• Dainik Bhaskar Hindi
  • National
  • NIA raids Al-Qaeda Terrorists arrested National Investigation Agency busts Al-Qaeda module in West Bengal and Kerala

दैनिक भास्कर हिंदी: NIA Raids: केरल और बंगाल में NIA की छापेमारी, अल-कायदा के 9 आतंकियों को किया गिरफ्तार, हमले की साजिश नाकाम

September 19th, 2020

हाईलाइट

  • बंगाल के मुर्शिदाबाद और केरल के एर्नाकुलम में रेड
  • NIA ने अल-कायदा के 9 आतंकियों को गिरफ्तार किया

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने शनिवार सुबह केरल और पश्चिम बंगाल में छापेमारी की और प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन अल-कायदा के नौ आतंकियों को गिरफ्तार किया। ये सभी राजधानी दिल्ली सहित देश के कई हिस्सों में हमले की तैयारी में थे। आतंकवाद-रोधी जांच एजेंसी के अधिकारियों के अनुसार, पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद और केरल के एर्नाकुलम में आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में खुफिया सूचना मिली थी। इसी के आधार पर छापेमारी कर अल-कायदा आतंकियों के इंटर-स्टेट मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया।

दिल्ली सहित कई स्थानों पर हमले की योजना थी
NIA अधिकारियों के मुताबिक, शुरुआती जांच में पता चला है कि, गिरफ्तार किए गए सभी आतंकी सोशल मीडिया के माध्यम से पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन अल-कायदा से जुड़े थे। अल-कायदा आतंकवादियों द्वारा इन्हें कट्टरपंथी बनाया गया था। ये सभी राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली सहित कई स्थानों पर हमले करने की तैयारी में थे। पश्चिम बंगाल से 6 और केरल के एर्नाकुलम से तीन आतंकी गिरफ्तार किए गए हैं।

फंड जुटाने के काम में लगा था मॉड्यूल
गिरफ्तार किए गए आतंकियों के पास से देसी बंदूक, नुकीले हथियार, लोकल बना हुआ शरीर का कवच, विस्फोटक बनाने का सामान, डिजिटल डिवाइस, जिहादी साहित्य और कई दस्तावेज बरामद किए गए हैं। ये मॉड्यूल बड़ी ही सक्रियता से फंड जुटाने के काम में लगे थे। गिरोह के कुछ सदस्य हथियार और गोला-बारूद खरीदने के लिए नई दिल्ली जाने की योजना बना रहे थे।

हथियार बांटने के लिए कश्मीर जाने वाले थे 4 आतंकी
NIA द्वारा गिरफ्तार किए गए अल-कायदा के 9 आतंकवादियों में से चार आतंकी पाकिस्तानी संचालकों के निर्देश पर हथियार बांटने के लिए कश्मीर जाने की योजना बना रहे थे। ये आतंकी सीधे पाकिस्तानी संचालकों के संपर्क में थे।

सभी आतंकवादियों की हुई पहचान
राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने अल-कायदा के जिन 9 आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है, उनकी पहचान- मुर्शीद हसन, इयाकुब बिश्वास, मोसरफ हुसेन के रूप में की गई है। ये तीनों एर्नाकुलम के रहने वाले हैं। नजमुस साकिब, अबू सुफियान, मैनुल मोंडल, लेउ यीन अहमद, अल मामुन कमाल, अतीतुर रहमान ये सभी मुर्शिदाबाद के रहने वाले हैं। अधिकारी ने कहा, उन्हें पुलिस हिरासत और आगे की जांच के लिए केरल और पश्चिम बंगाल में संबंधित न्यायालयों के समक्ष पेश किया जाएगा।

आतंकी ने लॉकडाउन के दौरान किराए पर लिया था घर
केरल के पुलिस प्रमुख लोकनाथ बेहरा ने एर्नाकुलम से गिरफ्तारी की पुष्टि की जहां राज्य में सबसे अधिक प्रवासी मजदूरों की आबादी है। तीनों को कोच्चि के दो स्थानों से उठाया गया। केरल पुलिस को पता चला है कि, हुसैन पिछले एक दशक से केरल में था और अलुवा के पास पेरुम्बवूर में एक कपड़ा दुकान में काम कर रहा था।

मीडिया से बातचीत में मुर्शिद हसन के रूममेट ने कहा, उसने लॉकडाउन के दौरान हमारे साथ रहना शुरू किया था। आमतौर पर वह सप्ताह में केवल दो दिन काम करता था और बाकी समय, वह कमरे में रहता था। हमें उसके या उसके परिवार के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। पुलिस ने अब हसन के साथ रहने वाले सभी लोगों के मोबाइल छीन लिए हैं और उनसे एनआईए कार्यालय में रिपोर्ट करने को कहा है।

एनआईए के प्रवक्ता ने कहा, एजेंसी ने भारत के विभिन्न स्थानों से संचालित इंटर-स्टेट आतंकी मॉड्यूल के बारे में पता चलने के बाद एर्नाकुलम और मुर्शिदाबाद के कई स्थानों पर एक साथ छापे मारे। यह समूह भारत में महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों पर आतंकी हमले करने की योजना बना रहा था, जिसका मकसद निर्दोष लोगों की जान लेना था।