comScore

J&K: सांबा सेक्टर में इंटरनेशनल बॉर्डर के पास मिली 150 मीटर लंबी भूमिगत सुरंग

J&K: सांबा सेक्टर में इंटरनेशनल बॉर्डर के पास मिली 150 मीटर लंबी भूमिगत सुरंग

हाईलाइट

  • जम्मू-कश्मीर के सांबा सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास एक भूमिगत सुरंग
  • डीजीपी दिलबाग सिंह ने रविवार को इसकी जानकारी दी

डिजिटल डेस्क, जम्मू। जम्मू-कश्मीर के सांबा सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास एक भूमिगत सुरंग का पता चला है। डीजीपी दिलबाग सिंह ने रविवार को इसकी जानकारी दी। वहीं बीएसएफ जम्मू के आईजी एस एन जामवाल ने कहा, 'ऐसा लगता है कि नगरोटा एनकाउंटर में शामिल आतंकवादियों ने 30-40 मीटर लंबी सुरंग का इस्तेमाल किया क्योंकि यह नई टनल है। हमें लगता है कि आतंकियों के पास एक गाइड था जिसने उन्हें हाइवे तक पहुंचाया।' दरअसल, सुरक्षाबलों को संदेह था कि नगरोटा में मारे गए जैश-ए-मोहम्मद के चार आतंकवादियों ने पाकिस्तान से देश में घुसने के लिए सुरंग का इस्तेमाल किया होगा। इसी वजह से सुरंग का पता लगाने के लिए बड़े पैमाने पर ऑपरेशन शुरू किया।

बता दें कि नगरोटा के पास जम्मू में गुरुवार को हुई मुठभेड़ में जैश के 4 आतंकी मारे गए थे। आतंकी ट्रक में भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद ले जा रहे थे। पुलिस अधिकारी ने बताया कि आतंकियों के पास से 11 एके-47 राइफल और पिस्तौलें भी बरामद की गई हैं। पूरी संभावना है कि वे कोई बड़ी योजना बना रहे थे। जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजी दिलबाग सिंह ने कहा था जैश-ए-मोहम्मद के 4 आतंकवादियों के समूह ने बुधवाक रात सांबा में अंतर्राष्ट्रीय सीमा से भारत में घुसपैठ की थी। ये चारों कश्मीर की ओर जाने वाले एक ट्रक में यात्रा कर रहे थे। इस ट्रक को टोल प्लाजा के पास पुलिस ने रोका गया जिसके बाद हुई मुठभेड़ में ये चारों मारे गए।

जम्मू के आईजी मुकेश कुमार ने कहा, आतंकियों के इस मूवमेंट के बारे में हमें खास इनपुट मिला था। हमें पता चला था कि ये आतंकवादी आगामी जिला विकास परिषद (डीडीसी) के चुनावों में रुकावट डालने की योजना बना रहे थे। इनपुट मिलने के बाद राजमार्ग पर सुरक्षा कड़ी कर दी गई और वाहनों की पूरी जांच की जा रही है।

उन्होंने कहा कि सुबह 5 बजे के आसपास आतंकियों को ले जा रहे ट्रक को जब रोका गया तो पूछताछ करने पर ड्राइवर अचकचा गया और कूदकर भागने लगा। पुलिस की टीम पर ट्रक के अंदर से गोली चली और फिर जवाबी कार्रवाई में जैश-ए-मोहम्मद के 4 आतंकवादी मारे गए। उनके पास से 11 एके-47 राइफल और 3 पिस्तौल सहित भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया गया है। कुमार ने कहा, वे बड़ी योजना बना रहे थे। प्रत्येक आतंकवादी कम से कम 3 एके-47 राइफल ले जा रहा था।

जम्मू-कश्मीर के नगरोटा में बड़ी आतंकी साजिश को नाकाम करने के बाद शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हाई लेवल मीटिंग की थी। इस मीटिंग में  गृहमंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और विदेश सचिव शामिल हुए। नगरोटा मुठभेड़ से संबंधित अधिकारी भी इस मीटिंग में मौजूद रहें। बताया जा रहा है कि आतंकी 26/11 की बरसी पर बड़ा आतंकी हमला करना चाहते थे। 

पीएम नरेंद्र मोदी ने इस मीटिंग के बाद कहा, 'हमारे सुरक्षा बलों ने एक बार फिर अत्यंत बहादुरी और पेशेवर तरीका प्रदर्शित किया। उनकी सतर्कता के कारण, उन्होंने जम्मू-कश्मीर में जमीनी स्तर के लोकतांत्रिक प्रयासों को खत्म करने के एक नापाक साजिश को हराया है। पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े 4 आतंकवादियों का एनकाउंटर और उनके पास से बड़ी मात्रा में हथियारों और विस्फोटकों की मौजूदगी यह संकेत देती है कि साजिश को एक बार फिर विफल कर दिया गया है।'

कमेंट करें
u9XfM
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।