दैनिक भास्कर हिंदी: 'ऑपरेशन अर्जुन' से घबराया पाकिस्तान, सीजफायर के लिए मजबूर

September 27th, 2017

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। सीमापार से पड़ोसी देश पाकिस्तान की तरफ से आए दिन गोलीबारी और सीजफायर का उल्लंघन करने पर अब भारत की जवाबी कार्रवाई से पाकिस्तान घबरा गया है। पड़ोसी मुल्क ने भारत से सीजफायर की अपील की है। दरअसल, पिछले कुछ दिनों से BSF ने पाकिस्तान की हरकतों को जवाब देने के लिए 'ऑपरेशन अर्जुन' चलाया था, जिसके तहत भारतीय सेना पाकिस्तानी रेंजर्स के सैनिकों के घरों और खेतों पर फायरिंग कर रही थी, जिससे घबराकर पाकिस्तान सीजफायर करने को मजबूर हो गया है। 

घबराया पाकिस्तान सीजफायर के लिए हुआ मजबूर

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान पिछले कुछ महीनों से भारतीय सेना के जवानों को मारने,नागरिकों पर फायरिंग करने और गांवों में गोलीबारी करने के लिए 'स्नाइपर्स' का इस्तेमाल कर रहा था। जिसको मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारत ने 'ऑपरेशन अर्जुन' चलाया। इस ऑपरेशन के तहत भारतीय सेना ने पाकिस्तान के सैनिकों, रिटयर्ड सैनिकों और ISI के अधिकारियों के घर और खेतों को निशाना बनाया, जो घुसपैठ और भारत विरोधी अभियान चलाने में मदद कर रहे थे। BSF की तरफ से चलाए गए इस ऑपरेशन से पाकिस्तान ऐसा घबराया कि उसे सीजफायर के लिए मजबूर होना पड़ा। 

पाक ने दो बार फोन करके सीजफायर की अपील की

एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के मुताबिक, भारतीय सेना की तरफ से की जा रही फायरिंग रोकने के लिए पाकिस्तान ने बीते हफ्ते दो बार फोन किया और भारत से सीजफायर की अपील की। इस खबर के मुताबिक, पाकिस्तान के पंजाब डीजी मेजर जनरल अजगर नवीद हायत खान ने BSF के डायरेक्टर केके शर्मा को हफ्ते में दो बार कॉल किया और फायरिंग रोकने की अपील की। पाकिस्तान ने पहला फोन 22 सितंबर को जबकि दूसरा फोन कॉल 25 सितंबर को किया था। केके शर्मा ने हायत खान के फोन कॉल का जवाब देते हुए कहा कि, 'उनके जूनियर 12वीं चेनाब रेंजर्स के लेफ्टिनेंट कर्नल इरफान का रवैया हमेशा से उकसाने वाला रहा है, जिस कारण दोनों तरफ से फायरिंग का खतरा बढ़ा है।'

ऑपरेशन अर्जुन से पाकिस्तान को हुआ नुकसान

BSF की तरफ से चलाए जा रहे 'ऑपरेशन अर्जुन' से पाकिस्तान को काफी नुकसान पहुंचा है। इस ऑपरेशन में पाकिस्तान के 7 सैनिक और 11 सिविलियन मारे गए हैं। इस ऑपरेशन में BSF ने स्मॉल, मीडियम और एरिया वेपंस का इस्तेमाल किया। वहीं लंबी दूरी के 81mm वेपंस से पाकिस्तान सेना और रेंजर्स के कई आउट पोस्ट तबाह किए गए। इसी बात से पाकिस्तान घबरा गया और घुटने टेकने को मजबूर हो गया।