दैनिक भास्कर हिंदी: LIVE: शाह की छात्रों से अपील, CAA को समझें, इसमें किसी की नागरिकता छीनने का प्रावधान नहीं

December 17th, 2019

हाईलाइट

  • दिल्ली में फिर से शुरू हुआ CAA के खिलाफ प्रदर्शन
  • 5 जनवरी तक जामिया में छुट्टी, कैंपस से जा रहे छात्र
  • उत्तर प्रदेश और बंगाल के कई इलाकों में इंटरनेट सेवाएं बंद

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के कैंपस में नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) को लेकर छात्रों का मिडनाइट प्रोटेस्ट खत्म हो गया है। इसके बाद भी जामिया कैंपस और उत्तर प्रदेश की अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी पर अब भी तनाव बना हुआ है। दिल्ली में हालात सामान्य होने के कारण मेट्रो स्टेशन्स खोल दिए गए हैं, लेकिन कई स्कूल अब भी बंद हैं। उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल के कई इलाकों में इंटरनेट सेवाएं बंद हैं, जिससे खासतौर पर सोशल मीडिया में अफवाह और गलत खबरें न फैलाई जा सकें। सीएम ममता बेनर्जी ने पुलिस को हाई अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए हैं। उधर असम में स्थिति में सुधार के चलते गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ में कुछ देर के लिए कर्फ्यू हटा दिया गया है, लेकिन शांतिपूर्ण प्रदर्शन अब भी जारी है।

LIVE UPDATE:

अलीगढ़ में कल रात तक के लिए इंटरनेट बंद किया गया। वहीं, मऊ में भी नागरिकता कानून के विरोध की खबर है। बताया जा रहा है कि यहां पुलिस पर पथराव हुआ है। इसे लेकर यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि मऊ में स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है। प्रशासन हालात पर बारीक नजर रखे हुए है। इलाके में धारा 144 लगा दी गई है। 

 

 

अमित शाह ने झारखंड के पोरेहाट में कहा कि- मैं छात्रों से निवेदन करता हूं कि वे नागरिकता संशोधन कानून को समझें। इसमें किसी की नागरिकता छीनने का प्रावधान नहीं है। कांग्रेस, आप और टीएमसी आपको गुमराह कर रहे हैं और देश में हिंसा का माहौल पैदा कर रहे हैं।

 

 

प्रियंका गांधी वाड्रा ने दिल्ली में इंडिया गेट पर प्रतिकात्मक प्रदर्शन के बाद मीडिया से चर्चा में कहा कि सरकार ने संविधान को एक झटका दिया है। यह राष्ट्र की आत्मा पर हमला है, युवा राष्ट्र की आत्मा हैं। विरोध करना उनका अधिकार है। मैं भी एक मां हूं। आपने उनकी लाइब्रेरी में प्रवेश किया, उन्हें बाहर निकाला और उनकी पिटाई की। यह अत्याचार है। कांग्रेस का हर व्यक्ति इस अत्याचार के खिलाफ लड़ेगा और छात्रों के साथ खड़ा होगा।

 

 

 प्रियंका ने कहा कि प्रधानमंत्री को इस बात पर जवाब देना चाहिए कि रविवार रात जामिया मिलिया विश्वविद्यालय में क्या हुआ, किसकी सरकार ने छात्रों के साथ मारपीट की? प्रधानमंत्री को डूबती अर्थव्यवस्था पर बोलना चाहिए। उनकी पार्टी के विधायक ने एक लड़की के साथ बलात्कार किया, उस पर बात क्यों नहीं की?

 

 

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्यों में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए मुख्यमंत्रियों को निर्देश दिए हैं कि वे हिंसा रोकने के लिए जरूरी कदम उठाएं। सूत्रों के अनुसार गृह मंत्रालय ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को एक एडवाइजरी जारी की है। इसमें कहा गया है कि देश के कुछ हिस्सों में हिंसा और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान होने की घटनाओं को देखते हुए, हिंसा को रोकने और नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाएं जाएं।
 

 

इंडिया गेट के पास प्रियंका गांधी वाड्रा, केसी वेणुगोपाल, एके एंटनी, पीएल पुनिया, अहमद पटेल और अन्य कांग्रेस नेता प्रतीकात्मक विरोध प्रदर्शन पर बैठे हैं।

