comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

यूपी : स्कूल गए तीन बच्चों की तालाब में डूबने से मौत, स्कूल प्रिसिंपल और शिक्षकों के खिलाफ FIR दर्ज

July 12th, 2018 17:53 IST

हाईलाइट

  • उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले तीन छात्रों की तालाब में डूबने से मौत हो गई।
  • पुलिस ने स्कूल के प्रिंसिपल और संबंधित शिक्षकों के खिलाफ FIR दर्ज की है।
  • यह मामला पाली थाना क्षेत्र के भरखनी गांव में सरकारी स्‍कूल का है।

डिजिटल डेस्क, हरदोई। उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले में बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षकों की लापरवाही की वजह से तीन मासूमों की मौत हो गई है। मिली जानकारी के मुताबिक बुधवार को ये सभी बच्चे स्कूल में लंच के दौरान नहाने और शौच के लिए जैसे-तैसे तालाब पहुंचे थे। इसी दौरान तालाब में डूब गए। मरने वालों में दो सगे भाई मोहित और हर्षि है। इनके अलावा एक मृतक बच्चे का नाम सूर्यांश है। परिजनों के शिकायत के आधार पर पुलिस ने स्कूल के प्रिंसिपल और संबंधित शिक्षकों के खिलाफ FIR दर्ज की है। पुलिस ने परिजनों को इस मामले में सख्त जांच का भरोसा भी दिलाया। यह मामला पाली थाना क्षेत्र के भरखनी गांव में सरकारी स्‍कूल का है। पुलिस के मुताबिक हादसे में दो सगे भाईयो की मौके पर ही मौत हो गई और सूर्यांश नाम के बच्चे ने देर रात अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

यह है पूरा घटनाक्रम 

तालाब में डबते इन बच्चों पर कुछ लोगों की नजर गड़ी तो वो तुरंत इन बच्चों की मदद के लिए पहुंचे, लेकिन तबतक काफी देर हो चुकी थी। दो बच्चों की मौके पर मौत हो गई। लोगों ने एक बच्चे को जैसे-तैसे अस्पताल पहुंचाया। लेकिन इस बच्चे ने देर रात अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। हादसे के बाद पूरे गांव में कोहराम मच गया है। बच्चे के शवों को लेकर परिजन स्कूल पहुंच गए। ग्रामीणों की मांग है कि तालाब में बच्‍चों के डूबने की घटना में दोष‍ियों के ख‍िलाफ कार्रवाई की जाए। ग्रामीणों का हंंगामा देख स्कूल में भारी पुलिस बल तैनात किया गया था। ग्रामीणों के बढ़ता देख एसडीएम मौके पर पहुंचे शांत कराया। ग्रामीणों ने एसडीएम से स्कूल प्रधान सहित शिक्षा विभाग के सभी जिम्मेदारों पर कार्रवाई मांग की। पुलिस ने मामले में एफआईआर दर्ज की तब जाकर लोगों ने बच्चों का अंतिम संस्कार किया। 

Image result for HARDOI 3 students drown in pond during school hours

सरकारी स्कूल के ये है हालात 

भरखनी गांव में सरकारी स्‍कूल में शौचालय गंदे पड़े हैं। इसकी वजह से स्‍कूल के बच्‍चे तालाब के पास जाकर शौचालय करने को मजबूर होते हैं। शौचालय जाते वक्‍त ही तीन बच्‍चे हादसे का श‍िकार हो गए। इतना ही नहीं विद्यालय में एक हैंडपंप है लेकिन वह भी काफी अरसे से खराब पड़ा हुआ है। 


Related image


 

कमेंट करें
SyP17
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।