दैनिक भास्कर हिंदी: मप्र में ही मिलेगा प्रवासी मजदूरों को रोजगार : शिवराज

June 24th, 2020

हाईलाइट

  • मप्र में ही मिलेगा प्रवासी मजदूरों को रोजगार : शिवराज

भोपाल, 24 जून (आईएएनएस)। कोरोना महामारी के कारण काम-धंधा बंद होने पर अपने घर लौटे प्रवासी मजदूरों को मध्यप्रदेश में ही रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यह ऐलान बुधवार को किया।

आधिकारिक तौर पर दी गई जानकारी के अनुसार, मुख्यमंत्री चौहान ने प्रवासी श्रमिकों और नियोक्ताओं के साथ फेसबुक लाइव के माध्यम से संवाद किया। इस दौरान उन्होंने कहा, कोविड संकट काल में लौटे हर प्रवासी श्रमिक को मध्यप्रदेश की धरती पर ही उनकी योग्यता अनुसार रोजगार मिलेगा।

उन्होंने कहा कि रोजगार सेतु के माध्यम से जहां प्रवासी श्रमिकों को उनकी दक्षता अनुसार रोजगार प्राप्त हो रहा है, वहीं नियोक्ताओं को उनकी आवश्यकता के अनुसार कामगार मिल रहे हैं। नियोक्ता अधिक से अधिक प्रवासी श्रमिकों को रोजगार दें, सरकार उनके कार्य में सहयोग करेगी।

मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेश के सात लाख से अधिक प्रवासी श्रमिकों एवं 19 हजार से अधिक नियोक्ताओं को फेसबुक लाइव के माध्यम से संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में प्रत्येक प्रवासी श्रमिक को रोजगार दिया जा रहा है। अभी तक तीन लाख 37 हजार 857 प्रवासी श्रमिकों के जब कार्ड बनाए गए हैं तथा एक लाख 62 हजार 840 को रोजगार दिया गया है।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में 6004 प्रवासी श्रमिकों को रोजगार सेतु के माध्यम से रोजगार दिया गया है, यह प्रक्रिया निरंतर जारी है। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस ने बताया कि रोजगार सेतु कौशल अनुसार रोजगार दिलाने का ऑटोमेटिक मोड बन गया है।

बताया गया है कि रोजगार सेतु में 19641 नियोक्ताओं ने पंजीयन कराया है। मुख्यमंत्री चौहान से चर्चा के दौरान उन्होंने बताया कि रोजगार सेतु के माध्यम से उन्हें जरूरत के अनुसार कामगार आसानी से मिल रहे हैं। कोरोना संकट के कारण उपजी लेबर प्रोब्लम दूर हो गई है।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सभी प्रवासी श्रमिकों को संबल योजना से जोड़ा गया है। अब उन्हें बच्चों की पढ़ाई-लिखाई, दुर्घटना सहायता, मृत्यु पर सहायता, अंत्येष्टि सहायता, बिटिया की शादी, प्रसूति सहायता, बिजली बिलों मे छूट आदि सभी सुविधाएं मिलेंगी।