उत्तर रेलवे : ट्रेनों की रफ्तार बढ़ाने के मुद्दे पर की समीक्षा बैठक

February 21st, 2022

हाईलाइट

  • रेलगाड़ियों की गतिसीमा 160 किलोमीटर प्रतिघंटा करने पर विचार किया गया

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। उत्तर रेलवे की समीक्षा बैठक में नई दिल्ली-हावड़ा और नई दिल्ली-मुम्बई रेलमार्ग पर रेलगाड़ियों की गतिसीमा 160 किलोमीटर प्रतिघंटा करने पर विचार किया गया।

उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक आशुतोष गंगल ने सोमवार को उत्तर रेलवे के विभागाध्यक्षों और मंडल रेल प्रबंधकों के साथ वीडियों कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से एक बैठक में उत्तर रेलवे की कार्य-प्रगति की समीक्षा की।

बैठक में वृद्धि और अन्य विकासात्मक कार्यों व माल लदान जैसे विषयों पर भी विचार-विमर्श किया गया। उत्तर रेलवे ने समयपालनबद्धता के बेहतर रिकॉर्ड को बनाए रखा है और रेलगाड़ियों के समय से चलने पर विशेष बल दिया है।

महाप्रबंधक ने यह भी बताया कि उत्तर रेलवे ने दस फरवरी से सोलह फरवरी तक की अवधि के दौरान 998 क्रैक मालभाड़ा रेल गाड़ियां चलाई हैं, जिससे मालभाड़ा लदान बेहतर हुआ है।

उन्होंने कहा कि संरक्षा के अलावा गतिशीलता बढ़ाने जैसे कार्य उत्तर रेलवे की प्राथमिकता है। उन्होंने रेलपथों, वैल्डों के अनुरक्षण मानकों और रेलपथों के निकट पड़े स्क्रैप को हटाने के लिए जोन द्वारा किए गए कार्यों की समीक्षा की।

उन्होंने मण्डलों को गतिशीलता बढ़ाने संबंधी कार्यों में तेजी लाने और कार्यों की प्रगति की जांच करने के लिए अभियान चलाने के निर्देश दिए। उन्होंने रेल परिचालन के दौरान आने वाली बाधाओं को समाप्त करने के लिए हर संभव प्रयास करने के निर्देश दिए।

गंगल ने कहा कि जब भी आवश्यक हो संबंधित कर्मचारियों को परामर्श व प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि रेल पटरियों की दरारों और रेल वैल्डों की गहन निगरानी की जानी चाहिए और कोई त्रुटि नहीं छूटनी चाहिए।

उन्होंने रेल परिचालन में मानवीय भूलों को न्यूनतम करने पर बल दिया। उन्होंने विभागाध्यक्षों और मंडल रेल प्रबंधकों को रेलगाड़ियों की समयपालनबद्धता में और सुधार करने और संरक्षा को प्राथमिकता देते हुए माल लदान की गति को बनाए रखने के निर्देश दिए।

महाप्रबंधक ने नई दिल्ली-हावड़ा और नई दिल्ली-मुम्बई रेलमार्ग पर रेलगाड़ियों की गतिसीमा 130 किलोमीटर प्रतिघंटा से बढ़ाकर 160 किलोमीटर प्रतिघंटा करने के कार्यों की प्रगति का भी जायजा लिया।

इसके साथ ही फ्रेट बिजनेस डेवलपमेंट पर बात करते हुए महाप्रबंधक ने बिजनेस डेवलपमेंट यूनिटों को रेल उपयोगकर्ताओं के बीच विश्वास और सहयोग का वातावरण बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि रेलवे द्वारा दी जाने वाली रियायतें उसके सभी ग्राहकों तक पहुंचनी चाहिए। उन्होंने बताया कि खाद्यान्न और अन्य मदों के लदान में प्रत्येक माह के साथ वृद्धि बनी हुई है।

(आईएएनएस)

खबरें और भी हैं...