दैनिक भास्कर हिंदी: बच्चों की सुरक्षा पर केंद्र-राज्यों को SC का नोटिस, 3 हफ्तों में मांगा जवाब

September 16th, 2017

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। रेयान इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल में बीते दिनों दूसरी क्लास में पढ़ने वाले प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या के बाद से सभी स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े हो गए हैं। इसी मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को सुनवाई करते हुए केंद्र और राज्य सरकारों को नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने देश भर के स्कूली बच्चों की सुरक्षा को लेकर गाइडलाइन बनाने और लागू करने वाली याचिका पर केन्द्र और राज्य सरकारों को जवाब देने के लिए तीन हफ्ते का समय दिया है।

सुप्रीम कोर्ट में बच्चों की सुरक्षा को लेकर यह याचिका दो महिला वकीलों की तरफ से दायर की गई है, जिसमें कहा गया है कि स्कूलों में सुरक्षा को लेकर गाइडलाइंस तो है, लेकिन उन्हें कोई फॉलो नहीं करता है। वहीं इससे पहले प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर ने भी इस केस की CBI जांच कराने और स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा के लिए गाइडलाइंस जारी करने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में पिटिशन फाइल की थी, जिसे कोर्ट ने स्वीकार कर लिया। 

शाम तक हो सकती है पिंटो फैमिली की गिरफ्तारी? 
रेयान इंटरनेशन पब्लिक स्कूल के मालिकों की आज शाम तक गिरफ्तारी हो सकती है। गुरुवार को पिंटो फैमिली ने अग्रिम जमानत के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट में पिटिशन दायर की थी, जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया था। इसके साथ ही कोर्ट ने पिंटो फैमिली को शुक्रवार शाम 5 बजे तक मुंबई पुलिस के पास पासपोर्ट जमा कराने के आदेश दिए थे। इसके साथ ही हाईकोर्ट ने ऑगस्टीन पिंटो, ग्रेस पिंटो और रेयान पिंटो की गिरफ्तारी पर भी शुक्रवार शाम 5 बजे तक की रोक लगा दी थी। अब पिंटो फैमिली ने चंडीगढ़ हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत के लिए पिटीशन दाखिल की है और अगर चंडीगढ़ हाईकोर्ट ने भी पिंटो फैमिली की इस याचिका को खारिज कर दिया तो शाम तक उनकी गिरफ्तारी भी हो सकती है। 

CBSE ने जारी की गाइडलाइंस
स्कूलों में बच्चों की सिक्योरिटी को लेकर सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) ने सभी स्कूलों को गाइडलाइंस जारी की है और इसे फॉलो करने के निर्देश दिए हैं। CBSE की तरफ से जारी गाइडलाइंस में स्कूलों को अपने पूरे स्टाफ का पुलिस वेरिफिकेशन कराने को कहा है। इसके साथ ही स्कूलों में CCTV कैमरा और आउटसाइडर्स की रेगुलर एंट्री करने को भी कहा गया है।