comScore

वायनाड में राहुल गांधी बोले- मोदी ने संसद में मनरेगा का मजाक उड़ाया था, कांग्रेस सबकी बातें सुनने में विश्वास करती है

वायनाड में राहुल गांधी बोले- मोदी ने संसद में मनरेगा का मजाक उड़ाया था, कांग्रेस सबकी बातें सुनने में विश्वास करती है

हाईलाइट

  • 'भाजपा का विचार शक्तिशाली लोगों का सशक्तिकरण है
  • कांग्रेस राष्ट्र के विकास के लिए हम सबको साथ लेकर चलने में विश्वास करते हैं।
  • राहुल केरल के वायनाड से ही सांसद चुने गए हैं।

डिजिटल डेस्क (भोपाल)।  कांग्रेस नेता राहुल गांधी पार्टी के प्रचार के लिए केरल और तमिलनाडु के दौरा पर हैं। राहुल गांधी ने आज केरल के वायनाड में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि 'भाजपा का विचार शक्तिशाली लोगों का सशक्तिकरण है लेकिन हमारा विचार कमजोरों का सशक्तिकरण करना है। राष्ट्र के विकास के लिए हम सबको साथ लेकर चलने में विश्वास करते हैं। हम अहिंसा, दयालुता, बातचीत और सबकी बातें सुनने में विश्वास करते हैं'। उन्होंने कहा कि UPA के समय विकास का बड़ा कारण मनरेगा था, क्योंकि इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था में पैसे आए। पीएम ने संसद में मनरेगा का मजाक उड़ाया था। उन्होंने कहा था यह भारतीयों का अपमान है, लेकिन उनको कोविड के समय मनरेगा का बजट बढ़ाना पड़ा और मानना पड़ा कि मनरेगा ही लोगों को बचा सकता है। 

जानकारी के मुताबिक, राहुल गांधी मंगलवार को तमिलनाडु में चुनाव प्रचार करेंगे, जहां पार्टी द्रमुक के नेतृत्व वाले गठबंधन के हिस्से के रूप में चुनाव लड़ेगी। गांधी ने पहले ही असम में चुनाव प्रचार शुरू कर दिया है, जहां चुनाव का समय नजदीक आ रहा है, लेकिन पश्चिम बंगाल में उनके चुनाव प्रचार में शामिल होने की कोई स्पष्टता नहीं है, जहां वाम दलों और कांग्रेस ने एक संयुक्त रैली का आयोजन किया है।

राहुल गांधी ने कहा कि, भारत के किसान जिस मुश्किल का सामना कर रहे हैं उसे पूरा देश देख रहा है। केंद्र सरकार किसानों के दर्द को नहीं समझ रही है। कृषि  कानून खेती की व्यवस्था को बर्बाद करने और इस व्यवसाय को मोदी जी के 2-3 दोस्तों को देने के लिए बनाए गए है।  

हालांकि, इस बीच केरल में राहुल की रैली की तैयारी बहुत तगड़ी की गई थी। राहुल केरल के वायनाड से ही सांसद चुने गए हैं। राज्य में पार्टी के अभियान को देखने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सौंपा गया है। गहलोत भी इस दौरान केरल में राहुल के साथ थे। 

कमेंट करें
KmlZq
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।