दैनिक भास्कर हिंदी: 'मैं भी चौकीदार' अभियान: 31 मार्च को पीएम 500 जगहों पर लोगों से करेंगे बात

March 20th, 2019

हाईलाइट

  • लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी का 'मैं भी चौकीदार हूं' अभियान।
  • 31 मार्च को पीएम मोदी करेंगे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग। 
  • देशभर के 500 जगहों पर इस अभियान से जुड़ने वाले लोगों से करेंगे बात। 

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी के प्रचार अभियान 'मैं भी चौकीदार हूं' को लेकर जंग छिड़ी हुई है। इसी बीच केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद विरोधियों पर हमला बोलते हुए कहा कि, आज 'मैं भी चौकीदार हूं' एक जन आंदोलन बन गया है। उन्होंने बताया, एक करोड़ लोगों ने ऑनलाइन इस मुहिम से जुड़ने की शपथ ली है। इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 31 मार्च को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 500 जगहों पर इस अभियान से जुड़ने वाले लोगों से बात करेंगे।
 

 

रविशंकर प्रसाद ने बताया, 20 लाख लोगों ने इस मुहिम से जुड़कर ट्वीट किया है। करीब एक करोड़ लोगों ने ऑनलाइन 'मैं भी चौकीदार हूं' अभियान से जुड़ने की शपथ ली और इसका वीडियो भी एक करोड़ लोग देख चुके हैं। वर्ल्ड वाइड ट्रेंड की बात की जाए तो ये पूरे दिन नंबर वन ट्रेंड रहा। वहीं भारत में लगातार दो दिन नंबर वन ट्रेंड में शामिल रहा।
 

 

रविशंकर प्रसाद ने कहा, 31 मार्च को पीएम मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से देश के 500 जगहों से अलग- अलग तरह के चौकीदारों से बातचीत करेंगे। ये वो लोग हैं जो मैं भी चौकीदार हूं अभियान से जुड़ चुके हैं। इसमें कार्यकर्ता, एनडीए के लीडर, प्रोफेशनल, किसान, स्वच्छता कर्मचारी, रिटायर्ड सैनिक, युवा और महिलाएं शामिल होंगी। पीएम मोदी दिल्ली से नहीं बल्कि देश में किसी अन्य जगह से इस कार्यक्रम में शामिल होंगे।
 

 

मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा, कुछ लोग कह रहे हैं कि चौकीदार अमीरों के लिए होता है। ये वही लोग हैं, जिन्होंने गरीबों के करीब 12 लाख करोड़ रुपये लूटे, वही लोग मैं भी चौकीदार हूं पर टिप्पणी कर रहे हैं। उन्होंने कहा, मैं भी चौकीदार अभियान से उनको परेशानी है जो बेल पर हैं। जिनके परिवार और संपत्तियां जांच के घेरे में हैं उन्हें परेशानी है। जिनके पास छुपाने के लिए कुछ है वो परेशानी में हैं।

 


रविशंकर प्रसाद ने कहा राहुल गांधी पर हमला करते हुए कहा, कल बेंगलुरु में स्टार्ट अप से जुड़े एक कार्यक्रम में जब कुछ लोगों ने राहुल गांधी से कुछ सवाल किए और मोदी जी के समर्थन में बातें कहीं तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। राहुल गांधी बोलने की आजादी पर हमें नसीहत देने के बजाए खुद सीखें।