दैनिक भास्कर हिंदी: CAA के खिलाफ कांग्रेस का सत्याग्रह, राहुल बोले- जो देश के दुश्मन नहीं कर सके वो मोदी ने किया

December 24th, 2019

हाईलाइट

  • कांग्रेस ने सीएए के खिलाफ राजघाट स्थित महात्मा गांधी समाधि स्थल के पास सत्याग्रह किया
  • राहुल गांधी ने इस दौरान मोदी सरकार पर निशाना साधा
  • राहुल ने कहा- जो दुश्मन नहीं कर सके वो पीएम मोदी ने किया

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कांग्रेस ने सोमवार को नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ राजघाट स्थित महात्मा गांधी समाधि स्थल के पास सत्याग्रह किया। सत्याग्रह में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी सहित शीर्ष कांग्रेस नेतृत्व और सैकड़ों पार्टी समर्थक शामिल हुए।

राहुल गांधी ने इस दौरान मोदी सरकार पर निशाना साधा कहा, 'देश के दुश्मनों ने देश की अर्थव्यवस्था को नष्ट करने के लिए पूरे प्रयास किए, लेकिन हमारे दुश्मन जो नहीं कर सके, वह आज पीएम नरेंद्र मोदी कर रहे हैं।' राहुल ने कहा, 'नरेंद्र मोदी जी, जब आप छात्रों पर गोलियां चलाते हैं और जब आप उन पर लाठीचार्ज करते हैं, या जब आप पत्रकारों को धमकी देते हैं, तो आप देश की आवाज को दबाने की कोशिश करते हैं।'

सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह और राहुल गांधी ने छात्रों व युवाओं के साथ एकजुटता दिखाते हुए सत्याग्रह आंदोलन शुरू करने से पहले संविधान की प्रस्तावना को पढ़ा। छात्र व युवक, नागरिकता संशोधन विधेयक के 13 दिसंबर को पारित होने के बाद से देश भर में नए कानून को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। पार्टी सदस्यों ने भाजपा की अगुवाई वाली सरकार की नीतियों के खिलाफ एक मिनट का मौन रखा। सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह वहां से एक घंटे बाद चले गए।

प्रियंका गांधी ने प्रस्तावना को हिंदी में पढ़ने से पहले सीएए प्रदर्शन में शहीद सभी लोगों का नाम लिया। उनकी पार्टी ने संविधान की रक्षा का संकल्प लिया। उन्होंने बिजनौर के 22 वर्षीय अनस व 21 वर्षीय सुलेमान का नाम लिया। अनस, कॉफी-वेंडिंग मशीन के जरिए अपने परिवार के लिए पैसा कमाता था और उसकी हाल में शादी हुई थी। सुलेमान यूपीएससी की पढ़ाई कर रहा था।

प्रियंका ने कहा कि रविवार को सुलेमान की मां की आंखों में आंसू थे और उन्होंने कहा कि उनका बेटा देश के लिए शहीद हो गया। प्रियंका गांधी ने कहा, इस आंदोलन में शहीद हुए सभी बच्चों के नाम पर.. आज हम संकल्प लेते हैं कि हम संविधान की रक्षा करेंगे और इसे बर्बाद करने की इजाजत नहीं देंगे। वहीं वेणुगोपाल ने कहा कि विरोध सत्तावादी सरकार के खिलाफ और आंदोलनकारी छात्रों व नागरिक समाज के साथ खड़े होने के लिए है। यह विरोध सरकार को भारत के संविधान की ताकत की याद दिलाने के लिए भी है।

प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ मौजूद वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं में गुलाम नबी आजाद, अहमद पटेल, मल्लिकार्जुन खड़गे, आनंद शर्मा और ए.के.एंटनी शामिल थे। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के अलावा महासचिव मुकुल वासनिक, के.सी.वेणुगोपाल भी सीएए को लेकर विरोध प्रदर्शन के लिए ऐतिहासिक स्थल पर पहुंचे थे।

खबरें और भी हैं...