दैनिक भास्कर हिंदी: नोएडा: 'फर्जी' एनकाउंटर में युवक को गोली मारी, दारोगा गिरफ्तार, चार पुलिसकर्मी सस्पेंड

February 4th, 2018

डिजिटल डेस्क, नोएडा। यूपी के गौतम बुद्ध नगर जिले में नोएडा सेक्टर 122 में शादी समारोह से घर लौट रहे जिम ट्रेनर को पुलिस के दरोगा ने गोली मार दी। घायल व्यक्ति का नाम जितेंद्र यादव है जिसे नोएडा के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती किया गया है। घायल की हालत नाजुक बताई जा रही है क्योंकि गोली उसकी गर्दन के पास रीढ़ की हड्डी में फंसी है। इस मामले में 4 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। एसएसपी लव कुमार ने बताया कि हमने ट्रेनी सब इंस्‍पेक्‍टर की सर्विस रिवॉल्वर जब्त कर ली है, जिससे गोली चलाई गई थी और उसे जेल भेज दिया है। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ 307 का मुकदमा दर्ज किया है।

जितेन्द्र यादव के परिवार वालों का कहना है कि यूपी पुलिस ने एक फेक एनकाउंटर में उसे गोली मारी है। परिवार कहना है कि उसे उसकी जाति की वजह से गोली मारी गई। जितेन्द्र यादव के परिवार के आरोपों का समाजवादी पार्टी ने समर्थन किया है। समाजवादी पार्टी की प्रवक्ता पंखुड़ी पाठक ने ट्वीट कर यूपी पुलिस पर प्रमोशन के लिए बेगुनाहों को गोली मारने का आरोप लगाया है। पंखुड़ी पाठक ने ट्वीट किया, ‘जितेन्द्र यादव नाम के एक बेगुनाह को गर्दन में गोली लगी है, ये यूपी पुलिस की नोएडा में असफल मुठभेड़ की कोशिश है, यूपी सरकार इस मुद्दे को मीडिया से दूर रखने की कोशिश कर रही है। शख्स नोएडा के फोर्टिस अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ रहा है, यूपी पुलिस के अधिकारी प्रमोशन के लिए निर्दोष लोगों का एनकाउंटर कर रहे हैं।'

घायल जितेंद्र के साथ मौजूद उसके साथियों ने बताया कि गोली मारने वाला व्यक्ति दारोगा विजय दर्शन है जो जितेंद्र और उसके साथियों का फर्जी एनकाउंटर करने की फिराक में था। मौके पर मौजूद सोनू और लखन यादव ने बताया कि जिम ट्रेनर के साथ शादी समारोह से लौट रहे उसके बाकी साथियों को पुलिस ने गायब कर दिया है जिससे किसी तरह मामले को दबाया जा सके। उन्होंने बताया कि जितेंद्र का कोई अपराधिक रिकॉर्ड नहीं है वह पृथला खंजरपुर गांव में जिम चलाकर अपना गुजर बसर करता है।
 


बता दें कि जांच कर रही पुलिस की ओर से बताया गया है कि यह एनकाउंटर नहीं बल्कि आपसी रंजिश का मामला लग रहा है। पुलिस की गोलीबारी में घायल जितेंद्र का अस्पताल में इलाज चल रहा है। पुलिस के बयान के बाद जितेंद्र के एक रिश्तेदार ने आरोप लगाया, 'यह फेक एनकाउंटर प्रमोशन और मेडल जीतने के लिए किया गया। ऐसा पहले भी हो चुका है।' उन्होंने कहा, 'हमने 48 घंटे का अल्टिमेटम दिया है। अगर जितेंद्र को इस दौरान होश नहीं आता तो हम पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे। हम इस फेक एनकाउंटर मामले में सीबीआई जांच चाहते हैं।'

गौरतलब है कि नोएडा में बीती रात करीब 10.00 बजे नोएडा फेज-3 पुलिस थाने के एसआई विजय दर्शन ने मामूली विवाद में स्कॉर्पियों में सवार दो युवकों को गोली मार दी। एक युवक जीतेंद्र यादव की गर्दन और दूसरे युवक सुनील के पैर में गोली लगी। घायल जितेंद्र को फोर्टिस अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।
 


लव कुमार ने बताया कि कल रात नोएडा के बहरामपुर गांव मैं बहन की सगाई से लौट रहे जितेंद्र कि  सेक्टर 122 पर स्थित सीएनजी स्टेशन पर विजयदर्शन नामक पुलिसकर्मी से कहासुनी हो गई। इसी दौरान पुलिसकर्मी ने जितेंद्र को गोली मार दी।