comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

छत्तीसगढ़: पीएम ने राष्ट्र के नाम समर्पित की भिलाई इस्पात संयंत्र आधुनिकीकरण परियोजना

June 14th, 2018 16:18 IST

हाईलाइट

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का छत्तीसगढ़ दौरा।
  • सीएम रमन सिंह समेत अन्य नेताओं ने किया पीएम का स्वागत।
  • पीएम मोदी ने इंटीग्रेटेड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर का उद्घाटन किया।
  • भिलाई स्टील प्लांट का पीएम ने निरीक्षण किया।
  • भिलाई इस्पात संयंत्र के आधुनिकीकरण परियोजना को राष्ट्र के नाम समर्पित किया।
  • चुनावी राज्य छत्तीसगढ़ में पीएम नरेंद्र का दो माह में दूसरा दौरा

डिजिटल डेस्क, रायपुर।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज (14 जून) छत्तीसगढ़ के दौरे पर हैं। पीएम मोदी ने भिलाई स्टील प्लांट का निरीक्षण किया। उन्होंने भिलाई इस्पात संयंत्र आधुनिकीकरण परियोजना को राष्ट्र के नाम समर्पित कर दिया है इसके साथ ही उन्होंने IIT भिलाई का शिलान्याश भी किया।
 

  • भिलाई के जयंती स्टेडियम में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा भिलाई ने सिर्फ स्टील ही नहीं बनाया है, बल्कि भिलाई ने जिंदगियों को भी संवारा है। समाज को सजाया है और देश को भी बनाया है।
  • किसी भी तरह की हिंसा का, हर तरह की साजिश का एक ही जवाब है, विकास और विकास - पीएम
  • हमने विकास के माध्यम से विश्वास का वातावरण बनाने का प्रयास किया है- पीएम

पीएम मोदी ने IIT भिलाई का शिलान्यास किया।

पीएम मोदी ने नया रायपुर में इंटीग्रेटेड कमांड और कंट्रोल सेंटर का उद्घाटन किया। इस सेंटर से स्मार्ट सिटी नया रायपुर की पूरी व्यवस्था ऑनलाइन जुड़ी रहेगी। इस दौरान पीएम मोदी ने वहां मौजूद बच्‍चों से मुलाकात की और भिलाई में रोड शो भी किया। 

पीएम मोदी ने भिलाई में रोड शो किया।


पीएम मोदी ने नया रायपुर में इंटीग्रेटेड कमांड और कंट्रोल सेंटर ( एकीकृत कमांड और नियंत्रण केन्द्र) का उद्घाटन किया।
 

पीएम मोदी ने बच्चों से भी मुलाकात की।
 

राजधानी रायपुर पहुंचने पर सीएम रमन सिंह समेत अन्य नेताओं ने पीएम मोदी का स्वागत किया।

तीन चरणों में विकसित होगा आईआईटी भिलाई 

आईआईटी भिलाई के स्थायी परिसर को तीन चरणों में विकसित किया जाएगा और इसमें कुल 7500 छात्र-छात्राएं पढ़ सकेंगे। वर्तमान में यह संस्थान शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज रायपुर में संचालित है। यह संस्थान वर्ष 2020 में स्थायी रूप से दुर्ग के कुठेलभाटा एवं सिसराखुर्द स्थित 445 एकड़ वाले परिसर में चली जाएगी। इस परिसर का निर्माण सितंबर-2018 में शुरू हो जाएगा।

आईआईटी भिलाई से कंप्यूटर सांइस, इलेक्ट्रिकल तथा मेकेनिकल विषयों में बीटेक एवं एमटेक किया जा सकेगा। इसके साथ ही छह विषयों गणित, रसायन, कंप्यूटर विज्ञान, इलेक्ट्रिकल, मेकेनिकल इंजीनियरिंग तथा भौतिकी में पीएचडी भी की जा सकती है। यहां लैब में 3 डी प्रिंटिंग एवं आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, रोबोट आदि की सुविधा है। 

पीएम मोदी शाम को लौट जाएंगे दिल्ली 

पीएम मोदी छत्तीसगढ़ में तमाम कार्यक्रमों के बाद स्वामी विवेकानंद विमानतल से वायुसेना के विशेष विमान से दिल्ली लौट जाएंगे। 

14 हजार किलो हलवा, डेढ़ लाख फ़ूड पैकेट 

पीएम मोदी की जनसभा में आने वाले लोगों के लिए डेढ़ लाख भोजन पैकेट तैयार किए गए हैं। पैकेट में छह पूड़ी के साथ हलवा और अचार रहेगा। इतनी अधिक मात्रा में फ़ूड पैकेट तैयार करने का कार्य तीन जिलों रायपुर, दुर्ग और राजनांदगांव में किया गया है। फूड पैकटों के लिए 9 लाख पूड़ियां तली जाएंगी, जबकि 14 हजार किलो हलवा तैयार होगा। यही नहीं चना मुर्रा, बिस्किट और केला भी दिया जाएगा। गर्मी और उमस को देखते हुए पानी पाउच के अलावा लगभग तीन लाख मट्ठे के पैकेट बांटे जाएंगे।  भोजन के पैकेट तैयार करने में 12 हजार किलो आटा, 2 हजार किलो सूजी, 4 हजार किलो शक्कर, 6 हजार लीटर तेल, 1 लाख पैकेट अचार और 600 किलो किशमिश का इस्तेमाल किया गया है। 

सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त 

प्रधानमंत्री मोदी की सभा के एक किलोमीटर के दायरे में  वीवीआईपी के वाहनों को छोड़ शेष वाहनों को प्रतिबंधित कर दिया गया है। पीएम के कार्यक्रम के लिए सभा में जुटने वाली भीड़ को लाने ले जाने के लिए 11 सौ बसें अधिग्रहीत की गई हैं। इसके अलावा पार्टी कार्यकर्ताओं ने लगभग ढाई हजार वाहनों विशेषकर मैटाडोर, जीप, कार, ट्रैक्टर और ऑटो रिक्शा का अलग से प्रबंध किया है। पिछले दिनों नक्सलियों द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश के खुलासे के बाद पीएम मोदी की सुरक्षा का विशेष प्रबंध किया गया है। नक्सल प्रभावित इलाका होने के चलते ख़ुफ़िया एजेंसियों के कर्मचारी पूरी तरह से सक्रिय हैं। रायपुर और भिलाई में छत्तीसगढ़ पुलिस और केंद्रीय सुरक्षा बलों की कई कंपनियां तैनात की गई हैं। कार्यक्रम स्थल को पूरी तरह से एसपीजी के नियंत्रण में सौप दिया गया है।
 

कमेंट करें
n1B4j
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।