हिजाब विवाद: कर्नाटक कॉलेज परिसर में आंसू गैस के गोले दागे गए, एक और जिले में कर्फ्यू

February 8th, 2022

हाईलाइट

  • हिजाब मामला पहुंचा हाईकोर्ट

डिजिटल डेस्क, बेंगलुरू। कर्नाटक हाईकोर्ट में हिजाब मामले की सुनवाई के बीच मंगलवार को राज्य के एक शैक्षणिक संस्थान से हिंसा की और घटनाएं सामने आईं हैं। दावणगेरे जिले के हरिहर फस्र्ट ग्रेड कॉलेज परिसर में हिंसक भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे और लाठीचार्ज किया। हिंसा के बाद, जिला प्रशासन ने दावणगेरे और हरिहर शहरों में निषेधाज्ञा लागू कर दी है। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार हिंसक घटना में कई पुलिसकर्मी और छात्र घायल हो गए हैं। कई दोपहिया वाहन क्षतिग्रस्त हो गए हैं और दावणगेरे शहर में तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है। सभी संवेदनशील जगहों पर पुलिस तैनात कर दी गई है।

स्थानीय कांग्रेस विधायक, रामप्पा छात्रों को शांत करने के लिए मौके पर पहुंच गए हैं। हालांकि नाराज छात्रों की विधायक से तीखी नोकझोंक हुई। हरिहर कॉलेज में करीब 2500 छात्र पढ़ते हैं। परेशानी तब शुरू हुई, जब हिजाब के समर्थन में लोगों का एक समूह कॉलेज में आ गया। भगवा शॉल पहने छात्रों के साथ समूह का विवाद हो गया और जल्द ही स्थिति हिंसक हो गई।

खतरे को भांपते हुए पुलिस मौके पर पहुंची और बाहर खड़ी भीड़ को कॉलेज परिसर से बाहर निकलने को कहा। बाहरी लोगों का समूह हिलने का नाम नहीं ले रहा था और युवाओं की भीड़ वहीं जमी रही। उन्होंने दावा किया कि उन्हें हिजाब पहनने वाले छात्रों की रक्षा करनी है। भगवा शॉल पहने छात्रों के दूसरे समूह ने इसका विरोध किया और जल्द ही पथराव शुरू हो गया।

भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया। एक आपत्तिजनक सोशल मीडिया पोस्ट के बाद शहर में सोमवार रात भी विरोध प्रदर्शन हुआ था। यह घटना तब सांप्रदायिक हो गई, जब कथित तौर पर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगे। हालांकि पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में कर लिया। दावणगेरे प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेज में बाहरी लोगों और छात्रों के बीच टकराव के कारण तनावपूर्ण स्थिति बनी रही।

पुलिस ने एहतियात के लिए लाठीचार्ज किया और भीड़ को तितर-बितर किया। इस बीच, हाईकोर्ट हिजाब विवाद के मामले की सुनवाई कर रहा है और उम्मीद है कि वह मंगलवार शाम को अपना फैसला सुनाएगा। सरकार ने कहा है कि वह इस मामले में अदालत के फैसले के बाद वर्दी के साथ हिजाब पहनने पर स्पष्ट आदेश जारी करेगी।

(आईएएनएस)