दैनिक भास्कर हिंदी: लोकसभा चुनाव 2019: यूपी में सपा-बसपा से कांग्रेस का गठबंधन!

March 7th, 2019

हाईलाइट

  • एयर स्ट्राइक के बाद यूपी के राजनीतिक समीकरण बदले।  
  • लोकसभा चुनाव के लिए सपा-बसपा से हो सकता है कांग्रेस का गठबंधन।
  • 15 सीट लेकर सपा-बसपा से हाथ मिला सकती है कांग्रेस।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर उत्तर प्रदेश के राजनीतिक समीकरण में बड़ा बदलाव हो सकता है। कांग्रेस को अलग कर गठबंधन का ऐलान करने वाले सपा-बसपा नए सिरे से राजनीतिक समीकरण बनाने में जुट गए है। अब कांग्रेस भी सपा-बसपा के गठबंधन का हिस्सा बन सकती है। सपा-बसपा गठबंधन में पहले ही आरएलडी को शामिल कर चुके है और अब कांग्रेस को हिस्सेदार बनाने की कोशिश जारी है। इसी बीच समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने कहा कि, यूपी में कांग्रेस हमारे साथ है। वे हमारे गठबंधन में 2 सीटों से चुनाव लड़ेंगे। 

 

 

कांग्रेस को मिल सकती हैं 15 सीटें
दरअसल भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक के बाद उत्तर प्रदेश के राजनीतिक समीकरण बदल गए हैं। माना जा रहा है सपा-बसपा गठबंधन में कांग्रेस को 15 सीटें मिल सकती हैं। जानकारी के मुताबिक, यूपी में कांग्रेस-सपा-बसपा में गठबंधन को लेकर बातचीत जारी है। सपा-बसपा गठबंधन में कांग्रेस को 15 सीट देने के लिए राजी है। इन 15 सीटों में 7 सीटें सपा और 6 सीटें बसपा कांग्रेस के लिए छोड़ सकती हैं। इसके अलावा अमेठी और रायबरेली की सीट पहले ही सपा-बसपा ने कांग्रेस के लिए छोड़ रखी है।


जल्द कर सकते हैं गठबंधन का ऐलान
खबरों के मुताबिक, चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद गठबंधन का ऐलान किया जा सकता है। हालांकि गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में राहुल गांधी ने भी संकेत दिए हैं कि, यूपी में गठबंधन की बातचीत जारी है। यूपी में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाले बीजेपी के विजयरथ को रोकने के लिए सपा-बसपा गठबंधन कांग्रेस को भी साथ लाने में जुटी है। कांग्रेस ने 20 सीटों की डिमांड रखी हैं, लेकिन गठबंधन ने उन्हें पहले 9 सीटें देने की बात कही थी, जिसे पार्टी ने स्वीकार नहीं किया। अब कांग्रेस ने 15 प्लस 2 सीटों की डिमांड रखी है। दो सीटें रायबरेली और अमेठी हैं। इस तरह कांग्रेस 17 सीटें मांग रही हैं।


पहले कांग्रेस को गठबंधन से कर दिया था अलग
गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी को हराने के लिए सपा-बसपा ने गठबंधन का ऐलान किया था। कुल 80 लोकसभा सीटों में से 38 बसपा और 37 सीटों पर सपा ने चुनाव लड़ने की घोषणा की थी। जबकि तीन सीटें आरएलडी को देने का ऐलान किया गया था। 


 

खबरें और भी हैं...