comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

हर भारतीय सिख तीर्थ यात्रियों से 20 डॉलर लेने पर अड़ा पाक

हर भारतीय सिख तीर्थ यात्रियों से 20 डॉलर लेने पर अड़ा पाक

हाईलाइट

  • बनेगा 60 फीट ऊंचा टावर, दूरबीन से भी दर्शन कर सकेंगे सिख श्रद्धालु
  • भारत 10 दिन पहले तीर्थयात्रियों की एक सूची पाक को सौंपेगा
  • केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने जीरो लाइन पर कॉरिडोर के निर्माण कार्य का निरीक्षण किया

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। सिख धर्म के संस्थापक गुरुनानक की 550वीं जयंती से पहले करतारपुर कॉरिडोर को तैयार करने के लिए निर्माण कार्य जोर-शोर से किया जा रहा है। इस दिन कॉरिडोर के रास्ते सिख श्रद्धालुओं का जत्था पाकिस्तान जाएगा। इसके लिए पाकिस्तान ने करतारपुर कॉरिडोर का अंतिम मसौदा भारत को भेज दिया है। इसमें पाकिस्तान भारतीय सिख तीर्थयात्रियों से 20 डॉलर (3120 पाकिस्तानी रुपए) लेने पर अड़ गया है। भारत कम से कम 10 दिन पहले तीर्थयात्रियों की एक सूची पाकिस्तान को सौंपेगा। इस पर 4 दिन में पाक की ओर से जवाब आएगा। 

वहीं जो श्रद्धालु पाकिस्तान नहीं जा पाएंगे, उनके लिए भी अच्छी खबर है। वे भी गुरुद्वारा करतारपुर साहिब का दर्शन कर सकेंगे। इसके लिए 60 फुट ऊंचा लिफ्ट वाला टावर बनाया जाएगा, जहां से सिख समुदाय के श्रद्धालु दूरबीन की मदद से गुरद्वारा करतारपुर साहिब के दर्शन कर सकेंगे। यह जानकारी पंजाब की कैप्टन सरकार के कैबिनेट मंत्री सुखजिंदर रंधावा ने दी। वे सोमवार को केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला के साथ जीरो लाइन पर कॉरिडोर के निर्माण कार्य का निरीक्षण करने पहुंचे थे।

एक माह पहले करना होगा आवेदन

रंधावा ने कहा कि करतारपुर साहिब पहुंचकर दर्शन करने के इच्छुक लोगों को इसके लिए एक माह पहले ऑनलाइन आवेदन करना होगा। इसके लिए जल्द ही वेबसाइट शुरू कर दी जाएगी। रंधावा ने कहा कि जिन लोगों का आवेदन रद्द हो जाए, वह 4 दिन बाद फिर से आवेदन कर सकेंगे। जो लोग ऑनलाइन आवेदन नहीं कर सकते वह खुद जाकर भी वीजा के लिए आवेदन कर सकेंगे।

दर्शन के लिए एक जत्थे में 5 ​हजार श्रद्धालु ही जा सकेंगे

कैप्टन कैबिनेट के मंत्री ने कहा कि एक दिन में एक जत्था पाकिस्तान जाएगा, जिसमें 5 हजार श्रद्धालु ही पाकिस्तान जा पाएंगे। प्रकाश पर्व जैसे धार्मिक समागमों के अवसर पर पाकिस्तान जाने वाले श्रद्धालुओं की संख्या 10 हजार तक होगी। उन्होंने बताया कि जो श्रद्धालु पाकिस्तान जाकर दर्शन कर लेंगे, वे दोबारा एक साल बाद ही दर्शन के लिए जा पाएंगे। 

भारत के अलावा अन्य देश के लोग भी आएंगे

श्रद्धालुओं का जत्था नवंबर के पहले सप्ताह से पाकिस्तान पहुंचने लगेगा। सिख तीर्थयात्रियों के लिए विशेष ट्रेन का भी इंतजाम किया गया है। भारत से जाने वाले सिख श्रद्धालु अटारी रेलवे स्टेशन से चलकर वाघा रेलवे स्टेशन पहुंचेंगे और उसके बाद ननकाना साहिब के लिए अपनी यात्रा शुरू करेंगे। भारत के अलावा कनाडा, ब्रिटेन समेत दुनिया के अलग अलग देशों से तीर्थ यात्रियों के पाकिस्तान पहुंचने की उम्मीद है। विदेशों में बसे सिख समुदाय के श्रद्धालु भी वाघा बॉर्डर के रास्ते ही पाकिस्तान जाएंगे।

तय नहीं पहले जत्थे रवानगी की तारीख

रंधावा ने कहा कि पाकिस्तान और भारत की सरकार ने अभी तक पहला जत्था भेजे जाने की तारीख तय नहीं की है। पंजाब सरकार के मंत्री ने कहा कि 31 अक्टूबर तक निर्माण कार्य पूर्ण करा लिया जाएगा। गृह सचिव के दौरे के संबंध में जानकारी देते हुए उन्होंने कहा हमने कई प्रस्ताव उनके सामने रखे। उन्होंने सभी पर सैद्धांतिक सहमति व्यक्त की।

गृह सचिव ने लिया कॉरिडोर का जायजा

केंद्रीय गृह सचिव ने आज डेरा बाबा नानक और जीरो लाइन जाकर कॉरिडोर के निर्माण कार्यों का जायजा लिया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 8 नवंबर को संभावित दौरे को लेकर भी अधिकारियों से बात की। इस दौरान उनके साथ पंजाब पुलिस के डीजीपी, बीएसएफ के डीजी, पंजाब सरकार के प्रमुख सचिव, सचिव, लैंड पोर्ट अथॉरिटी और नेशनल हाइवे अथॉरिटी के अधिकारी भी थे।

कमेंट करें
7MgIX