comScore

पत्रकार बुखारी मर्डर केस में एक संदिग्ध गिरफ्तार, यहां तक पहुंची जांच


हाईलाइट

  • पत्रकार शुजात बुखारी मर्डर केस में पुलिस ने चौथे संदिग्ध को पिस्टल के साथ हिरासत में लिया है।
  • बुखारी के मर्डर केस में जम्मू-कश्मीर पुलिस ने हत्या में शामिल हमलावरों की तस्वीर जारी की थी।
  • घटनास्थल से सबसे पहले सामने आईं कुछ तस्वीरों में चौथा संदिग्ध गाड़ी से शव निकालते हुए नजर आ रहा था।

डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में लाल चौक सिटी सेंटर के पास 48 साल के पत्रकार शुजात बुखारी को संदिग्ध हमलावलों ने गोलियों से छलनी कर दिया था। मामले में जम्मू-कश्मीर पुलिस ने एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया है। इस शख्स को वीडियो फुटेज के आधार पर गिरफ्तार किया गया है। फिलहाल पुलिस इस पूरे मामले में उससे पूछताछ कर रही है।

मामले में कश्मीर जोन के आईजी एसपी पाणी कहा कि इस मामले की जांच के लिए एक विशेष जांच टीम (SIT) गठन किया गया है। इस जांच टीम का नेतृत्व डीआईजी, मध्य कश्मीर कर रहे हैं। एसपी वाणी ने कहा कि फिलहाल जांच करते हुए एक संदिग्ध व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। इस संदिग्ध की घटना में शामिल होने की आशंका है, जिसे आम लोगों की मदद से वीडियो फुटेज के आधार पर गिरफ्तार किया गया है।

पत्रकार शुजात बुखारी के मर्डर केस में जम्मू-कश्मीर पुलिस ने हत्या में शामिल हमलावरों की तस्वीर जारी की थी। साथ ही पुलिस ने लोगों से भी इन आरोपियों की पहचान करने की अपील की थी। इसके बाद काफी लोग पुलिस की मदद के लिए सामने आए और फिर पुलिस ने लोगों की मदद से हमलावरों की पहचान की। पुलिस ने आरोपियों की पहचान अबू उसामा, नवीद जट और मेहराजुद्दीन बंगारू के रूप में की थी। इसके अलावा एक वीडियो में मौका-ए-वारदात पर एक और संदिग्ध शख्स की तस्वीर सामने आई थी।

घटनास्थल से सबसे पहले सामने आईं कुछ तस्वीरों में चौथा संदिग्ध नजर आ रहा था। यह संदिग्ध वीडियो में शव निकालने में लोगों की मदद करता दिख रहा था। वीडियो में साफ देखा गया कि गाड़ी से शव को निकालते वक्त उसकी बंदूक नीचे गिर गई थी। इसके बाद वह उस बंदूक को लेकर सभी से नजर बचाते हुए भाग निकला। इसी फुटेज के आधार पर पुलिस ने चौथे संदिग्ध को पिस्टल के साथ हिरासत में लिया है।

गौरतलब है कि 48 साल के शुजात बुखारी श्रीनगर में लाल चौक सिटी सेंटर स्थित अपने ऑफिस प्रेस इनक्लेव से निकलकर एक इफ़्तार पार्टी में जा रहे थे, तभी अज्ञात हमलावरों ने उन्हें गोली मार दी। यह हमला बाइक सवार हमलावरों ने गुरुवार शाम लगभग 7.15 बजे किया था। इस हमले में शुजात बुखारी के साथ उनके पीएसओ की भी मौत हो गई। फिलहाल किसी भी संगठन या गुट ने इस हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली है।

शुक्रवार के दिन शुजात बुखारी को अंतिम विदाई दी गई। उन्हें अंतिम विदाई देने के लिए हजारों की संख्या में कश्मीरी लोग बारामुला में उनके पैतृक गांव पहुंचे। जहां हल्की बारिश के बीच उन्हें सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया। बारिश के बीच जनाजे में पहुंची घाटी की जनता ने एक बार फिर साबित कर दिया कि वो आतंकियों के मंसूबों के पूरी तरह से खिलाफ हैं। इस दौरान विपक्षी नेता उमर अब्दुल्ला, नईम अख्तर, तसदुदक हुसैन और पीडीपी व भाजपा के मंत्री भी शामिल थे।

कमेंट करें
PM9bH