comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

कृषि विभाग के धनंजय पति त्रिपाठी और वेद नारायण सिंह के मनमानी रवैये से परेशान पैक्स अध्यक्ष, मुख्यमंत्री और कृषि मंत्री तक ये मामला पहुंचाएगा भास्कर

कृषि विभाग के धनंजय पति त्रिपाठी और वेद नारायण सिंह के मनमानी रवैये से परेशान पैक्स अध्यक्ष, मुख्यमंत्री और कृषि मंत्री तक ये मामला पहुंचाएगा भास्कर

हाईलाइट

  • कृषि निदेशक कह रहे मार्गदर्शन निकाल दिया
  • जिला कृषि अधिकारी कह रहे मुझे नहीं मिला

डिजिटल डेस्क, पटना। बिहार में नीतीश सरकार चौथी बार सत्ता में आई है, लेकिन सिस्टम में कोई सुधार नहीं हुआ है। सिस्टम में आम इंसान पिस रहा है। अधिकारियों के मनमानी भरे रवैये से एक-एक काम के लिए साल भर इंतजार करना पड़ रहा है। राज्य के गोपालगंज जिले के कटेया के नितीन तिवारी दिसंबर 2019 में पैक्स चुनाव जीते। उनके पैक्स के तात्कालीन अध्यक्ष मुरलीधर पटेल ने चुनाव हारने के बाद पैक्स के खाद-बीज के लाइसेंस को सरेंडर कर दिया। अब कृषि विभाग नए पैक्स अध्यक्ष का नाम दर्ज कर लाइसेंस को जारी नहीं कर रहा है। अकेले नितीन ही नहीं बल्कि, जिले के भेड़िया, अमेया करकटहा, बैकुंठपुर, पटखौली जैसे दर्जन भर पैक्स अध्यक्षों के साथ यही संकट है।

दरअसल, इस मसले पर गोपालगंज जिला कृषि पदाधिकारी वेद नारायण सिंह ने जून महीने में राज्य कृषि निदेशक से मार्गदर्शन मांगा था। छह महीने बीत जाने के बाद भी अब तक वेद नारायण सिंह को मार्गदर्शन नहीं मिला है। इस मामले में सितंबर में जब कृषि विभाग के संयुक्त सचिव धनंजय पति त्रिपाठी से बात की गई तो उन्होंने एक सप्ताह में मार्गदर्शन निकालने की बात कही। इसके बाद जब कई बार भास्कर की टीम ने धनंजय पति त्रिपाठी से मार्गदर्शन लेटर की बात की तो उन्होंने हर बार यही कहा कि एक से दो दिन में लेटर निकल जाएगा। अब जब हमने इस बाबत फिर पिछले कुछ दिनों से धनंजय पति त्रिपाठी से बात करनी चाही तो उन्होंने फोन उठाना बंद कर दिया। फिर हमारी टीम ने कृषि निदेशक आदेश तितरमारे से बात की, तितरमारे ने कहा कि कुछ दिन पहले मार्गदर्शन भेजा जा चुका है। फिर हमने इस मसले पर जब गोपालगंज जिला कृषि अधिकारी से बात की उन्होंने कहा कि अब तक हमें मार्गदर्शन लेटर नहीं मिला है।

अब सबसे बड़ा सवाल है कि कौन झूट बोल रहा है और कौन सही। अगर अधिकारीयों का यही रवैया रहेगा तो आम इंसान ऐसे ही परेशान होगा और पांच साल बीत जाने के बाद भी पैक्स के लाइसेंस पर नाम नहीं चढ़ेगा। भास्कर इस मामले पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और बिहार कृषि मंत्री से संपर्क कर उन्हें इस पूरे मसले से अवगत कराएगा।              

जानिए क्या है पूरा मामला
दरअसल, पैक्स समिति खाद के लिए पैक्स अध्यक्ष को लाइसेंस मुहैया कराती है, ताकि अध्यक्ष सस्ते दाम पर सरकारी खाद लाकर किसानों को उपलब्ध करा सकें। लेकिन वर्तमान पैक्स अध्यक्षों का नाम अब तक लाइसेंस पर नहीं चढ़ा है, अभी तक हारे हुए प्रत्याशी का नाम ही समिति की लाइसेंस पर है, जिससे पैक्स अध्यक्ष किसानों को सस्ते दाम पर खाद मुहैया नहीं करा पा रहे हैं। इस मामले में जून महीने में जब जिला कृषि पदाधिकारी वेद नारायण सिंह से पैक्स अध्यक्षों ने बात की, तो कृषि अधिकारी का जवाब था कि अभी ये मामला मेरे पास नया है, मैं इसमें अपने वरीय अधिकारी से बात कर कुछ बता पाऊंगा। 

इस मसले पर भास्कर टीम ने जून में पूर्व जॉइंट डायरेक्टर कॉर्प एंड फार्म डॉ। ब्रजेश कुमार कुमार से बात की, उन्होंने कहा कि लाइसेंस पर प्रोपराइटर का नाम बदला जाता है। चूंकि यह लाइसेंस किसी का निजी न होकर पैक्स समिति का लाइसेंस है इसलिए जीते हुए प्रत्याशी का नाम उस पर चढ़ जाएगा। इसमें कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए। ब्रजेश कुमार ने जिला कृषि पदाधिकारी की ओर से नए लाइसेंस बनवाने की बातों को गलत करार दिया और कहा ऐसा कुछ भी नहीं है, यह पुराना नियम है, इसमें कुछ नया नहीं है। ये बात जिला कृषि पदाधिकारी, वेद नारायण सिंह को पता है। मुझे समझ नहीं आ रहा वे क्यों नहीं लाइसेंस पर जीते हुए प्रॉपराइटर का नाम बदल रहे हैं। 

इसके बाद जब दोबारा जिला कृषि पदाधिकारी के सामने ये बात रखी गई तो उन्होंने जॉइंट डायरेक्टर ब्रजेश कुमार से बात कर ही इस मामले पर कुछ भी बताने की हामी भरी। जिला कृषि पदाधिकारी वेद नारायण सिंह ने बाद में बताया कि जॉइंट डायरेक्टर ने उन्हें कुछ भी साफ-साफ नहीं बताया है। दोबारा फिर जब हमने जॉइंट डायरेक्टर से बात की तो उनका कहना था कि इसमें कुछ नया नहीं है, जो नियम है वही चल रहा है। लाइसेंस पर नाम चढ़ता है, नया लाइसेंस नहीं बनता है। 

सीनियर अधिकारी के कहने के बावजूद जिले के नए जीते हुए पैक्स अध्यक्षों को लाइसेंस पर नाम बदलवाने को लेकर जिला कृषि पदाधिकारी के दफ्तर के चक्कर काटने पड़ रहे हैं। मौजूदा समय में कृषि सीजन होने से किसान पैक्स अध्यक्षों से सस्ता खाद उपलब्ध कराने का आग्रह कर रहे हैं। लेकिन अधिकारीयों का जो रवैया दिख रहा है उससे तो यही लगता है कि इस सीजन में भी किसानों को सस्ते दर पर मिलने वाले खाद से वंचित रहना पड़ेगा। जबकि पैक्स चुनाव के नतीजे दिसंबर 2019 के मध्य में ही जारी कर दिए गए थे। एक साल से ज्यादा समय बीतने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

कमेंट करें
MT6Qa
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।