comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

महात्मा गांधी की 150वीं जयंती, पीएम मोदी ने भारत को खुले में शौच मुक्त घोषित किया


हाईलाइट

  • महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर पीएम मोदी ने भारत को खुले में शौच मुक्त घोषित किया
  • पीएम मोदी ने डाक टिकट और 150 रुपये का चांदी का सिक्का भी जारी किया

डिजिटल डेस्क, अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर साबरमति के तट से  'स्वच्छ भारत दिवस' कार्यक्रम में भारत को खुले में शौच मुक्त घोषित किया। इस दौरान उन्होंने स्वच्छता अभियान को सफल बनाने के लिए देश के सभी सरपंचों, नगरपालिका-महानगरपालिका के संचालकगण, स्वच्छाग्रहियों का सिर झुकाकर नमन किया। पीएम मोदी ने डाक टिकट और 150 रुपये का चांदी का सिक्का भी जारी किया।

पीएम मोदी ने कहा, देश के सभी सरपंचों, नगरपालिका-महानगरपालिका के संचालकगण, स्वच्छाग्रहियों, भगिनीगण आप सबने पांच साल लगातार जिस समर्पण और त्याग की भावना से पूज्य बापू का सपना साकार किया है मैं आप सबको आदरपूर्वक नमन करना चाहता हूं। पीएम ने कहा, बापू की जयंती का उत्सव तो पूरी दुनिया मना रही है। कुछ दिन पहले UN ने डाक टिकट जारी कर इस विशेष अवसर को यादगार बनाया और आज यहां भी डाक टिकट और सिक्का जारी किया गया है। मैं आज बापू की धरती से, उनकी संकल्प स्थली से पूरे विश्व को शुभकामनाएं देता हूं।

पीएम मोदी ने कहा, आज ग्रामीण भारत ने, वहां के गांवों ने खुद को खुले में शौच से मुक्त घोषित किया है। स्वेच्छा, स्वप्रेरणा से और जनभागीदारी से चल रहे 'स्वच्छ भारत अभियान' की ये शक्ति भी है और सफलता का स्रोत भी है। मैं हर देशवासी को, ग्रामीण को, सरपंचों को, तमाम स्वच्छाग्रहियों को बहुत-बहुत बधाई देता हूं। आज जिन स्वच्छाग्रहियों को यहां स्वच्छ भारत पुरस्कार मिले हैं उनका भी बहुत-बहुत अभिनंदन। जिस तरह देश की आजादी के लिए बापू के एक आह्वान पर लाखों भारतवासी सत्याग्रह के रास्ते पर निकल पड़े थे, उसी तरह स्वच्छाग्रह के लिए भी करोड़ों देशवासियों ने खुले दिल से अपना सहयोग दिया।

पांच वर्ष पहले जब लालकिले से मैंने स्वच्छ भारत के लिए देशवासियों को पुकारा था, तब हमारे पास सिर्फ जन विश्वास था और बापू का अमर संदेश था। आज पूरा विश्व हमें इसके लिए पुरस्कृत कर रहा है, सम्मान दे रहा है। 60 महीने में 60 करोड़ से अधिक आबादी को शौचालय की सुविधा देना, 11 करोड़ से ज्यादा शौचालयों का निर्माण, ये सुनकर विश्व अचंभित है। मुझे संतोष इस बात का है कि स्वच्छता की वजह से गरीब का इलाज पर होने वाला खर्च अब कम हुआ है। इस अभियान ने ग्राणीण इलाकों, आदिवासी अंचलों में लोगों को रोजगार के नए अवसर दिए, बहनों को भी रानी मिस्त्री बनकर काम करने के मौके दिए।

UNICEF के अनुसार बीते पांच वर्षों में स्वच्छ भारत अभियान से भारत की अर्थव्वयस्था पर 20 लाख करोड़ रुपये से अधिक का सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। स्वच्छ भारत अभियान से 75 लाख से अधिक रोजगार के अवसर भारत में बने हैं, जिनमें से अधिकतर गांवों के बहन-भाइयों को मिले हैं। सरकार ने जल जीवन मिशन शुरू किया है इससे भी जल बचाने में मदद मिलने वाली है। सरकार ने जल जीवन मिशन पर 3.50 लाख करोड़ रुपए खर्च करने का फैसला किया है, लेकिन देशवासियों की सक्रिय भागीदारी के बिना इस विराट कार्य को पूरा करना मुश्किल है।

पीएम मोदी ने कहा, स्वच्छता, पर्यावरण सुरक्षा और जीव सुरक्षा, ये तीनों विषय गांधी जी के प्रिय थे। प्लास्टिक इन तीनों के लिए बहुत बड़ा खतरा है। वर्ष 2022 तक देश को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करने का लक्ष्य हमें हासिल करना है। हमारे इस आंदोलन के मूल में व्यवहार परिवर्तन है। ये परिवर्तन पहले स्वयं से होता है, संवेदना से होता है। यही सीख हमें गांधी जी और लाल बहादुर शास्त्री के जीवन से मिलती है। 

आज पूरी दुनिया स्वच्छ भारत अभियान के हमारे मॉडल से सीखना चाहती है, अपनाना चाहती है। कुछ दिन पहले ही अमेरिका में जब भारत को Global Goalkeepers Award से सम्मानित किया गया तो भारत की कामयाबी से पूरा विश्व परिचित हुआ। गांधी जी सेहत को सच्चा धन मानते थे और चाहते थे कि देश का हर नागरिक स्वस्थ हो। हम योग दिवस, आयुष्मान भारत, फिट इंडिया मूवमेंट के जरिए इस विचार को देश के व्यवहार में लाने का प्रयास कर रहे हैं।

गांधी जी, समाज में खड़े अंतिम व्यक्ति के लिए हर फैसला लेने की बात करते थे। हमने आज उज्जवला, प्रधानमंत्री आवास योजना, जनधन योजना, सौभाग्य योजना, स्वच्छ भारत जैसी योजनाओं से उनके इस मंत्र को व्यवस्था का हिस्सा बना दिया है। बापू के सपनों का भारत, नया भारत बन रहा है। बापू के सपनों का भारत, जो स्वच्छ होगा, पर्यावरण सुरक्षित होगा। जहां हर व्यक्ति स्वस्थ होगा, फिट होगा। जहां हर मां, हर बच्चा पोषित होगा। बापू के सपनों का भारत, जहां हर नागरिक सुरक्षित महसूस करेगा।

मैं आप सबसे एक आग्रह करना चाहता हूं - देश के लिए कोई भी संकल्प लीजिए, लेकिन लीजिए जरूर। राष्ट्र के प्रति अपने दायित्वों के बारे में सोचिए। कर्तव्य पथ पर चलते हुए 130 करोड़ प्रयास, 130 करोड़ संकल्पों की ताकत, देश में कितना कुछ कर सकती है। आज संकल्प लेकर अगले एक साल तक हमें निरंतर इस दिशा में काम करना है. एक साल काम किया, तो फिर यही हमारे जीवन की दिशा बन जाएगी. यही हमारी जीवनशैली बन जाएगी. यही एक कृतज्ञ राष्ट्र की बापू को सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

कमेंट करें
raW9D
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।