 

 

जामिया मिल्लिया इस्लामिया (दिल्ली) और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में छात्रों के विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई के विरोध में प्रियंका गांधी वाड्रा और अन्य कांग्रेस नेता दिल्ली में इंडिया गेट के सामने एक प्रतीकात्मक विरोध करने बैठे।

 

 

कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि यह एक ऐसी सरकार है, जिसने देश के युवाओं और छात्रों के अधिकारों पर हमला किया है। इसीलिए प्रियंका गांधी वाड्रा और अन्य वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं ने इंडिया गेट पर शाम 4 बजे से 2 घंटों के लिए एक सांकेतिक विरोध प्रदर्शन करने का फैसला किया है।
 

 

जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार एपी सिद्दीकी ने यूनिवर्सिटी में पुलिस की कार्रवाई पर कहा कि हम मानव संसाधन विकास मंत्रालय को एक उच्च-स्तरीय समिति गठित करने या मामले की न्यायिक जांच करने की सिफारिश करेंगे। हमने जामिया को हुए नुकसान का आंकलन करने के लिए एक समिति बनाई है। जिन छात्रों को चिकित्सा उपचार की आवश्यकता है, हम उन्हें चिकित्सा सहायता देंगे।

 

कलकत्ता उच्च न्यायालय ने पश्चिम बंगाल सरकार से 13 दिसंबर के बाद राज्य में कानून व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए सरकार द्वारा किए गए उपायों की एक रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा है।

 

 

अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे: दिल्ली पुलिस पीआरओ

मीडियाकर्मियों पर हमले के मामले में दिल्ली पुलिस पीआरओ एमएसआई रंधावा ने कहा कि हम इस घटना की निंदा करते हैं, हम पहचान करेंगे और अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे।

 

 

पश्चिम बंगाल में सोमवार को चौथे दिन भी जारी रहा प्रदर्शन

पश्चिम बंगाल में संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन सोमवार को चौथे दिन भी जारी रहा और विभिन्न क्षेत्रों से सड़क और रेल मार्ग बाधित करने की खबरें सामने आईं। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। राष्ट्रीय नागरिक पंजी और नागरिकता कानून का विरोध करने में अग्रणी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी विवादास्पद संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ दोपहर बाद कोलकाता की सड़कों पर उतरीं। ममता बनर्जी ने अपने हजारों पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ मार्च निकाला और राज्य में प्रस्तावित एनआरसी एवं संशोधित नागरिकता कानून लागू नहीं करने देने का निश्चय किया।

न्यूज एजेंसी के पत्रकार और कैमरापर्सन की पिटाई

न्यूज एजेंसी एएनआई के पत्रकार और कैमरापर्सन की ओखला के होली फैमिली अस्पताल के बाहर हमला हुआ है। एएनआई ने ट्वीट के जरिए घटना की जानकारी दी है। जानकारी अनुसार जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के गेट नंबर एक के पास विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों ने एएनआई के रिपोर्टर उज्ज्वल रॉय और कैमरामैन सरबजीत सिंह की पिटाई कर दी। इन दोनों मीडियाकर्मियों का दिल्ली के होली फैमिली अस्पताल में उपचार किया जा रहा है।

 

 

संसद के आपातकालीन सत्र को बुलाया जाए

नागरिकता कानून को लेकर समाजवादी पार्टी के राज्यसभा सांसद राम गोपाल यादव ने कहा कि मेरी मांग है कि संसद का आपातकालीन सत्र बुलाया जाए। नागरकिता कानून में संशोधन किया जाए, ताकि धर्म के आधार पर कोई भेदभाव न हो सके या फिर इस अधिनियम को निरस्त किया जाए।

नागरिकता कानून पर हिंसा दुखद-पीएम मोदी 

नागरिकता कानून को लेकर देशभर में हो रहे विरोध प्रदर्शन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून पर हिंसक प्रदर्शन करना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। चर्चा और विरोध लोकतंत्र का हिस्सा है लेकिन सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाना सही नहीं है।

