब्जा कर लिया था
  • हर दिन 30 प्रतिशत सैनिकों को वापस लिया जाएगा

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद को सुलझाने के प्रयास जारी हैं। इसके तहत दोनों पक्ष पूर्वी लद्दाख के पैगॉन्ग लेक एरिया से सेना पीछे हटाने पर राजी हो गए हैं। दोनों देशों की सेनाएं पूर्वी लद्दाख में 3 चरणों वाले (थ्री-स्टेप) डिसइंगेजमेंट (सैनिकों को पीछे हटाना) करेगी। इसमें भारत और चीन 3 दिन तक रोज 30% सैनिक वापस बुलाएंगे।

आगे वाले स्थान (फॉरवर्ड एरिया) से सैनिकों को पीछे हटाने यानी डिसइंगेजमेंट के तहत दोनों देशों के जवान अप्रैल वाली अपनी पुरानी यथास्थिति पर लौट जाएंगे। हालांकि अभी डेपसांग क्षेत्र में व्याप्त तनाव को लेकर किसी भी नतीजे पर नहीं पहुंचा जा सका है। गतिरोध खत्म करने के लिए छह नवंबर को चुशुल में कॉर्प्स-कमांडर लेवल की आठवें चरण की बातचीत की गई थी।

पहले टैंक, फिर सैनिक पीछे हटेंगे
एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा कि दोनों देश सैनिकों के निर्वासन सहित तीन-चरण के डिसइंगेजमेंट प्रस्ताव पर काम करने के लिए सहमत हुए हैं, लेकिन अभी तक जमीन पर कुछ भी नहीं हुआ है। इस सप्ताह नौवें दौर की वार्ता होने की संभावना है, लेकिन अभी तारीख तय नहीं हुई है।

  • पहले चरण में टैंकों, बख्तरबंद वाहनों और सैनिकों को सीमा से एक तय दूरी पर वापस ले जाना है। बातचीत में बनी सहमति के मुताबिक, टैंक और सैनिक एक दिन के अंदर हटाए जाने हैं।
  • दूसरे स्टेप में पैगॉन्ग लेक के नॉर्दर्न बैंक के पास से दोनों पक्षों को 3 दिन तक हर दिन लगभग 30 फीसदी सैनिकों को वापस बुलाना है। इसके बाद भारतीय सैनिक अपनी एडमिनिस्ट्रेटिव धन सिंह थापा पोस्ट के करीब आ जाएंगे। वहीं, चीन ने फिंगर 8 की अपनी पहले वाली स्थिति में वापस जाने पर सहमति जताई है।
  • तीसरे और अंतिम चरण में दोनों पक्षों को पैगॉन्ग झील एरिया के दक्षिणी तट के साथ-साथ चुशूल और रेजांग ला के आसपास ऊंचाई वाले इलाकों में अपनी तैनाती वाली जगहें खाली करनी है।

30 अगस्त को भारत ने महत्वपूर्ण पहाड़ी ऊंचाइयों पर कब्जा कर लिया था
दरअसल, 30 अगस्त को भारत ने रेचन ला, रेजांग ला, मुकर्पी, और टेबलटॉप जैसे दक्षिणी तट पर पैंगोंग झील के पास महत्वपूर्ण पहाड़ी ऊंचाइयों पर कब्जा कर लिया था, जो तब तक मानव रहित थी। भारत ने ब्लैकटॉप के पास भी कुछ तैनाती की है। चीन द्वारा भड़काऊ सैन्य कदम उठाने की कोशिश के बाद यह कार्रवाई की गई थी। दोनों देशों के सैनिक माइनस 20 डिग्री सेल्सियस तापमान के संपर्क में रहते हैं, इसलिए दोनों देश अब सैनिकों को वापस लेने पर सहमत हुए हैं।

हर दिन 30 प्रतिशत सैनिकों को वापस लिया जाएगा
एक सूत्र ने कहा, हर दिन 30 प्रतिशत सैनिकों को वापस ले लिया जाएगा। सैनिकों के पीछे हटने की प्रगति को ड्रोन और प्रतिनिधिमंडल की बैठकों की सहायता से सत्यापित किया जाएगा। चीन ने भारतीय क्षेत्र में एलएसी के पास विभिन्न स्थानों पर यथास्थिति बदलने का प्रयास किया था। भारत ने इस पर आपत्ति जताई और वह चीन के साथ सभी स्तरों पर इस मामले को उठा रहा है।

गलवान घाटी में 15 जून को हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक हुए ​थे
15 जून को पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। इसमें काफी चीनी सैनिक हताहत हुए थे, मगर वह इस संबंध में कोई जानकारी नहीं दे रहा है।