comScore

शिवसेना ने याद दिलाया 50-50 फार्मूला, फडनवीस बोले- समय आने पर बताएंगे क्या तय किया?

शिवसेना ने याद दिलाया 50-50 फार्मूला, फडनवीस बोले- समय आने पर बताएंगे क्या तय किया?

हाईलाइट

  • उद्धव ठाकरे ने गुरुवार को सत्ता में हिस्सेदारी के लिए भाजपा को 'पचास-पचास' का फार्मूला याद दिलाया
  • देवेन्द्र फडनवीस ने बीजेपी और शिवसेना के बीच जो तय हुआ था उसी पर आगे बढ़ने की बात कही

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित किए जाने के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने गुरुवार को सत्ता में हिस्सेदारी के लिए भाजपा को 'पचास-पचास' का फार्मूला याद दिलाया। उधर, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस ने बीजेपी और शिवसेना के बीच जो तय हुआ था उसी पर आगे बढ़ने की बात कही।

देवेन्द्र फडनवीस ने कहा, 'शिवसेना और हमारे (भाजपा) बीच जो तय हुआ है, उसके अनुसार हम आगे बढ़ने वाले हैं। सही समय आने पर आपको पता चल जाएगा कि हमनें क्या तय किया है।' उन्होंने कहा, '15 निर्दलीय विधायकों ने मुझसे संपर्क किया है और वे हमारे साथ आने के लिए तैयार हैं। दूसरे भी आ सकते हैं लेकिन ये 15 हमारे साथ आएंगे। इनमें से ज्यादातर भाजपा या शिवसेना के बागी हैं।'

फडनवीस ने कहा, 'हमारे लिए दो परिणाम चौंकाने वाले हैं - सतारा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के बायपोल और परली विधानसभा क्षेत्र। हमारे 6 मंत्री हार गए हैं, हम कल से कारणों का पता लगाएंगे। आज का दिन हमारी जीत का जश्न मनाने का है और हमें ऐसा करने दिया जाए।'

उद्धव ठाकरे ने कहा, 'भाजपा को उस फॉर्मूले को याद दिलाने का समय आ गया है जब भाजपा प्रमुख अमित शाह ने मेरे घर आए थे। हमने गठबंधन के लिए पचास-पचास का फॉर्मूला तय किया था।' जनादेश को 'कई लोगों के लिए आंख खोलने वाला' बताते हुए, ठाकरे ने कहा कि राज्य के लोगों ने लोकतंत्र को जीवित रखा है। अब कोई भी ईवीएम पर सवाल नहीं उठाएगा।'

सेना प्रमुख ने कहा, 'राजनीतिक दलों को अपने पैर ज़मीन पर रखने की ज़रूरत है। अन्यथा, लोग उन्हें अपना स्थान दिखाते हैं।' शिवसेना प्रमुख ने अपने बेटे आदित्य ठाकरे को वर्ली सीट पर जीत के लिए बधाई दी और महाराष्ट्र के लोगों से उनके परिवार के लिए आशीर्वाद मांगा।

बता दें कि शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने गुरुवार को मुंबई के वर्ली विधानसभा क्षेत्र से जीत दर्ज की। 29 वर्षीय युवा सेना प्रमुख ने अपने एनसीपी प्रतिद्वंद्वी सुरेश माने को 70,000 से अधिक मतों के अंतर से हराया। ठाकरे, जिन्हें उनकी मुख्यमंत्री बनाना चाहती है, वह चुनाव मैदान में उतरने वाले अपने परिवार के पहले सदस्य हैं। ट्विटर पर भी आदित्य की जीत के बाद आदित्य फॉर सीएम ट्रेंड कर रहा है।

कमेंट करें
19uJr