विपक्ष ने की प्रेस कांफ्रेंस

नागरिकता कानून पर विपक्ष ने प्रेस कांफ्रेस की। जिसमें राज्यसभा में कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने कहा कि हिंसा के लिए केंद्र सरकार जिम्मेदार है। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी के उस बयान पर टिप्पणी की जिसमें उन्होंने हिंसा के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताया था पर कहा कि यदि कांग्रेस के पास इतनी ताकत होती तो आप सत्ता में नहीं होतो। बिना अनुमति के पुलिस कॉलेज में कैसे घुस गई।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने मांगा शाह से समय, ममता ने किया पैदल मार्च

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली की बिगड़ती कानून व्यवस्था से मैं बहुत चिंतित हूं। राज्य में तुरंत शांति सुनिश्चित करने के लिए, मैंने गृह मंत्री अमित शाह से बैठक के लिए समय मांगा है। वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इस कानून के विरोध में कलकत्ता में पैदल मार्च कर रही हैं।

 

 

हिंसा में स्थानीय लोग शामिल छात्र नहीं

जामिया की वाइस चांसलर नजमा अख्तर ने कहा है कि हम देशभर में हो रहे प्रदर्शन की बात नहीं करते। हमारे बच्चे सुरक्षित रहें हमारा कैंपस सुरक्षित रहे ये हम चाहते हैं। हिंसा में स्थानीय लोग शामिल हैं छात्र नहीं। वीसी का आरोप है कि बिना पूछे पुलिस कैंपस में घुस गई और हमारे बच्चों के साथ बर्बरता की और उन्हें डराया गया।

पुलिस के खिलाफ FIR कराएंगे : जामिया VC

 

 

जामिया यूनिवर्सिटी की कुलपति नजमा अख्तर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया कि पुलिस ने बिना अनुमति के जामिया कैंपस में प्रवेश किया। उन्होंने कहा कि 'हम कैंपस में पुलिस के खिलाफ FIR दर्ज करेंगे।' उन्होंने बताया कि 'प्रॉपर्टी को दोबारा पुनर्निमाण किया जा सकता है, लेकिन जो हमारे छात्रों के साथ किया गया उसकी भरपाई नहीं की जा सकती।' इसके साथ ही उन्होंने उच्च स्तरीय जांच की मांग भी की है।

 

 

नजमा अख्तर ने कहा कि 'जामिया यूनिवर्सिटी में कफी नुकसान हुआ है इसकी भरपाई कैसे होगी? इसके साथ ही जो हमारे बच्चों का भावनात्मक नुकसान हुआ है उनके साथ हिंसा हुई है, हम उसके लिए बहुत चिंतित हैं।' उन्होंने रविवार की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि 'मैं सभी से अपील भी करती हूं कि किसी भी तरह की अफवाहों पर भरोसा न करें।'

 

 

इस दौरान नजमा अख्तर ने यूनिवर्सिटी के छात्र की मौत को अफवाह करार दिया। उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी के किसी भी छात्र की मौत नहीं है। दो छात्रों के मौत होने की अफवाह उड़ाई जा रही है, जिसे हम पूरी तरह खारिज करते हैं। इसके अलावा उन्होंने बताया कि विरोध प्रदर्शन के दौरान लगभग 200 लोग घायल हुए जिनमें से कई जामिया यूनिवर्सिटी के छात्र थे।

 

 

 

 

MANUU छात्रों का प्रदर्शन

हैदराबाद की मौलाना आजाद नेशनल उर्दू यूनिवर्सिटी के छात्रों द्वारा CAA के खिलाफ और जामिया छात्रों के समर्थन में प्रदर्शन किया जा रहा है। बता दें कि MANUU के छात्र संघ ने अपने विरोध प्रदर्शन के कारण यूनिवर्सिटी की परीक्षा को बहिष्कार करने का फैसला लिया है। संघ ने एक्जाम कंट्रोलर से परीक्षा स्थगित करने की मांग भी की है।

 

 

लखनऊ के नदवा कॉलेज में विरोध

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के नदवा कॉलेज में भी CAA के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया गया है। लथनऊ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि 'लगभग 150 छात्रों द्वारा CAA के खिलाफ नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया गया और छात्रों ने करीब 30 सेकंड तक पथराव भी किया।' बहरहाल पुलिस ने कॉलेज के गेट बंद कर दिया है और सभी छात्र अपने क्लासरुम लौट गए हैं।

 

 

