दैनिक भास्कर हिंदी: आर्मी का हेलीकॉप्टर क्रैश, भूटान और भारत के पायलट थे सवार, दोनों ने गंवाई जान

September 28th, 2019

हाईलाइट

  • भारतीय सेना का एक चीता हेलीकॉप्टर भूटान में दुर्घटनाग्रस्त हो गया
  • इस हादसें में दोनों पायलटों ने अपनी जान गंवा दी
  • हेलीकॉप्टर खिरु (अरुणांचल) से योंफुला (भूटान) जा रहा था

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय सेना का एक चीता हेलीकॉप्टर शुक्रवार को फॉगी वेदर के चलते भूटान में दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस हादसें में दो पायलटों ने अपनी जान गंवा दी। हेलीकॉप्टर खिरु (अरुणांचल) से योनफुला (भूटान) जा रहा था।

इनमें से एक पायलट भारतीय जबकि दूसरा भूटानी था जो कि भारतीय सेना के साथ प्रशिक्षण ले रहा था। भारतीय सैन्य प्रशिक्षण दल (IMTRAT) भूटान में भारतीय सेना का प्रशिक्षण मिशन है।

भारतीय सेना के प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद ने कहा, 'इंडियन आर्मी का एक हेलीकॉप्टर भूटान के योनफुला में डोमेस्टिक एयरपोर्ट के करीब दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हेलीकॉप्टर से दोपहर 1 बजे के बाद रेडियो और विजुअल संपर्क टूट गया या। यह खिरु (अरुणांचल प्रदेश) से योनफुला जा रहा था।'

उन्होंने कहा कि ' हेलीकॉप्टर से संपर्क टूटने के बाद योनफुला में ग्राउंड सर्च और रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया गया जिसमें मलबे को देखा गया।'

प्रवक्ता ने कहा, 'मृत पायलटों में रॉयल भूटान आर्मी के एक कैप्टन और इंडियन आर्मी एविएशन कोर के लेफ्टिनेंट कर्नल शामिल हैं। ये दोनों सिंगल इंजन चीता हेलीकॉप्टर को ऑपरेट कर रहे थे।'

बता दें कि चीता हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल 80 के दशक से होता आ रहा है। आर्मी अफसर लंबे समय से इसे हटाने की मांग कर रहे हैं। ये हेलिकॉप्टर आज भी 60 के दशक की तकनीक से उड़ान भर रहे हैं। चीता हेलिकॉप्टर अपनी तय उम्र से ज्यादा सेवा दे रहे हैं।

 

 

इससे पहले सोमवार को भी उत्तराखंड के केदारनाथ में एक हेलिकॉप्टर हादसे का शिकार हो गया था। जानकारी के मुताबिक लैंडिंग के समय हेलिकॉप्टर का संतुलन बिगड़ गया। इसमें एक पायलट और 5 यात्री सवार थे। गनीमत रही कि जान माल का नुकसान नहीं हुआ।

खबरें और भी हैं...