comScore

सूरत : कॉम्प्लेक्स में लगी भीषण आग, 20 की मौत, जान बचाने के लिए नीचे कूदे कुछ छात्र


हाईलाइट

  • गुजरात के सूरत में सरथाना इलाके में एक इमारत की दूसरी मंजिल पर भीषण आग लग गई
  • ये आग सूरत के तक्षशिला कॉम्प्लेक्स में लगी है
  • इस हादसे में 10 छात्रों के मौत होने की खबर है

डिजिटल डेस्क, सूरत। गुजरात के सूरत में सरथाना इलाके की एक इमारत में भीषण आग लग गई। ये आग तक्षशिला कॉम्प्लेक्स में लगी थी जहां पर कोचिंग सेंटर चलाया जा रहा था। जिस वक्त ये आग लगी उस वक्त कोचिंग सेंटर में करीब 30 छात्र मोजूद थे। आग में फंसे कई छात्र खुद को बचाने के लिए चौथी मंजिल से नीचे कूद गए। इस हादसे में अब तक 20 छात्रों की मौत हो गई है। गुजरात सरकार ने इसकी पुष्टी की है। आशंका जताई जा रही है कि मरने वालों की संख्या और भी ज्यादा बढ़ सकती है। फिलहाल आग पर काबू पाया जा चुका है,और घायलों का इलाज स्थानीय अस्पताल में चल रहा है।

एक दमकल अधिकारी ने बताया कि आग लगने की जानकारी मिलते ही फायर ब्रिगेड की टीम मौके पर पहुंच गई और राहत और बचाव अभियान शुरू किया गया। आग पर काबू पाने के लिए दमकल की करीब 18 गाड़ियों की मदद ली गई। राहत और बचाव कार्य में स्थानीय लोगों ने भी दमकलकर्मियों का सहयोग किया। आग लगने की वजह शॉर्ट सर्किट बताई जा रही है। गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने इस हादसे की जांच के आदेश दिए हैं और तीन दिनों के अंदर इसकी रिपोर्ट मांगी है।। वहीं मृतकों के परिजनों के लिए 4-4 लाख रुपए के मुआवजे और घायलों के मुफ्त इलाज का ऐलान किया गया है। रूपानी ने अस्पताल पहुंचकर घायल लोगों से मुलाकात भी की है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी से इस हादसे के संबंध में बात की और सभी मदद का आश्वासन दिया। नड्डा ने एम्स ट्रॉमा सेंटर के निदेशक को सभी सहायता प्रदान करने का भी निर्देश दिया। एम्स दिल्ली के बर्न एंड ट्रॉमा विभाग के डॉक्टरों की एक टीम गठित की गई है और उसे अलर्ट पर रखा गया है।

वडोदरा नगर निगम ने इस हादसे के तुरंत बाद शहर के लगभग 152 कोचिंग क्लासेस को तत्काल नोटिस जारी किया। इस नोटिस में कहा गया है कि जब तक वे फायर सेफ्टी डिपार्टमेंट से एनओसी हासिल नहीं कर लेते तब तक कोटिंग सेंटरों को बंद रखा जाए।

हादसे के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पीड़ित परिवारों के साथ अपने संवेदनाएं प्रकट की है। पीएम ने ट्वीट कर कहा, 'सूरत की इस त्रासदी से बेहद दुखी हूं। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं। घायलों के जल्दी ठीक होने की कामना करता हूं। गुजरात सरकार और स्थानीय अधिकारियों से प्रभावित लोगों को हर संभव सहायता प्रदान करने के लिए कहा है।'

विजय रूपाणी ने भी दुख व्यक्त करते हुए कहा, 'सूरत त्रासदी की खबर से गहरा दुख हुआ। अधिकारियों को जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं। मेरी प्रार्थना प्रभावितों के साथ है। जो लोग घायल हुए हैं वे जल्द से जल्द ठीक हो जाएं। मैं दिवंगत आत्माओं के लिए प्रार्थना करता हूं। ओम शांति।'

कांग्रेस प्रेसिडेंट राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, 'सूरत, गुजरात में हुये इस हादसे की ख़बर से बहुत दुःख पहुंचा है। पीड़ित परिवारों के प्रति, मैं गहरी शोक और संवेदना व्यक्त करता हूं। घायलों के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।'

कमेंट करें
P79rb
कमेंट पढ़े
Kishan May 24th, 2019 20:57 IST

Sirf khabar chapne se kuch ni hoga... Ap media ke pas power h expression ka Esa future me n ho... Is ke liye aapko esa ki har commercial , school building mein fire extinguisher ho Aur har school mein padhai keep sath fire accident mein kese bache , fire extinguisher la use kaise kre etc. Sad Batae... Agar aap serious honge to is mudde ko jaroor uthaenge Or agar aap is mudde ko ni uthate h to ye aapko tab samj aega jab aapka bacha esi condition me fasa hoga...