दैनिक भास्कर हिंदी: Fight Covid-19: कोरोना संकट पर पीएम मोदी ने मुख्यमंत्रियों से की बात, कहा- मिलकर लड़ेंगे

April 2nd, 2020

हाईलाइट

  • प्रधानमंत्री मोदी की मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पूरे देश में नोवल कोरोना वायरस (Novel Coronavirus) का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है। लॉकडाउन घोषित होने के बावजूद देश में अब तक दो हजार से ज्यादा लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं, मौत का आंकड़ा 50 को पार कर गया है। इस बीच कोरोना संकट को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज (2 अप्रैल) सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये बात की। पीएम मोदी के साथ केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद थे।

कोरोना से जुड़े मुद्दों पर चर्चा
पीएम मोदी ने कोविड-19 से जुड़े मुद्दों और इससे निपटने के लिए राज्य सरकारों द्वारा की गई तैयारियों पर चर्चा की। पीएम ने कोविड संक्रमण से लड़ने के लिए किए गए इंतजामों, सभी राज्यों के मौजूदा हालातों, प्रवासी मजदूरों और तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए लोगों से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की। उन्होंने आवश्यक वस्तुओं की उपलब्धता पर भी बात की। इस दौरान पीएम ने सभी राज्य सरकारों को आश्वासन दिया की संकट के समय में केंद्र उनके साथ खड़ा है। पीएम ने यह भरोसा भी दिलाया कि, सब मिलकर कोरोना से लड़ेंगे और इसे हराएंगे।

बैठक में पीएम ने जरूरी चिकित्सकीय उपकरणों की उपलब्धता पर बात की और कहा, अगले कुछ हफ्तों तक जांच, आइसोलेश और क्वारंटाइन पर फोकस करें।

ऑपरेशन 'मरकज': मस्जिद छोड़ने को तैयार नहीं था जमात, आधी रात अजित डोभाल पहुंचे तब...

लॉकडाउन के बाद मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री की पहली बैठक 
लॉकडाउन के बाद देश के मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री की यह पहली बैठक थी। 22 मार्च को लगाए गए जनता कर्फ्यू से दो दिन पहले 20 मार्च को प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की थी। उस समय उन्होंने कोरोना के वैश्विक खतरे के प्रति मुख्यमंत्रियों को आगाह करते हुए पूरे देश को एकजुट होकर इसका सामना करने की जरूरत पर जोर दिया था। लॉकडाउन के बाद से राज्यों को प्रवासी मजदूरों से लेकर कई तरह की समस्याओं से जूझना पड़ा है।

Coronavirus World: अमेरिका में 4000 से ज्यादा की मौत, दुनिया में मरने वालों का आंकड़ा 43 हजार के पार

हालांकि, कैबिनेट सचिव और गृह सचिव लगातार राज्यों के मुख्य सचिव और डीजीपी के साथ बातचीत कर हालात की समीक्षा कर रहे हैं। कोरोना के खिलाफ राजनीतिक नेतृत्व की एकजुटता ज्यादा जरूरी है।