दैनिक भास्कर हिंदी: मालेगांव ब्लास्ट : साध्वी प्रज्ञा,कर्नल पुरोहित के खिलाफ तय होंगे आरोप !

February 7th, 2018

डिजिटल डेस्क, मुंबई। 2008 के मालेगांव ब्लास्ट मामले में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित और छह अन्य आरोपियों के खिलाफ आज आरोप तय हो सकते हैं। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की एक विशेष कोर्ट आरोप तय कर सकती है। गौरतलब है कि 15 जनवरी को मामला लिस्ट किया गया था, लेकिन जज के नहीं होने के चलते सुनवाई 7 फरवरी तय की थी।

गौरतलब है कि 27 दिसंबर को  मुंबई की विशेष कोर्ट ने 2008 के मालेगांव बम धमाके के मामले मे आरोपी साध्वी प्रज्ञा सिंह, रमेश उपाध्याय, कर्नल प्रसाद पुरोहित पर मकोका कानून के तहत लगाए गए आरोप हटा दिए थे, लेकिन इनके खिलाफ दूसरे कानून के तहत मुकदमे चलते रहने की बात रही थी। कोर्ट ने  मामले से बरी करने के लिए दायर की गई आरोपियों की याचिकाएं खारिज कर दी थीं। वहीं अदालत ने इस मामले से प्रवीण टाकले नाम के आरोपी को बरी कर दिया था।

बता दें इस मामले पर 20 नवंबर 2008 को मकोका लगा दिया गया था और ATS ने 21 जनवरी 2009 को पहला आरोप पत्र दायर किया,  जिसमें 11 गिरफ्तार और 3 फरार आरोपी दिखाए गए। इसके बाद इस केस की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को सौंप दी गई। NIA ने तकरीबन 4 साल की जांच के बाद 31 मई 2016 को नई चार्जशीट फाइल की थी।

कौन हैं कर्नल पुरोहित ?

मालेगांव ब्लास्ट केस में अभियुक्त बनाए गए कर्नल श्रीकांत पुरोहित का संबंध दक्षिण पंथी संगठन अभिनव भारत से बताया जाता है। बॉम्बे हाइकोर्ट ने NIA की रिपोर्ट के आधार पर कहा था, कि पुरोहित ने हिंदू राष्ट्र के लिए अलहदा संविधान बनाने के साथ, एक अलग भगवा झंडा बनाया। उन्होंने हिंदुओं पर मुस्लिमों के अत्याचार का बदला लेने पर भी विचार-विमर्श किया।

Image result for कर्नल पुरोहित

 

29 सितंबर 2008 को हुआ था मालेगांव धमाका

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के मालेगांव के अंजुमन चौक तथा भीकू चौक पर 29 सितंबर 2008 को बम धमाके हुए थे। इनमें 6 लोगों की मौत हो गई थी वहीं 101 लोग घायल हुए थे।इस मामले में महाराष्ट्र ATS ने  पाया कि ब्लास्ट के पीछे कथित तौर पर कुछ हिन्दुवादी संगठनों का हाथ है। इस केस के बाद ही सबसे पहले हिंदू आतंकवाद शब्द का इस्तेमाल हुआ था। करीब चार हजार पन्नों के आरोप पत्र में यह आरोप लगाया गया था कि मालेगांव को धमाके के लिए इसलिए चुना गया क्योंकि वहां भारी तादात में मुस्लिम आबादी थी।  इस धमाके के मुख्य आरोपी प्रज्ञा ठाकुर और लेफ्टिनेंट कर्नल को मुख्य अभियुक्त माना गया, जबकि स्वामी दयानंद पांडे को मुख्य साजिशकर्ता बताया गया था।