मंगलवार को SC में सुनवाई

सीनियर एडवोकेट इंदिरा जयसिंह ने जामिया और AMU छात्रों पर पुलिस द्वारा किए गए लाठीचार्ज को मानव अधिकारों का उल्लंघन बताते हुए चीफ जस्टिस (CJI) एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली बेंच के सामने इस मुद्दे को संज्ञान में लेने की मांग उठाई है। इस पर CJI बोबडे ने कहा कि 'हम अधिकारों का निर्धारण करेंगे, लेकिन दंगों के माहौल में नहीं।' उनका कहना है कि 'जब तक दंगों की स्थिति बनी रहेगी, तब तक हम मामले को संज्ञान में नहीं लेंगे।'

 

 

CJI बोबडे ने बताया कि 'हम अधिकारों और शांतिपूर्ण प्रदर्शनों के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन यदि सार्वजनिक संपत्ति की हिंसा और विनाश जारी रहता है, तो हम इसे नहीं सुनेंगे।' सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को मामले की सुनवाई करेगा। सुनवाई के लिए CJI बोबडे ने पहले देश की मौजूदा स्थिति को सामान्य करने की शर्त रखी हैं।

 

 

CJI बोबडे ने जामिया और AMU के छात्रों के संबंध में कहा कि वे छात्र हैं तो इसका मतलब ये नहीं कि वे कानून व्यवस्था को अपने हाथों में ले सकते हैं। उन्होंने कहा कि पहले दंगे थमने दिए जाए, ऐसी स्थिति में हम कुछ भी तय नहीं कर सकते हैं।

 

 

CM पिनरई का BJP-संघ पर निशाना

CAA के खिलाफ लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट और यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट द्वारा किए जा रहे विरोध प्रदर्शन में केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन भी शामिल हैं। उन्होंने CAA को लेकर देश भर की मौजूदा स्थिति के लिए भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को जिम्मेदार बताया है। सीएम पिनरई ने कहा कि 'भाजपा और संघ अपना एजेंडा लागू करने की कोशिश रहे हैं। देश के हालात अस्थिर है।' उन्होंने कहा कि 'केरल CAA के खिलाफ खड़ा है।'

 

 

पुलिस ने दर्ज की FIR

रविवार को जामिया नगर इलाके में विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसा के संबंध में पुलिस ने चीजों के नुकसान और दंगों पर दो FIR दर्ज की गई है।

 

 

केरल CM विरोध प्रदर्शन में शामिल

CAA के खिलाफ संयुक्त विरोध प्रदर्शन में केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन और विधानसभा में विपक्ष के नेता रमेश चेन्नीथला शामिल हुए हैं।

 

 

गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ में कर्फ्यू से राहत

असम में CAA को लेकर विरोध प्रदर्शन के बाद स्थिति सामान्य होने के बाद गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ के लोगों को कर्फ्यू से राहत से राहत मिली है। यहां सुबह 6 बजे से शाम 8 बजे तक के लिए कर्फ्यू हटा दिया गया है। प्रदेश में अब भी शांतिपूर्ण प्रदर्शन जारी है।

 

 

जामिया से जा रहे छात्र

रविवार को CAA को लेकर प्रदर्शन करने के बाद अब जामिया के छात्र यूनिवर्सिटी कैंपस छोड़कर जा रहे हैं। प्रदर्शन के बाद जामिया प्रशासन ने 5 जनवरी तक छात्रों को छुट्टी देने का फैसला किया है।

 

 

MANUU छात्रों ने किया परीक्षा का बहिष्कार

हैदराबाद की मौलाना आजाद नेशनल उर्दू यूनिवर्सिटी के छात्र संघ ने परीक्षा को बहिष्कार करने का फैसला लिया है। संघ ने यूनिवर्सिटी के एक्जाम कंट्रोलर को पत्र लिखा है। संघ ने कहा है कि 'जामिया और AMU छात्रों पर पुलिस हमले के खिलाफ MANUU के छात्रों के विरोध के कारण यूनिवर्सिटी के छात्र परीक्षा का बहिष्कार कर रहे हैं, आप इसे स्थगित करने का अनुरोध करें।'

 

 

दिल्ली में खोले गए सभी मेट्रो स्टेशन

राजधानी में दंगों के चलते रविवार रात कई मेट्रो स्टेशनों को बंद कर दिया गया था। अब स्थितियां सामान्य होने पर सोमवार सुबह सभी स्टेशन खोल दिए गए हैं।